न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आरबीआइ ने किया नियमों में बदलाव- अब डिजिटल पेमेंट के लिए एटीएम पिन नहीं ओटीपी देना जरूरी होगा

398

Mumbai: डिजिटल भुगतान को सुरक्षित बनाने के लिए आरबीआइ ने कुछ नये नियम जारी किये हैं. 2000 रुपये से अधिक के भुगतान के लिए ग्राहक सत्यापन के लिए केवल ओटीपी का इस्‍तेमाल कर पायेंगे.

रेजरपे, सीसी एवेन्यू जैसे पेमेंट एग्रीगेटरों को अब ऑनलाइन लेनदेन को पूरा करने के लिए ग्राहकों को एटीएम पिन के इस्‍तेमाल का विकल्प देना बंद करना होगा.

इसे भी पढ़ें – #Corona के 170 पॉजिटिव केस, दिल्ली में एक संदिग्ध मरीज ने दी जान, आज राष्ट्र को संबोधित करेंगे प्रधानमंत्री

ऑनलाइन फ्रॉड में कमी आने की उम्मीद

आरबीआइ का मकसद यह है कि डिजिटल पेमेंट को ग्राहकों के लिए ज्‍यादा सुरक्षित  और सुविधाजनक बनाया जाये. इस नियम के लागू होने से ऑनलाइन पेमेंट में होनेवाले फ्रॉड में कमी आने की उम्मीद है. साथ ही ग्राहकों के वित्तीय डेटा को सुरक्षित रखने में मदद मिलेगी.

एक व्यक्ति का एटीएम पिन एग्रीगेटर या पेमेंट गेटवे (या यहां तक कि हैकर) के लिए ऑनलाइन उपलब्ध नहीं होगा. इस तरह सुरक्षा बढ़ेगी.

Whmart 3/3 – 2/4

इसके अलावा आरबीआइ ने ऐसे एग्रीगेटरों को यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि सभी रिफंड को भुगतान के मूल स्रोत में वापस जमा किया जाये. खासतौर से तब जब ग्राहक किसी वैकल्पिक स्रोत को क्रेडिट करने के लिए विशेष रूप से सहमति नहीं देता है.

अभी कई ई-कॉमर्स कंपनियां या तो अनिवार्य रूप से या डिफॉल्‍ट तौर पर ग्राहकों के ई-वॉलेट में रिफंड को क्रेडिट करती हैं. नतीजतन, ग्राहक को अपने बैंक खाते में पैसा वापस नहीं मिल पाता है.

इसे भी पढ़ें – पूर्व #CJI रंजन गोगोई ने ली राज्यसभा सांसद के तौर पर शपथ, विपक्ष का वॉकआउट

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like