BusinessNational

रेटिंग एजेंसी फिच सॉल्यूशंस ने कहा- राहत पैकेज दिखने में बड़ा, लेकिन असल में नहीं

विज्ञापन

New Delhi: रेटिंग एजेंसी फिच सॉल्यूशंस ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 संकट से उबरने के लिए सरकार द्वारा घोषित 20.97 लाख करोड़ रुपये का आर्थिक प्रोत्साहन पैकेज तात्कालिक चिंताओं को पूरा करने में सक्षम नहीं है. ऐसा इसलिए है क्योंकि इसके तहत दिया गया वास्तविक राजकोषीय प्रोत्साहन जीडीपी का सिर्फ एक प्रतिशत है. जबकि दावा किया गया है कि ये जीडीपी का 10 प्रतिशत है.

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 मई को 20 लाख करोड़ रुपये के ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’ पैकेज की घोषणा की थी, जो जीडीपी के करीब 10 प्रतिशत के बराबर है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पांच किस्तों इस पैकेज की विस्तृत घोषणाएं की.

इसे भी पढ़ें- भारत में जाति या धर्म से ऊपर उठ पाना नामुमकिन है : ‘पाताल लोक’ के लेखक सुदीप शर्मा  

advt

भारत की अर्थव्यवस्था का संकट बढ़ रहा है

फिच सॉल्युशंस ने अपने नोट में कहा कि पैकेज की करीब आधी राशि राजकोषीय कदमों से जुड़ी है. जिसकी घोषणा पहले की जा चुकी थी. साथ ही इसमें रिजर्व बैंक की मौद्रिक राहत वाली घोषणाओं के अर्थव्यवस्था पर पड़ने वाले अनुमान को भी जोड़ लिया गया.

रेटिंग एजेंसी फिच के मुताबिक यह केंद्र सरकार की कोविड-19 संकट के बीच राजकोषीय विस्तार की अनिच्छा को दिखाता है. जबकि देश की आर्थिक वृद्धि दर 2020-21 में 1.8 प्रतिशत रहने का अनुमान है. 

फिच ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था का संकट बढ़ रहा है, क्योंकि एक तरफ कोविड-19 का संक्रमण बढ़ रहा है, वहीं दूसरी तरफ घरेलू और वैश्विक दोनों मांग भी कमजोर है. हमारा मानना है कि सरकार के प्रोत्साहन में जितनी देरी होगी अर्थव्यवस्था के नीचे जाने का खतरा उतना बढ़ता जाएगा. अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए सरकार को और अधिक खर्च करने की जरूरत है, हालांकि इस वजह से राजकोषीय घाटा बढ़ सकता है.

इसे भी पढ़ें- जानें क्यों गोल्डमैन सैक्स ने कहा- भारत की घटेगी विकास दर, इसका आम जनता पर क्या होगा असर

नया व्यय जीडीपी का मात्र एक प्रतिशत

नोट के मुताबिक 13 से 17 मई के बीच की गयी घोषणाओं में सरकार ने ऋण गारंटी, ऋण चुकाने की अवधि में विस्तार इत्यादि के साथ नियामकीय सुधार किये हैं. हालांकि, पैकेज के तहत किया जाने वाला नया व्यय जीडीपी का मात्र एक प्रतिशत है.

रेटिंग एजेंसी के मुताबिक यह पैकेज अर्थव्यवस्था की तात्कालिक चुनौतियां से निपटने में सक्षम नहीं है. इसलिए हम वित्त वर्ष 2020-21 के लिए केंद्र सरकार और देश के संयुक्त स्तर पर घाटे का अनुमान बढ़ाकर क्रमश: सात प्रतिशत और 11 प्रतिशत कर रहे हैं. पहले यह अनुमान क्रमश: 6.2 प्रतिशत और नौ प्रतिशत था. 

इसे भी पढ़ें- अब हम क्या करें?     

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close