न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

हिमा दास मामले में राठौड़ ने कहा, मेरे ऊपर बहुत जिम्मेदारी, टिप्पणी नहीं कर सकता

विश्व अंडर-20 चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली हिमा दास की अंग्रेजी को लेकर भारतीय एथलेटिक्टस महासंघ (एएफआई) की टिप्पणी पर हंगामा मचा हुआ है.

378

NewDelhi :  विश्व अंडर-20 चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीतने वाली हिमा दास की अंग्रेजी को लेकर भारतीय एथलेटिक्टस महासंघ (एएफआई) की टिप्पणी पर हंगामा मचा हुआ है. इस पर प्रतिक्रिया मांगे जाने पर केंद्रीय खेल और युवा मामलों के मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने कहा कि मेरे ऊपर बहुत जिम्मेदारी हैं और मैं सभी पर टिप्पणी नहीं कर सकता. लोकसभा में  गुरुवार को प्रश्नकाल के दौरान गौरव गोगोई ने पूरक प्रश्न पूछते हुए राठौड़ से मांग की थी कि वह हिमा दास को लेकर एएफआई की टिप्पणी पर स्पष्टीकरण दें. पहले तो मंत्री ने इस बारे में कुछ नहीं कहा लेकिन गोगोई के बार-बार जोर देने पर उन्होंने कहा, मेरे ऊपर बहुत जिम्मेदारी हैं, सभी पर टिप्पणी नहीं कर सकता.

राठौड़ के इस वक्तव्य पर गोगोई समेत कांग्रेस के अन्य सांसद विरोध जताने लगे. राठौड़ के पूरे जवाब के दौरान गोगोई उनसे स्पष्टीकरण की मांग करते रहे. खेल मंत्री से बयान की पुरजोर मांग कर रहे विपक्ष के कुछ सदस्यों से बैठने का आग्रह करते हुए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने कहा, उन्होंने (राठौड़ ने) कोई ऐसी गलती नहीं की है.

इसे भी पढ़ेंःविधानसभा :  सीपी सिंह ने सुखदेव भगत को छोड़कर, हेमंत, प्रदीप सहित विपक्ष के सभी को देशद्रोही बताया

युवा मंत्री हैं, काम अच्छा कर रहे हैं : सुमित्रा महाजन

silk_park

सुमित्रा महाजन ने कहा, युवा मंत्री हैं. काम अच्छा कर रहे हैं. हिमा दास के पदक जीतने के बाद अपने ट्वीट में एएफआई ने कहा था कि पहली जीत के बाद मीडिया से बातचीत करते हुए हिमा की अंग्रेजी उतनी अच्छी नहीं थी. लेकिन उन्होंने अच्छी कोशिश की. हमें आप पर गर्व है. बाद में आलोचना होने पर महासंघ ने खेद जताते हुए कहा कि हमारा उद्देश्य यह दर्शाना था कि हमारी धाविका किसी भी कठिनाई से नहीं घबराती. हमारे ट्वीट से जो भी भारतवासी आहत हुए, हम उनसे खेद जताते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: