Court NewsLead NewsNational

केवल पुरी में निकलेगी रथयात्रा, SC ने दूसरे स्थानों पर भी रथ यात्रा की मांग खारिज की

अन्य दूसरे स्थानों पर भी रथ यात्रा निकलने की मांग वाली अर्ज़ी खारिज

New Delhi : सुप्रीम कोर्ट ने ओडिशा में पुरी के अलावा अन्य दूसरे स्थानों पर भी रथ यात्रा निकलने की मांग वाली अर्ज़ी पर हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने रथयात्रा के मामले में ओडिशा सरकार के आदेश में हस्तक्षेप करने से इंकार कर दिया.

याचिका खारिज करते हुए CJI की टिप्पणी करते हुए कहा कि “मुझे भी बुरा लगता है लेकिन हम कुछ नहीं कर सकते. हम आशा करते हैं कि भगवान जगन्नाथ कम से कम अगली बार रथयात्रा की अनुमति देंगे. लोग अपने घर से भगवान से प्रार्थना कर सकते हैं.”

इसे भी पढ़ें :मोदी मंत्रिमंडल का विस्तार 8 जुलाई को, नीतीश ने पेंच लगाया, आज शाम पीएम आवास पर होने वाली बैठक रद्द

क्या कहा ओडिशा सरकार ने

ओडिशा सरकार की तरफ से कहा गया कि पुरी में शर्तों के साथ रथ यात्रा निकालने के लिए की इजाज़त दी गई है, पूरे राज्य में रथ यात्रा निकालने की इजाज़त नहीं दी जा सकती है. रथ को 500 लोगों के लिए खींचा गया है, जिनके पास आरटीपीसीआर टेस्ट है. ओडिशा सरकार ने कहा रथ यात्रा की अनुमति न दें. ओडिशा के अन्य शहरों और गांवों (पुरी को छोड़कर) में रथ यात्रा की अनुमति नहीं देने से लोगों की आस्था प्रभावित नहीं होगी.

इसे भी पढ़ें :कांग्रेस में टूट की खबरों के बीच राहुल ने दिल्ली में बुलाई बिहार के 36 नेताओं की मीटिंग

ओडिशा में सभी स्थानों पर रथ यात्रा की अनुमति मांगी थी

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा ओडिशा में सभी स्थानों पर रथ यात्रा की अनुमति दी जानी चाहिए. एसजी तुषार मेहता ने कहा कि पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने रथ यात्रा पर पूर्ण रूप से रोक लगाई थी. ओडिशा सरकार ने अब केवल पुरी को ही यात्रा की इजाज़त दी है, लेकिन ऐसे और भी स्थान हैं जहां यात्रा सदियों से चल रही है. ऐसे में सुप्रीम कोर्ट को अपने पुराने फैसले में थोड़ा सा बदलाव करके शर्तों के साथ रथ यात्रा की इजाज़त देनी चाहिए, जिससे स्वास्थ्य और धार्मिक मान्यताओं दोनों को बचाया जा सके.

इसे भी पढ़ें :द्रौपदी मुर्मू हटाईं गईं, रमेश बैस बने झारखंड के राज्यपाल

बारीपदा भगवान जगन्नाथ मंदिर ने भी मांगी थी अनुमति

सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई के दौरान बारीपदा भगवान जगन्नाथ मंदिर के वकील एके श्रीवास्तव ने कहा की हमें दूसरा पुरी माना जाता है. हमने कोरोना प्रोटोकॉल के तहत रथ यात्रा निकलने की तैयारी शुरू कर दी है. हमारे सभी वोलेंटियर का कोरोना टेस्ट निगेटिव आयी है. एक अन्य याचिकाकर्ता ने नीलगिरी और ससनांग में भी रथ यात्रा निकालने की इजाज़त मांगी.

इसे भी पढ़ें :बीबीकेएमयू में स्टूडेंट्स का होगा इंश्योरेंस, अगले साल से ट्यूशन फीस के साथ देने होंगे 72 रुपये अतिरिक्त

Related Articles

Back to top button