न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

 रेप मामला : भीड़ से डरे यूपी, बिहार, एमपी के लोग गुजरात से लौट रहे हैं

डीजीपी शिवानंज झा ने कहा कि हिम्मतमनगर के गम्बोई रेप मामले के विरोध में कुछ लोग उन लोगों को निशाना बना रहे हैं जो दूसरे राज्यों से गुजरात आये हैं.  यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है

212

Ahmedabad : गुजरात में रह रहे यूपी, एमपी और बिहार के निवासी यहां से पलायन कर रहे हैं. बता दें कि अहमदाबाद सहित आसपास के जिलों में सालों से रह रहे हिंदीभाषी लोग भागने को विवश हैं. गुस्‍साई भीड़ 14 माह की बच्‍ची से दुष्‍कर्म के बाद, गैर-गुजरातियों पर हमलावर है. गुजरात पुलिस के डीजीपी शिवानंज झा ने समाचार एंजेंसी एएनआई से कहा कि हिम्मतमनगर के गम्बोई रेप मामले के विरोध में कुछ लोग उन लोगों को निशाना बना रहे हैं जो दूसरे राज्यों से गुजरात आये हैं.  यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है.  हमने 150 से अधिक ऐसे लोगों को गिरफ्तार कर लिया है और ऐसे इलाकों में गश्त लगा रहे हैं, जहां अधिक गैर-गुजराती लोग हैं.  पुलिस ने बताया कि 28 सितंबर को साबरकांठा जिले के हिम्मतनगर कस्बे के पास एक गांव में 14 माह की बच्ची से कथित तौर पर बलात्कार हुआ था. उन्होंने बताया कि बिहार के रहने वाले रविंद्र साहू नाम के मजदूर को घटना वाले दिन ही गिरफ्तार कर लिया गया था.

झा ने संवाददाताओं को बताया कि गैर गुजरातियों पर हमले के बाद से राज्य के विभिन्न जिलों में अब तक 18 प्राथमिकियां दर्ज की गई हैं.  साबरकांठा में पुलिस पेट्रोलिंग कर रही है. वहां स्थिति नियंत्रण में है. बता दें कि आरोपी की गिरफ्तारी के एक दिन बाद गांधी नगर, अहमदाबाद, पाटन, साबरकांठा और मेहसाना में गैर गुजरातियों को निशाना बनाने का मामला भड़क उठा.

इसे भी पढ़ें : मिजोरम-मध्‍य प्रदेश में 28 नवंबर और राजस्थान में 7 दिसंबर को वोटिंग 

hosp3

लगभग 1,500 लोग गुजरात छोड़कर चले गये हैं

वापस जाने के लिए बस का इंतजार कर रही मध्‍यप्रदेश के भिंड जिले की निवासी राजकुमारी जाटव ने बताया कि भीड़ ने गुरुवार को उस समय हमला किया, जब मेरे बच्‍चे गली में बाहर खेल रहे थे. वह अभी तक सदमे में हैं .  राजकुमारी तीन बच्‍चों और   पति के साथ अहमदाबाद के चांदलोदिया इलाके में स्थित प्रवासियों की कॉलोनी, महादेव नगर में रहते हैं.उसने बताया कि उनके कई पड़ोसी भी यहां से जा रहे हैं . धर्मेंद्र कुशवाहा(भिंड निवासी) ने जानकारी दी कि कुछ दिनों में यूपी, बिहार और मध्‍य प्रदेश के लगभग 1,500 लोग गुजरात छोड़कर चले गये हैं. कुशवाहा ने बताया कि नकाब पहने कुछ लोगों ने उससे कहा कि सुबह 9 बजे से पहले गुजरात छोड़ दे.

अहमदाबाद में रह रहे कुछ प्रवासियों ने बताया कि  मकान मालिकों ने घर खाली करने को कह दिया है. शनिवार छह अक्‍टूबर को लगभग 20 बसें यहां से यूपी, एमपी और बिहार रवाना हुईं. बदले हुए हालात को लेकर ठेकेदार कृष्‍णाचंद शर्मा ने कहा कि वे पिछले 22 साल से अहमदाबाद में रह रहे हैं. याद नहीं आता कि ऐसे हालात पहले देखे हों.  दुष्‍कर्म की खबर फेसबुक और व्‍हाट्सएप के जरिए जंगल में आग की तरह फैल गयी. जिससे हालात बिगड़ गये

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: