न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

खुल रहे हैं रंजय सिंह हत्याकांड के राजः रघुकुल में रची गई थी साजिश, नीरज सिंह को नहीं थी भनक

ट्रक का खलासी बन आरा पहुंचा था आरोपी मामा

602

Dhanbad:  रंजय सिंह हत्याकांड के राज परत दर परत खुलने लगे हैं. रंजय सिंह मर्डर में रिमांड पर लिए गए शूटर नंदकिशोर उर्फ बबलू उर्फ मामा ने पुलिस पूछताछ में बताया कि रघुकुल में ही रंजय की हत्या करने की योजना बनी थी. मामा और हर्ष सिंह (पूर्व डिप्टी मेयर स्वर्गीय नीरज सिंह के चचेरे भाई) दोनों रघुकुल में ही रहते थे. वहीं रंजय की हत्या की योजना पर काफी दिनों तक मंथन कर घटना को अंजाम दिया गया.

इसे भी पढ़ेंः रंजय सिंह हत्याकांड के आरोपी मामा को भेजा गया पुलिस कस्टडी में, खुल सकते हैं हत्या के कई राज

हालांकि, इसकी भनक तक पूर्व डिप्टी मेयर सह कांग्रेस नेता नीरज सिंह को नहीं थी. ये बातें एसएसपी मनोज रतन चौथे ने मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए कही हैं. उन्होंने बताया कि घटना को अंजाम देकर नंदकिशोर उर्फ मामा ट्रक का खलासी बनकर आरा आसानी से पहुंच गया.

hosp3

हर्ष सिंह को दी थी धमकी

हत्याकांड के राज खोलते हुए मामा ने बताया कि हत्याकांड से 25 दिन पहले हर्ष सिंह  झरिया से अपने घर धैया स्थित आवास जा रहा था. इसी बीच विधायक संजीव सिंह का काफिला पीछे से आ रहा था और उनका ड्राइवर आगे बढ़ने को लेकर लगातार हॉर्न  बजाकर पास मांग रहा था.  लेकिन हर्ष सिंह पास नहीं दे रहे थे. इसी दौरान विधायक के काफिले ने हर्ष की गाड़ी को ओवरटेक कर रुकवाया और उसके साथ गाली-गलोज करते हुए  हर्ष पर रंजय सिंह ने पिस्तौल तान दी.

साथ ही धमकी दी कि भविष्य में अगर दोबारा इस तरह की हरकत की  तो गोली मार देंगे. वही घर पहुंचते ही हर्ष ने मामा और चंदन शर्मा नामक शूटर को यह जानकारी देते हुए कहा कि  विधायक के साथ रहते-रहते रंजय का मन काफी बढ़ गया है. इसे मारना अब जरूरी हो गया है. नहीं तो, यह आने वाले समय में किसी को नहीं पहचानेगा.

इसे भी पढ़ेंः जांच के नाम पर पुलिस ने बना डाली दस हजार पन्नों की फाइल, सफेदपोशों को बचाने की कोशिश !

चंदन और ‘मामा’ ने हत्या को दिया था अंजाम

एसएसपी ने बताया कि हर्ष सिंह के इशारे पर बाढ़ के रहने वाले चंदन शर्मा के साथ मिलकर मामा ने रंजय की हत्या की साजिश रची और दोनों ने मिलकर उसे बिग बाजार के समीप सरेशाम गोली मारी. हत्या के बाद आरोपी मामा ट्रक का खलासी बन आरा पहुंच गया. इधर चंदन मोटरसाइकिल के माध्यम से स्टेशन पहुंचा और ट्रेन पकड़ कर बंगाल की ओर निकल गया.

इसे भी पढ़ेंः सुसाइड सिटी बनती राजधानी रांची ! पिछले 10 दिनों में आठ लोगों ने की आत्महत्या

गौरतलब है कि 2 साल पहले हर्ष ने ही चंदन शर्मा को रघुकुल में रखवाया था. हत्या की जानकारी हर्ष और उसके अलावा सिर्फ चंदन शर्मा को थी. पुलिस चंदन शर्मा के संबंध में जानकारी जुटाने में जुट गई. उल्लेखनीय है कि रंजय सिंह की हत्या पिछले साल 29 जनवरी की शाम को गोली मारकर की गई थी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: