Opinion

1857 के स्वतंत्रता संग्राम की महान योद्धा रानी लक्ष्मीबाई

जयंती पर विशेष

अंग्रेज और अधिकतर पश्चिमी इतिहासकार 1857 के संग्राम को सिर्फ सैनिक विद्रोह कह कर उसका महत्व कम करना चाहते है. इसके बावजूद भारतीयों ने इस संग्राम के महत्व को समझा है. वीडी सावरकर ने इस पर एक किताब भी लिखी थी. इस संग्राम में रानी लक्ष्मीबाई ने भी अपने हितों की रक्षा के लिए अंग्रेजों से मुकाबला किया.

Jharkhand Rai

मणिकर्णिका नाम दिया गया

रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर, 1828 को बनारस के एक मराठी ब्राह्मण परिवार में हुआ था. उन्हें मणिकर्णिका नाम दिया गया और घर में मनु कहकर बुलाया जाता था. मनु सिर्फ 4 बरस की थीं, जब मां गुज़र गईं. पिता मोरोपंत तांबे बिठूर ज़िले के पेशवा के यहां काम करते थे और पेशवा ने उन्हें अपनी बेटी की तरह पाला. प्यार से नाम दिया छबीली.

इसे भी पढ़ें:विधायक ने अधिकारियों के साथ गिरिडीह के छठ घाटों का लिया जायजा

झांसी की ओर बढ़े कदम

मणिकर्णिका का ब्याह झांसी के महाराजा राजा गंगाधर राव नेवलकर से हुआ था. देवी लक्ष्मी पर उनका नाम लक्ष्मीबाई पड़ा. इन्होंने बेटे को जन्म दिया, लेकिन 4 माह का होते ही उसका निधन हो गया. राजा गंगाधर ने अपने चचेरे भाई के बच्चे को गोद लिया और उसे दामोदार राव नाम दिया गया.

Samford

इसे भी पढ़ें:कहानियां झारखंड आंदोलन की-10 : जब सीधी कार्रवाई के दौरान बच्चों ने भी लगाया था नारा- हम भी जेल जायेंगे!

अंग्रेजों की साजिश, हड़प नीति

राजा का देहांत होते ही अंग्रेज़ों ने चाल चली. लॉर्ड डलहौज़ी ने ब्रिटिश साम्राज्य के पैर पसारने के लिए झांसी की बदकिस्मती का फायदा उठाने की कोशिश की. अंग्रेज़ों ने दामोदर को झांसी के राजा का उत्तराधिकारी स्वीकार करने से इनकार कर दिया.झांसी की रानी को सालाना 60000 रुपये पेंशन लेने और झांसी का किला खाली कर चले जाने के लिए कहा गया.

इसे भी पढ़ें:ढाई महीने में 76 बच्चों को खोज निकाला दिल्ली की हेड कॉन्स्टेबल सीमा ढाका ने , इनाम में मिला प्रमोशन और शाबाशी…  

रानी से मर्दानी तक

झांसी को बचाने के लिए रानी लक्ष्मीबाई ने बागियों की फौज तैयार करने का फैसला किया. उन्हें गुलाम गौस ख़ान, दोस्त ख़ान, खुदा बख़्ेश, सुंदर-मुंदर, काशी बाई, लाला भऊ बख़्दशी, मोती भाई, दीवान रघुनाथ सिंह और दीवान जवाहर सिंह से मदद मिली. झांसी में रानी ने 14000 बागियों की सेना तैयार की.

जब झांसी बना मैदान-ए-जंग

रानी लक्ष्मीबाई, अंग्रेज़ों से भिड़ना नहीं चाहती थीं लेकिन सर ह्यूज रोज़ की अगुवाई में जब अंग्रेज़ सैनिकों ने हमला बोला, तो कोई और विकल्प नहीं बचा. रानी को अपने बेटे के साथ रात के अंधेरे में भागना पड़ा. अंग्रेजों की विशाल और आधुनिक हथियारों से लैस सेना का मुकाबला लक्ष्मी बाई ने बहादुरी से किया लेकिन आखिरकार उन्हें अपनी शहादत देते हुए पराजित होना पड़ा.

ह्यूज बोले, 1857 के विद्रोहियों में एकमात्र मर्द लक्ष्मी बाई

ग्वालियर के फूल बाग इलाके में मौजूद उनकी समाधि आज भी उनके साहस और शौर्य की कहानी बयां कर रही है. जिस अंग्रेज सेनापति ह्यूज ने लक्ष्मीबाई को हराया था उसने लिखा है कि 1857 के विद्रोहियों में एकमात्र मर्द लक्ष्मी बाई थी.
हिंदी की प्रसिद्ध कवियित्री सुभद्राकुमारी चौहान ने भी अपनी कलम के ज़रिये उनकी साहस की जो गाथा हमारे सामने रखी, उसकी मिसाल दूसरी कोई नहीं!

खूब लड़ी मर्दानी वो तो झांसी वाली रानी थी
सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी,
बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी,
गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी,
दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी.
चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी,
बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी,
खूब लड़ी मर्दानी वो तो झाँसी वाली रानी थी.

 

(नवीन शर्मा, वरिष्ठ पत्रकार व लेखक)

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: