JharkhandRanchi

#RanchiUniversity: 12 लाख में जिम बनवाया, पर नहीं खोज पा रहे इंस्ट्रक्टर, दो सालों से पड़ा है बेकार

Rahul Guru

Ranchi : रांची विश्वविद्यालय स्टूडेंट्स के हेल्थ को लेकर इतना जागरूक है कि इसने हाल ही में 42 हजार स्टूडेंट्स का हेल्थ इंश्योरेंस कराया है.

पर इसी विजन के साथ लगभग चार साल पहले शुरू किया गया मल्टी जिम एक कमरे में बंद हो चुका है. वजह सिर्फ इतनी है कि यूनिवर्सिटी जिम के लिए इंस्ट्रक्टर नहीं मिल रहा है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

डॉ रमेश कुमार पांडेय बतौर वीसी अपने दूसरे कार्यकाल में हैं. इसके बाद भी इंस्ट्रक्टर के अभाव में जिम बंद पड़ा है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इस मल्टी जिम की शुरुआत बड़े धूम धाम से की गयी थी. तब डॉ पांडेय ने खुद एक्सरसाइज कर इसका उद्घाटन किया था.

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर- कहीं काम नहीं आया आयुष्मान कार्ड,  इलाज के अभाव में बेटे ने दम तोड़ा, पिता ने की शिकायत

बेकार पड़े हैं 12 लाख के लेटेस्ट इक्विपमेंट

रांची विश्वविद्यालय के बेसिक साइंस भवन के दो कमरे में यह मल्टी जिम है. मल्टी जिम में 12 लाख रुपये की लागत से इक्विपमेंट्स लगाये गये हैं. यहां एक्सरसाइज के लिए सभी लेटेस्ट व मॉडर्न इक्विपमेंट्स हैं.

जिम की दीवारों में चारों ओर मिरर भी लगाये गये हैं. जिम के लिए एक ऑफिस भी है. यहां के डायरेक्टर प्रो अशोक सिंह हैं. जिम के लिए मंथली फी 200 रुपये रखी गयी है.

यहां जिम करने के लिए स्टूडेट्स का रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी होता है. कुल मिलाकर मल्टी जिम के इस्तेमाल को लेकर सारी प्रक्रियाएं पूरी हैं. शुरुआत में कुछ दिनों तक जिम चला लेकिन इसके बंद हुए दो साल से ज्यादा हो चुका है.

इसे भी पढ़ें : #Palamu: विधायक आलोक चौरसिया की उम्र के मामले को सुप्रीम कोर्ट ले गये केएन त्रिपाठी   

इंस्ट्रक्टर के लिए एक माह करना होगा इंतजार

स्टूडेंट्स को जिम का फिर से इस्तेमाल करने के लिए अभी इंतजार ही करना होगा. जानकारी के मुताबिक रांची विवि को जिम चलाने के लिए इंस्ट्रक्टर ही नहीं मिल रहा है.

लगभग एक साल पहले विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से इंस्ट्रक्टर की नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू हुई थी, लेकिन जिम के लिए इंस्ट्रक्टर नहीं मिला.

रांची विवि के वीसी डॉ रमेश कुमार पांडेय ने बताया कि जिम को फिर से शुरू होने में अभी  महीने भर का इंतजार विद्यार्थियों को करना होगा.

इसे भी पढ़ें : #Jharkhand: सट्टेबाजी का बढ़ता काला बाजार, कहीं हत्या तो कहीं आत्महत्या के शिकार हो रहे युवा

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button