JharkhandKhas-KhabarRanchi

रांची के विराज ने 80 तक उल्टा पहाड़ा सुनाकर बनाया रिकॉर्ड, माता-पिता गदगद

Ranchi : पूत के पांव तो पालने में ही दिख जाते हैं. यही कहावत को चरितार्थ कर दिखाया है रांची के दो जुड़वा भाइयों ने. विराट और विराज महज सात वर्ष की उम्र में अपने क्षेत्र, राज्य और देश का नाम रोशन कर दिखाया है. अपने ही जुड़वा बड़े भाई से प्रेरित होकर विराज माकन ने अपनी अद्भुत बौद्धिक कौशलता से इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में अपना नाम दर्ज करवा लिया है. इतना ही नहीं छोटे उस्ताद ने उल्टा पहाड़ा सुनाकर एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में भी अपना नाम दर्ज करवाया है.

इसे भी पढ़ें : धनबाद नगर निगम की लापरवाही से कई मकान क्षतिग्रस्त, बाल-बाल बचे बच्चे

धनबाद में जन्मे और मूल रूप से रांची के रहने वाले 7 वर्षीय विराज माकन ने 10 मिनट 16 सेकेंड में 80 से एक तक का टेबल रिवर्स आर्डर में सुनाकर यह रिकार्ड बनाया है. विराज देश का दूसरे ऐसा बच्चा बन गया है जिसने रिवर्स आर्डर में टेबल पढ़ने का यह रिकार्ड बनाया है. इंडिया बुक ऑफ रिकार्ड्स की ओर से विराज को सर्टिफिकेट भी भेज दिया गया है.

advt

इसे भी पढ़ें : धनबादः डेको आउटसोर्सिंग में हैवी ब्लास्ट, दर्जनों घर क्षतिग्रस्त, तोड़फोड़, कई घायल

रिवर्स आर्डर में टेबल सुनाने का रिकार्ड जिस बच्चे के नाम पर पहला है वह विराज की ही जुड़वां भाई विराट माकन हैं. विराट के नाम 75 से दो तक का टेबल 11 मिनट 6 सेकेंड में सुनाने का रिकार्ड है. दोनों बच्चे रांची के सेंट मेरी स्कूल में दूसरी कक्षा के छात्र हैं. दोनों बच्चे के पिता गगन माकन पेशे से गणित के शिक्षक है. विराज अपने माता-पिता के साथ नामकुम स्थित झारखंड इंटरमीडिएट काउंसिल के समीप रहते हैं. विराट और विराज ने बताया कि उन्हें याद करने की ये तकनीक अपने शिक्षक पिता गगन माकन से सीखी है. उन्हें टेबल के अलावा 10, 20, 30, 40, 50 के स्क्वायर रूट और क्यूब रूट याद हैं.

adv

इसे भी पढ़ें : पंजाब 17वें मुख्यमंत्री के तौर पर आज शपथ लेंगे चन्नी, जानें-चन्नी के बारे में

वहीं मां शिल्पी माकन भी अपने लाल की सफलता से काफी प्रफुल्लित नजर आ रही हैं. उन्होंने बताया कि विराट और विराज दुनिया के सबसे बड़े एवं सबसे कठिन गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड से दो नहीं चार पायदान पीछे हैं पर प्रयास एवं तैयारियां चलती रहेंगी.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: