JharkhandLead NewsRanchi

रांची के पंकज मित्र को 2021 का कथाक्रम सम्मान

Ranchi : वर्ष 2021 का आनन्द सागर स्मृति का कथाक्रम सम्मान कथाकार पंकज मित्र को दिए जाने का निर्णय लिया गया है. यह निर्णय कथाक्रम सम्मान समिति से जुड़े कथाक्रम संयोजक शैलेन्द्र सागर, वरिष्ठ कहानीकार शिवमूर्ति, रंगकमी राकेश व लेखिका रजनी गुप्त ने लिया है.

 

advt

13 जनवरी 1965 को रांची में जन्मे पंकज मित्र हिंदी कथा परिदृश्य पर नब्बे के दशक में सामने आए कथाकारों में अन्यतम है. उनकी कहानियों में गांव व कस्बे का यथार्थ अपनी धडकनों और हलचलों के साथ प्रकट होता है. साथ ही उनमें समकालीन भारतीय समाज की विसंगतियों और बाजारवाद से मुठभेड़ भी है. उनकी देशज भाषा में बोलियों सी मिठास है.

इसे भी पढ़ेंःहजारीबाग : बरकट्ठा में पांच हजार रुपये घूस लेते पंचायत सेवक को एसीबी ने दबोचा

अब तक उनके चार कहानी संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं. वह रंगकर्म से भी जुड़े हैं और इप्टा रांची के अध्यक्ष है. पंकज मित्र को इंडिया टुडे, भारतीय भाषा परिषद, कोलकाता, वनमाली जैसे सम्मानों से सम्मानित किया जा चुका है.

 

उल्लेखनीय है कि प्रत्येक वर्ष एक कथाकार को प्रतिष्ठित आनंद सागर स्मृति कथाक्रम सम्मान दिया जाता है. जिसके अंतर्गत पंद्रह हजार रुपये, सम्मान चिह्न व पत्रक प्रदान किया जाता है. इस वर्ष पुरस्कार राशि इक्कीस हजार रुपये कर दी गयी है. विगत सालों में संजीव, कमलाकांत त्रिपाठी, चंद्रकिशोर जायसवाल, मैत्रेयी पुष्पा, दूधनाथ सिंह, ओमप्रकाश बाल्मीकि, शिवमूर्ति, असगर वजाहत, भगवान दास मोरवाल, उदय प्रकाश पियंवद, मधु कांकरिया, महेश कटारे, अब्दुल विस्मिल्ला, स्वयं प्रकाश, तेजिन्दर, जयनंदन, नाशिरा शर्मा, अखिलेश, राकेश कुमार सिंह, जया जादवानी, मनोज रूपडा, एस आर हरनोट एवं नवीन जोशी को यह सम्मान दिया जा चुका है.

इसे भी पढ़ेंःBIG NEWS : एयर इंडिया को सरकार ने कहा बाय,  70 साल बाद फिर TATA  का हुआ महाराजा

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: