BusinessLead NewsNationalTOP SLIDER

“रांची के मुरारी” बने जेट एयरवेज के मालिक

मुरारी लाल जालान की कंपनी वर्तमान में इंफ्रास्ट्रक्चर, रियल एस्टेट, माइनिंग और टूरिज्म क्षेत्र में कार्यरत है रूस, ब्राजील, भारत, दुबई और उज्बेकिस्तान समेत कई देशों में भी उनका बिजनेस फैला हुआ है

 Ranchi :  झारखंड की राजधानी रांची के लिए एक गर्व करने वाली खबर आयी है. रांची निवासी मुरारी लाल जालान कर्ज में फंसी एयरलाइंस कंपनी जेट एयरवेज के मालिक बन गये हैं. बता दें कि लंदन के कालरॉक कैपिटल और संयुक्त अरब अमीरात (यूएइ) के निवेशक मुरारी लाल जालान वाली कंसोर्टियम कंपनी जेट एयरवेज की नयी मालिक होगी.

मुरारी लाल जालान की कंपनी वर्तमान में इंफ्रास्ट्रक्चर, रियल एस्टेट, माइनिंग और टूरिज्म क्षेत्र में भी कार्यरत है. वह यूएइ में एमजे डेवलपर्स के मालिक हैं. रूस, ब्राजील, भारत, दुबई और उज्बेकिस्तान समेत कई देशों में भी उनका बिजनेस फैला हुआ है. जानकारी मिली है कि जेट एयरवेज को कर्ज देने वाली क्रेडिटर्स कमिटी (सीओसी)ने इसकी मंजूरी दे दी है. यह सर्वविदित है कि एक साल पहले जेट एयरवेज आर्थिक संकट के कारण बंद हो गयी थी.

इसे भी पढ़ें : केंद्र अपना रुख बदले, नहीं तो बंद किये जायेंगे झारखंड से केंद्र को मिलने वाले संसाधन- जेएमएम

मुरारी लाल जालान का जेट एयरवेज का मालिक बनना रांची के लिए गौरव की बात

मुरारी लाल जालान का जेट एयरवेज का मालिक बनना रांची के लिए गौरव की बात है. ऐसा इसलिए कि मुरारी लाल जालान ने रांची से ही अपना व्यवसाय शुरू किया था. जान लें कि मुरारी लाल के बड़े भाई नारायण जालान रांची में ही रहते हैं.  छोटे भाई विशाल जालान मुरारी जालान के साथ दुबई में ही रहते हैं.

advt

जानकारी के अनुसार 1990 में लाल जालान ने जीइएल चर्च कॉम्पलेक्स में एक्सप्रेस फोटो की शुरूआत की थी. 1991-92 में उन्होंने रूस जाकर कोनिका का डिस्ट्रीब्यूशन लिया. कुछ साल वहां रूस में रहे फिर दुबई आ गये थे.

इसे भी पढ़ें : वैश्विक भूख रैंकिंग में भारत 94वें स्थान पर, विशेषज्ञों ने भूख की ‘गंभीर’ श्रेणी में रखा

मुरारी जालान के प्रस्ताव को शनिवार को मंजूरी मिली

जेट एयरवेज के कर्जदाताओं की समिति (सीओसी) ने दिवाला समाधान प्रक्रिया के तहत ब्रिटेन की कलरॉक कैपिटल और संयुक्त अरब अमीरात के मुरारी जालान के प्रस्ताव को शनिवार को मंजूरी दे दी. जेट एयरवेज के समाधान पेशेवर (आरपी) आशीष छावछरिया ने बीएसइ फाइलिंग में कहा कि प्रस्ताव पर इ-वोटिंग के बाद योजना को मंजूरी दी गयी.

खबर है कि बंद हो चुकी विमानन कंपनी को दो समूहों से प्रस्ताव मिले थे. जिस समूह के प्रस्ताव को स्वीकार किया गया है, उसमें फ्लोरियन फ्रिट्च द्वारा स्थापित ब्रिटेन की कलरॉक कैपिटल और संयुक्त अरब अमीरात के मुरारी जालान शामिल हैं.

इसे भी पढ़ें : जीएसटी क्षतिपूर्ति के लिए करोड़ों का कर्ज लेने के केंद्र के सुझाव को हेमंत ने किया खारिज

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: