न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कुरान की पांच प्रतियां बांटने के आदेश का विरोध, रांची के वकीलों ने किया जज मनीष सिंह की कोर्ट का बहिष्कार

1,259

Ranchi: सोशल साइट पर धार्मिक टिप्पणी करने पर पिठोरिया की युवती ऋचा पटेल उर्फ ऋचा भारती को जेल भेजना फिर उसे सशर्त जमानत देने का मामला गरमा गया है.

ऋचा पटेल की फेसबुक टिप्पणी मामले में न्यायाधीश मनीष कुमार सिंह द्वारा कुरान की पांच प्रति बांटने के आदेश पर रांची जिले के वकीलों में रोष है. वकीलों ने एकजुट होकर जस्टिस मनीष कुमार सिंह की अदालत का बुधवार को बहिष्कार किया.

इसे भी पढ़ेंःगडकरी जी, अच्छी सड़क के लिये तिहरा टैक्स तो ठीक पर आपके टोल वाले लूट रहे हैं पब्लिक को

कुरान की पांच प्रतियां बांटने की शर्त पर बेल

सोशल साइट पर धार्मिक टिप्पणी करने पर पिठोरिया की युवती ऋचा पटेल उर्फ ऋचा भारती को रांची सिविल कोर्ट से कुरान की पांच प्रति बांटने की शर्त पर न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह के द्वारा जमानत दी गई.

जमानत मिलने के बाद मंगलवार को जेल से बाहर आयी ऋचा पटेल ने कहा कि वह कुरान की प्रतियां नहीं बांटेगी. निचली अदालत के फैसले की कॉपी का इंतजार कर रही हैं. कॉपी मिलने के बाद वो हाइकोर्ट जायेंगी.

उसने मीडिया से कहा कि कुरान बांटने का आदेश उसे सही नहीं लग रहा है. वह बुरा महसूस कर रही है. ऋचा ने कहा कि वह कोर्ट के फैसले का सम्मान करती है.

Related Posts

अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ 16 सूत्री मांगों को लेकर 31अगस्त को मुख्यमंत्री का घेराव करेगा

जनसंपर्क अभियान लगातार जारी है. संघ के अनुसार  इस बार आर पार की लड़ाई लड़ने को शिक्षक तैयार है.

SMILE

लेकिन उसके मौलिक अधिकारों का हनन कोई कैसे कर सकता है. क्या फेसबुक पर अपने धर्म के बारे में लिखना अपराध है. ऐसे में पिठोरिया पुलिस ने उसे अचानक कैसे गिरफ्तार कर लिया.

इसे भी पढ़ेंःRSS समेत 19 हिंदुवादी संगठनों की जानकारी जुटायेगी बिहार पुलिस

विवादित पोस्ट पर भेजा गया था जेल

12 जुलाई को सोशल साइट पर विवादित पोस्ट शेयर करने के आरोप में ऋचा को जेल भेज दिया गया था. सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की अदालत ने सशर्त जमानत दी थी.
जमानत पर सुनवाई के दौरान न्यायिक दंडाधिकारी ने आरोपित को 15 दिनों के अंदर कुरान की पांच प्रतियां बांटने का आदेश दिया था.

ऋचा भारती के खिलाफ सदर अंजुमन कमेटी, पिठोरिया द्वारा 12 जुलाई को प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी.अंजुमन कमेटी ने पोस्ट के कारण सांप्रदायिक तनाव भड़कने की आशंका जताई थी.

इसे भी पढ़ेंःहजारीबाग माइनिंग अफसर नितेश गुप्ता क्यों चाहते है कि सिर्फ मां अंबे कंपनी ही करे कोयला रैक लोडिंग

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: