Ranchi

रांचीः कोर्ट की सुनवाई के दौरान ये क्या हुआ!!!

विज्ञापन

Vineet Upadhyay

Ranchi: देश भर में लॉकडाउन के वक़्त से ही अदालत की प्रक्रिया वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चल रही है. वहीं कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए सुनवाई के दौरान अधिवक्ताओं को गाउन एवं कोट पहनने से छूट मिली हुई है. लेकिन झारखंड में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये सुनवाई के दौरान पिछले दिनों कुछ ऐसे मामले सामने आये हैं जिससे सुनवाई कर रहे न्यायाधीश भी खुद को असहज महसूस कर रहे हैं.

अधिवक्ता गाइडलाइन नहीं कर रहे फॉलो

दरअसल झारखंड हाईकोर्ट में एक मुकदमे की सुनवाई शुरु हुई और मुकदमे में बहस कर रही महिला अधिवक्ता ने बार काउंसिल की ओऱ से जारी गाइडलाइन से हटकर घरेलू पोशाक में ही कोर्ट के समक्ष उपस्थित हो गई. वहीं एक अन्य मामले में एक अधिवक्ता तो कोर्ट की सुनवाई के दौरान भोजन ही करने लगे.

advt

इसे भी पढ़ेंःचाईबासा डीडीसी IAS आदित्य रंजन जिस स्कॉर्पियो पर घूमते हैं, वह कांट्रैक्टर अश्वनि मिश्रा उर्फ सोनू मिश्रा की है

इन गतिविधियों की जानकारी मिलने के बाद झारखंड हाईकोर्ट एडवोकेट एसोसिएशन ने एक पत्र जारी कर सभी अधिवक्ताओं को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई के वक़्त तय गाइडलाइन के मुताबिक कपड़े पहनकर ही उपस्थित होने का सख़्त निर्देश दिया है, ताकि इस तरह की घटनाएं दोबारा नहीं हो.

बार काउंसिल ने दिया सख्त निर्देश

झारखंड स्टेट बार काउंसिल के चेयरमैन राजेंद्र कृष्णा का कहना है कि इस तरह की घटनाओं की जानकारी मिलने के बाद स्टेट बार काउंसिल ने झारखंड के सभी अधिवक्ताओं को पत्र जारी किया है. साथ ही अन्य माध्यमों से सख्त हिदायत दी गई है कि अधिवक्ता किसी भी कोर्ट के समक्ष उपस्थित हो तो कोर्ट की मर्यादा का ख्याल रखते हुए बार काउंसिल ऑफ इंडिया की गाइडलाइन के मुताबिक सही पोशाक में ही न्यायालय की प्रक्रिया में शामिल हों. लेकिन बड़ा सवाल यह उठता है कि कोरोना संक्रमण के कारण ऑनलाइन सुनवाई में अधिवक्ताओं को मिली इस छूट का बेवजह फायदा उठाना कितना सही है और ऐसा करने वाले अधिवक्ताओं पर स्टेट बार काउंसिल कोई कार्रवाई क्यों नहीं करती है?

इसे भी पढ़ेंःसिंगल विंडो में पेंडिंग कई आवेदन, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और श्रम विभाग में अधिकांश लंबित आवेदन

adv
advt
Advertisement

2 Comments

  1. It’s shameful for those who don’t have any regard to court, if they will not show regard to court, the day will come when clients will start disregard to lawyers

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button