न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

PHD छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही रांची यूनिवर्सिटी, फिर से टाली प्रवेश परीक्षा की तारीख

172
  • नवंबर में होनी थी परीक्षा टलने के बाद फिर से 25 अप्रैल तक टली परीक्षा
  • नामांकन के लिए परेशान हैं छात्र, एमफिल का भी यही हाल

Ranchi : स्नातक और स्नातकोत्तर परीक्षाओं के साथ-साथ रांची यूनिवर्सिटी पीएचडी शोधार्थियों के भविष्य के साथ भी खिलवाड़ कर रही है. 2018 में पीएचडी नामांकन के लिए रांची यूनिवर्सिटी की ओर से फाॅर्म अक्टूबर में भरवाए गए. जिसकी प्रवेश परीक्षा 30 नवंबर को ही होनी थी. लेकिन एकाएक 26 नवंबर 2018 को युनिवर्सिटी ने परीक्षा की तिथि को बिना कोई कारण बताए कुछ समय के लिए टाल दिया. जिससे छात्रों को काफी परेशानी हुई.

सिर्फ पीएचडी ही नहीं बल्कि एमफिल में नामाकंन लेने वाले छात्रों के साथ भी युनिवर्सिटी ने ऐसा ही किया. एमफिल की परीक्षा भी 30 नवंबर 2018 को होने वाली थी, लेकिन इस परीक्षा को भी बिना कोई कारण बताए युनिवर्सिटी ने टाल दिया.

जबकि पूर्व में ही कुलाधिपति की ओर से राज्य के सभी कॉलेजों को यह निर्देश दिया गया था कि सत्रों को नियमित रखा जाए. किसी भी तरह से सत्र में अनियमितता ना की जाए. इसके बावजूद रांची यूनिवर्सिटी में ऐसा किया जा रहा है.

इस संदर्भ में अभाविप के विभाग के संगठन मंत्री बबन बैठा ने जानकारी दी कि छात्रों की परेशानी काफी बढ़ गई है. यूनिवर्सिटी परीक्षा ले नहीं रही, और छात्रों का समय व्यर्थ हो रहा है.

ऐसे में यूनिवर्सिटी को अपनी जवाबदेही तय करनी चाहिए. साथ ही परीक्षा विभाग की अनियमितताओं को दूर करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें – हेमंत सोरेन का स्थायी पता पूछनेवाली बीजेपी पर जेएमएम का पलटवार, कहा ‘खौफ में भाजपा नेता, कर रहे मूर्खतापूर्ण सवाल’

भरे गए थे तीन हजार आवेदन

सत्र 2017-18 में पीएचडी नामाकंन के लिए यूनिवर्सिटी के पास लगभग 3000 आवेदन आए थे. जो कला, विज्ञान और वाणिज्य तीनों संकायों के थे. अक्टूबर में छात्रों ने आवेदन भरा. जिसके बाद नवंबर में परीक्षा होने वाली थी. नवंबर महीने को बीते चार महीने हो गए हैं लेकिन अब तक परीक्षा नहीं ली गयी है. कई छात्रों ने जानकारी दी कि यूनिवर्सिटी की ओर से परीक्षा की तारीख तो टाल दी जाती है लेकिन जब अगली तारीख के बारे में पूछा जाता है तो प्रबंधन की ओर से किसी भी तरह का कोई जबाव नहीं दिया जाता है.

इसे भी पढ़ें – अनुराग गुप्ता के बाद कई IAS और IPS अधिकारी निर्वाचन आयोग के रडार पर, मांगी रिपोर्ट

25 अप्रैल तक बढ़ाई गई परीक्षा की तारीख

Related Posts

धनबाद : कासा सोसाइटी में बिजली मिस्त्री की मौत, मामला संदेहास्पद

सोसाइटी के लोगों का कहना है कि यह महज एक दुर्घटना नहीं है, बल्कि बिजली मिस्त्री की हत्या की गयी है.

SMILE

एक अप्रैल को यूनिवर्सिटी की ओर से सूचना जारी की गई कि पीएचडी प्रवेश परीक्षा की तिथि 25 अप्रैल तक के लिए आगे बढ़ा दी गई है. वो भी परीक्षा की कोई निश्चित तिथि बताए बिना ही ऐसा कर दिया गया. बार बार यूनिवर्सिटी की ओर से परीक्षा की तिथि टाल दी जा रही है.

एमफिल प्रवेश परीक्षा की तिथि भी 25 अप्रैल तक के लिए आगे बढ़ा दी गई है. इस दिन जारी सूचना में यह भी जानकारी दी गई कि सत्र 2017-19 स्नातकोत्तर के फाइनल सेमेस्टर के छात्र भी पीएचडी और एमफिल प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन दे सकते हैं.

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस ने 20 उम्मीदवारों की घोषणा की, पवन बंसल व परणीत कौर के नाम भी शामिल

जल्द निकल जाएगी अगली तारीख

इस संबध में जब जन सूचना पदाधिकारी पीके झा से बात की गई तो उन्हेांने बताया कि परीक्षा की तारीख जल्द निकल जाएगी. जब उनसे पूछा गया कि तिथि 25 अप्रैल तक आगे बढ़ाई गई है तो उन्हेांने जवाब दिया कि इस तारीख को ही परीक्षा की अगली तारीख मान लीजिए. हर चीज याद नहीं रहती. वेबसाइट में सारी जानकारी है. परीक्षा नियंत्रक से पूछ के बताना होगा.

इसे भी पढ़ें – झारखंड कांग्रेस : रांची से सुबोधकांत, सिंहभूम से गीता कोड़ा और लोहरदगा से सुखदेव भगत लड़ेंगे चुनाव

परीक्षा नियंत्रक ने पल्ला झाड़ा

इस मामले में जब परीक्षा नियंत्रक से बात की गई तो उन्होंने कहा कि हमारे विभाग से संबधित नहीं है. जिस विभाग से  संबधित है वहां जाकर जानकारी लें. उल्लेखनीय है कि एक अप्रैल को परीक्षा नियंत्रक के हवाले से ही परीक्षा की तिथि आगे बढ़ाने की सूचना जारी की गई थी.

इसे भी पढ़ें – कांग्रेस जब-जब सत्ता में आती है, शासन उल्टी दिशा में चलने लगता है : मोदी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: