न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची यूनिवर्सिटी ने तीन संस्थानों के विभिन्न कोर्सों की अस्थाई संबद्धता बढ़ायी

संबद्धता समिति ने लिया निर्णय

236

Ranchi: कैंब्रिज इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी टाटीसिल्वे, इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ और आरटीसी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के विभिन्न विषयों में अस्थाई संबद्धता को रांची यूनिवर्सिटी ने बढ़ा दिया है. इसके लिए यूनिवर्सिटी की संबद्धता समिति की महत्वपूर्ण बैठक मंगलवार को की गयी. जिसमें इन संस्थानों के अलग-अलग विषयों को एक्सटेंशन दे दिया गया. इन संस्थानों की पूर्व से रांची यूनिवर्सिटी से संबद्धता थी, लेकिन विभिन्न विषयों की संबद्धता नहीं होने के कारण संस्थानों को परेशानी हो रही थी. सभी संस्थानों के अधिकतर विषयों को 2021 तक एक्सटेंशन दिया गया है. इस बैठक की अध्यक्षता कुलपति रमेश कुमार पांडे ने की. वहीं इस दौरान प्रति कुलपति डॉ कामिनी कुमार, डीन स्टूडेंट वेलफेयर डॉ पीके वर्मा, रजिस्ट्रार अमर कुमार चैधरी, सीसीडीसी डॉ गिरजा शंकर नाथ शाहदेव, डीन मेडिसिन डॉक्टर आरसी श्रीवास्तव, डीके भट्टाचार्जी, डॉ एके चैधरी, प्रीतम कुमार समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – इंटर का रिजल्ट जारी, साइंस में 43 और कॉमर्स में 30 प्रतिशत बच्चे फेल

किन विषयों की बढ़ायी गयी संबद्धता

कैंब्रिज इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी टाटीसिल्वे: सिविल इंजीनियरिंग, मेकेनिकल इंजीनियरिंग, सीएसई, ईसीई और ईईई में बीटेक फर्स्ट शिफ्ट के लिए एकेडमिक सेशन 2017- 2021 तक के लिए बढ़ाया गया. सेकेंड शिफ्ट के लिए सीई और एमई को एक्सटेंशन दिया गया है.

इंस्टीट्यूट ऑफ पब्लिक हेल्थ: इस संस्थान में यूनिवर्सिटी की ओर से कम्युनिटी हेल्थ कोर्स में स्नातक को सत्र 2017 से 2020 और 2018 से 2021 की संबद्धता बढ़ायी गयी है.

आरटीसी इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी: यहां सिविल इंजीनियरिंग, मेकेनिकल इंजीनियरिंग, सीएसई, आइटी, ईसीई और ईईई में बीटेक के विभिन्न सत्रों की संबद्धता बढ़ायी गयी है. जो साल 2017 से 2021, 2016 से 2020 और 2015 से 2019 तक के बढ़ायी गयी है.

इसे भी पढ़ें – आइपीएस अधिकारी एमवी राव बने गृह रक्षा वाहिनी एवं अग्निशमन सेवा के डीजी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: