न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आईसीआईसीआई बैंक : चंदा कोचर के खिलाफ FIR करनेवाले सीबीआई अफसर का रांची तबादला

आईसीआसीआई  बैंक ऋण मामले में नया मोड़ आया है. खबर है कि सीबीआई की बैंकिंग ऐंड सिक्योरिटीज फ्रॉड सेल के एसपी सुधांशु धर मिश्रा का तबादला झारखंड के रांची में कर दिया गया है

439

NewDelhi : आईसीआईसीआई  बैंक ऋण मामले में नया मोड़ आया है. खबर है कि सीबीआई की बैंकिंग ऐंड सिक्योरिटीज फ्रॉड सेल के एसपी सुधांशु धर मिश्रा का तबादला झारखंड के रांची में कर दिया गया है. खबरों के अनुसार उनका रांची स्थित सीबीआई की आर्थिक अपराध शाखा में किया गया है. बता दें कि सुधांशु मिश्रा ने आईसीआईसीआई -वीडियोकॉन मामले में 22 जनवरी को चंदा कोचर उनके पति दीपक कोचर, वीएन धूत और अन्य के खिलाफ एफआईआर पर साइन किया था. एफआईआर के बाद ही 24 जनवरी को सीबीआई  ने महाराष्ट्र के चार ठिकानों पर छापामारी की थी.  इस छापामारी के बाद अरुण जेटली ने सीबीआई को निशाने पर लिया था और इसे बिना परिणाम की कार्रवाई बताया था. जान लें कि आईसीआईसीआई की पूर्व प्रमुख चंदा कोचर के कार्यकाल में बैंक द्वारा वीडियोकॉन समूह को 1,875 करोड़ रूपए के ऋणों को मंजूरी देने में कथित अनियमितताओं और भ्रष्टाचार के सिलसिले में एफआईआर दर्ज किया गया है.  चंदा कोचर के पति के ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी को लेकर अरुण जेटली ने सीबीआई पर एक तरह से हमलावर होते हुए सलाह दी थी कि महाभारत के अर्जुन की तरह टारगेट पर नजर रखें.  दुस्साहस एवं प्रशंसा पाने की आदत से बचें.

सुधांशु मिश्रा की जगह एसपी बिश्वजीत दास दिल्ली लाये गये

जानकारी के अनुसार सुधांशु मिश्रा की जगह कोलकाता में सीबीआई की आर्थिक अपराध शाखा के एसपी बिश्वजीत दास का तबादला दिल्ली किया गया है. कोलकाता में सीबीआई की आर्थिक अपराध शाखा-IV के एसपी सुदीप राय को दास की जगह लाया गया है.  बुधवार की रात एफआईआर दर्ज किये जाने के बाद सीबीआई ने मुंबई और औरंगाबाद में चार स्थानों पर वीडियोकॉन समूह, न्यूपावर रिन्यूएबल्स और सुप्रीम एनर्जी के कार्यालयों पर छापे मारे थे. अधिकारियों ने बताया कि वेणुगोपाल धूत के अलावा उनकी कंपनियों वीडियोकॉन इंटरनेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स लिमिटेड और वीडियोकॉन इंडस्ट्रीज लिमिटेड, सुप्रीम एनर्जी और न्यूपावर रिन्यूएबल्स को भी आरोपी बनाया गया है. न्यूपावर कंपनी का संचालन दीपक कोचर द्वारा किया जाता है जबकि सुप्रीम एनर्जी की स्थापना धूत ने की थी.

hosp3

एजेंसी ने सभी आरोपियों के खिलाफ आपराधिक साजिश और धोखाधड़ी से जुड़ी भारतीय दंड संहिता की धाराओं तथा भ्रष्टाचार निवारण कानून के प्रावधानों के तहत मामला दर्ज किया है.  यह आरोप है कि मई 2009 में चंदा कोचर द्वारा बैंक की सीईओ का पदभार ग्रहण करने के बाद ऋणों को मंजूर किया गया और इसके बाद धूत ने दीपक कोचर की कंपनी न्यूपावर में अपनी कंपनी सुप्रीम एनर्जी के माध्यम से निवेश किया. प्राथमिकी में कहा गया है कि आईसीआईसीआई बैंक के मौजूदा सीईओ संदीप बख्शी, संजय चटर्जी, ज़रीन दारुवाला, राजीव सभरवाल, के वी कामथ और होमी खुसरोखान उन समितियों में शामिल थे जिसने ऋणों को मंजूरी दी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: