न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांचीः मॉड्यूलर टॉयलेट की योजना अधर में लटकी, यात्रियों को झेलनी पड़ रही परेशानी

ए कैटेगरी में आनेवाले रांची रेलवे स्टेशन के सिर्फ एक प्लेटफॉर्म पर टॉयलेट

207

Ranchi: रांची रेलवे स्टेशन पर एक ओर कई तरह की सुविधाओं का दावा किया जाता है, वही यात्रियों को रेलवे स्टेशन पर मूलभुत सुविधाएं भी नहीं मिल रही. मॉड्यूलर टॉयलेट बनाने की योजना भी अधर में लटक नजर आती है. जिसके कारण यात्रियों को आए दिन परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. रेल प्रबंधक ने आज से 4 महीने पहले रांची रेलवे स्टेशन पर मॉड्यूलर टॉयलेट बनाने की बात कही थी. लेकिन अब यह मामला ठंडे बस्ते में चला गया है. रेलवे प्रबंधन की ओर से इसे लेकर किसी तरह की गंभीरता नहीं दिखाई जा रही है.

इसे भी पढ़ें – कोयलांचल में वर्चस्व का खूनी खेलः कई राउंड फायरिंग-बमबाजी, दो कर्मी घायल

रांची रेलवे स्टेशन ए कैटेगरी में आता है. इसके बावजूद भी यहां यात्रियों को नेचुरल कॉल आने के बाद परेशानी का सामना करना पड़ता है. यात्रियों की परेशानी को देखते हुए रेल प्रबंधन ने 4 महीने पहले यहां मॉड्यूलर टॉयलेट लगाने की बात कही थी. लेकिन यह सिर्फ घोषणा बनकर ही रह गई.

क्या है मॉड्यूलर टॉयलेट

मॉड्यूलर टॉयलेट पे एंड यूज़ टॉयलेट है. जिसमें सिक्का डालते ही टॉयलेट का दरवाजा खुल जाता है इसके बाद टॉयलेट का इस्तेमाल कर सकते हैं. मॉड्यूलर टॉयलेट की खास बात यह है कि अगर टॉयलेट गंदा है या उपयोग करने लायक नहीं है तो कोशिश करने के बाद भी इसका गेट नहीं खुलता है और इसमें सिक्के को एक्सेप्ट नहीं किया जाता है. यह एक साफ-सुथरा टॉयलेट होता है जिसमें इंफेक्शन होने का कोई खतरा नहीं होता है.

इसे भी पढ़ें – मुख्यमंत्री के गृह जिला में अपराध बेलगाम ! करीब तीन सालों में 292 हत्याएं, 240 दुष्कर्म की घटनाएं

परेशान होते हैं यात्री

अगर आप रांची रेलवे स्टेशन पर हैं और नेचुरल कॉल आ जाए तो आपतो बहुत ही परेशानी का सामना करना पड़ता है. क्योंकि रांची स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 1 को छोड़कर बाकी प्लेटफार्म पर एक भी शौचालय नहीं है. ऐसे में यात्रियों को नेचुरल कॉल आने पर प्लेटफार्म नंबर एक पर आना पड़ता है. यानी आपको टॉयलेट का इस्तेमाल करने के लिए 2-3 नबंर प्लेटफॉर्म से एक नबंर पर आना पड़ेगा. जिसके चलते यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है.

SMILE

इसे भी पढ़ेंःसुकमाः सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, मुठभेड़ में 14 नक्सली ढेर

अटेंडेंट करते हैं मनमानी

रांची रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 1 पर बने टॉयलेट में अक्सर यात्रियों को टॉयलेट का इस्तेमाल करने पर अटेंडेंट की मनमानी झेलनी पड़ती है. और कई बार विवाद काफी बढ़ जाता है क्योंकि टॉयलेट का उपयोग करने पर यात्रियों से ज्यादा पैसा अटेंडेंट के द्वारा लिया जाता है. प्लेटफॉर्म नंबर एक पर स्थित टॉयलेट की नियमित साफ-सफाई भी नहीं होती है. ऐसे में मॉड्यूलर टॉयलेट लगने से अटेंडेंस की मनमानी पर रोक लग जाती और यात्रियों को काफी हद तक सुविधा होती.

इसे भी पढ़ेंःRTI में बदलाव से भ्रष्टाचारियों को सार्वजनिक जांच से बचने का मिलेगा मौकाः सूचना आयुक्त

क्या कहते हैं डीआरएम

रांची रेल डिवीजन के डीआरएम बी के गुप्ता कहते हैं, कि रांची रेलवे स्टेशन को मॉडल बनाने का काम शुरु हो चुका है. बहुत जल्द ही स्टेशन पर कई बदलाव नजर आएंगे. मॉड्यूलर टॉयलेट इसी योजना का हिस्सा है इसे जल्द ही लगाया जाएगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: