JharkhandJharkhand StoryKhas-KhabarLead NewsNEWSRanchiTop Story

रांची: गाड़ियों के शौकीनों से टूट रहा राजधानी में वाहनों की बिक्री का रिकॉर्ड,जानिए कैसे

Ranchi: रांची जिले में गाड़ी के शौकीनों की फेहरिस्त साल दर साल बढ़ती जा रही है. चाहे वो टू-व्हीलर हो या फोर व्हीलर. ये हम नहीं बल्कि जिला परिवहन कार्यालय के आंकड़े बता रहे हैं. इस वर्ष गाड़ी खरीदने वालों की संख्या पिछले साल की तुलना में महज छह महीने में ही लगभग बराबर पर पहुंचने वाली है. वर्ष 2021 में गाड़ी खरीददारों की कुल संख्या 95,777 थी जो वर्ष 2022 में अगस्त माह तक 84822 हो चुकी है. अभी साल खत्म होने में पांच माह शेष हैं.

लगातार सड़कों पर उतर रही है नयी गाड़ियां

जनवरी 2021 से लेकर 31 दिसंबर 2021 तक में कुल 95777 वाहन निबंधित हुए हैं, जबकि, 2020 में निबंधित वाहनों की संख्या कुल 94,911 , वर्ष  2019 में 1,09,560, वर्ष 2018 में 1,31,709 और 2017 में कुल निबंधित वाहनों की संख्या 1,20,496 रही थी. यानि कोरोना काल में भी करीब एक लाख नयी गाड़ियां सड़क पर उतर रही थीं. वहीं, इस वर्ष 2022 में अभी साल के सिर्फ 7 महीने ही बीते हैं और  अब तक 84822 वाहन निबंधित हुए हैं. वर्ष 2022 में जनवरी से अगस्त माह तक 20333 कार निबंधित कराये गये हैं. जो पिछले साल से मात्र 980 कम है. वहीं, 56648 मोटरसाइकिल व स्कूटर निबंधित कराये जा चुके हैं.

Sanjeevani

साल         वाहनों की संख्या

2021            95777

2020            94,911

2019           1,09,560

2018           1,31,709

2017           1,20,496

इसे भी पढ़े: झाप्रसे अफसरों के ऑनलाइन परफॉरमेंस रिपोर्ट जमा करने की तिथि फिर बढ़ी

रांची में कुल वाहनों की संख्या 9 लाख से अधिक

रांची में कुल वाहनों की संख्या 9,63,886 है. इसमें मोटरसाइकिलों की संख्या 5.30 लाख है. जबकि, चार पहिया वाहनों की संख्या लगभग 2.50 लाख है. इसमें निजी चार पहिया वाहनों की संख्या 1.03 लाख हैं.

वाहनों के प्रकार वर्ष 2020-21 वर्ष 2021-22
एंबुलेंस 25 61
बस 24 42
ई रिक्शा 56 172
गुड्स कैरियर 1480 1719
मोटरसाइकिल 65888 56648
कार 21310 20333

 

क्या कहते हैं जिला परिवहन पदाधिकारी

रांची के जिला परिवहन पदाधिकारी प्रवीण प्रकाश ने बताया कि शहर में वाहनों का निबंधन कराने की संख्या लगातार बढ़ रही है. रोजाना नये गाड़ियों के लिये डॉक्यूमेंट जमा हो रहे हैं. नये ड्राइविंग लाइसेंस की संख्या भी लगातार बढ़ रही है.

Related Articles

Back to top button