न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची : 2008 में शुरू हुआ था इक्फाई विश्वविद्यालय, 10 साल बाद भी नहीं बना पाया अपना कैंपस

60

Ranchi : किराये के मकान पर शिक्षा की दुकान. यह वाक्य झारखंड में इन दिनों खूब जंच रहा है. दरअसल यहां ज्यादातर निजी शिक्षण संस्थान लंबे समय से किराये के मकान पर संचालित किये जा रहे हैं. बात उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग के अंर्तगत आनेवाले निजी विश्वविद्यालयों की करें, तो राज्य में ज्यादातर निजी विश्वविद्यालय किराये के मकानों पर ही चल रहे हैं. राज्य के पहले निजी विश्वविद्यालय के रूप में स्थापति इक्फाई यूनिवर्सिटी 2008 में स्थापति हुई, लेकिन इस विश्वविद्यालय का अपनी स्थापना के बाद से अभी तक अपना कैंपस नहीं बना है. इक्फाई यूनिवर्सिटी द्वारा कितनी ही डिग्रियां राज्य के छात्रों को प्रदान कर दी गयीं, लेकिन अब तक विश्वविद्यालय का स्थायी कैंपस नहीं बनकर तैयार नहीं हो सका है. विश्वविद्यालय प्रशासन का दावा है कि वर्तमान में दलादली में जो यूनिवर्सिटी का कैंपस है, उसे खरीद लिया गया है तथा इसकी सूचना विभाग को दे दी गयी है. न्यूज विंग की पड़ताल में पाया कि अब तक यह कैंपस अस्थायी रूप से चल रहा है. साथ ही जमीन मालिक से विश्वविद्यालय ने जितना भू-भाग खरीदने की बात की, वह यूनिवर्सिटी कैंपस के लिए पर्याप्त नहीं है.

इसे भी पढ़ें- सीबीएसई की तर्ज पर जैक करेगी कॉपियों का मूल्यांकन

इक्फाई यूनिवर्सिटी पर सरकार अखिर क्यों है मेहरबान

सरकार एवं विभाग की फटकार के बाद भी इक्फाई यूनिवर्सिटी की मान्यता अब तक रद्द नहीं की गयी है. झारखंड यूनिवर्सिटी मॉडल गाइडलाइन के अनुसार किसी भी निजी विश्वविद्यालय की स्थापना के तीन साल बाद उसको अपना स्थायी कैंपस बनाना होगा, लेकिन इक्फाई विश्वविद्यालय को बने 10 वर्ष हो गये और बार-बार सरकार द्वारा रिमाइंडर देकर विश्वविद्यालय को छोड़ दिया जाता है.

इसे भी पढ़ें- सहायक प्राध्यापक बहाली मामले में हाई कोर्ट ने सभी विवि के कुलसचिवों से मांगा जवाब

palamu_12

जल्द ही विश्वविद्यालय का होगा अपना स्थायी कैंपस : इक्फाई प्रबंधन

इक्फाई विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने कहा कि संस्थान पूरी तहर से झारखंड में स्थापति होगा. विश्वविद्यालय राज्य में जल्द ही स्थायी कैंपस बनायेगा. दलादली स्थित कैंपस को विश्वविद्यालय द्वारा लिया जा चुका है, जल्द ही अपना स्थायी कैंपस तैयार किया जायेगा.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: