न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Ranchi: 5 जून को ही समाप्त हो गया है रिम्स किचन का टेंडर, फिर भी मरीजों को खाना परोस रहा प्राईम किचन

274

Ranchi: रिम्स के मरीजों को खाना खिलाने की जिम्मेवारी रिम्स मेस को दी गयी है. हॉस्पिटल के किचन के संचालन का जिम्मा प्राईम किचन सर्विस को दिया गया था.

प्राईम किचन सर्विस का टेंडर पिछले 5 जून को ही समाप्त हो गया था. इसके बावजूद किचन सर्विस से ही प्रतिदिन रिम्स के 1200 मरीजों को खाना खिलाने का काम लिया जा रहा है.

Sport House

किचन के फिर से संचालन के लिए टेंडर फरवरी में ही निकाला गया था. चार महीने बीत जाने के बाद भी टेंडर प्रक्रिया को पूरा नहीं किया जा सका है.

इसे भी पढ़ें – धनबादः सीएम की सभा से पहले बंटी अखबार की कतरन, लोगों को बताया- रघुवर दास ने ही झरिया को उजाड़ देने की घोषणा की थी

रिम्स के मरीजों का कहना है कि मेस का खाना सही नहीं होता. मेन्यू के अनुसार खाना भी नहीं खिलाता. इसके अलावा डॉक्टर्स भी रिम्स के किचन का खाना खाने से साफ इंकार कर चुके हैं.

Mayfair 2-1-2020

इससे समझा जा सकता है कि रिम्स के किचन के खाने का क्या हाल है. रिम्स निदेशक ने बीच में निर्देश जारी किया था कि डॉक्टरों को भी रिम्स किचन में बना खाना दिया जायेगा.

स्टरलाइज कर खाना परोसने की थी बात

रिम्स निदेशक ने कहा कि किसी भी हाल में मरीजों की सेहत के साथ खिलवाड़ नहीं किया जायेगा. इसी के तहत हर दिन हॉस्पिटल किचन को स्टरलाइज करना था.

Related Posts

सांसद आदर्श ग्राम योजना: गांवों को गोद तो ले रहे राज्यसभा सांसद, लेकिन मंत्रालय को नहीं दी जा रही रिपोर्ट

तीसरे चरण में मात्र राज्य के छह राज्यसभा सांसदों में से पांच ने ही गोद लिये गांव, महेश पोद्दार ने दो गांव को लिया गोद

वहीं मरीजों को दी जानेवाली थाली और ट्रॉली को भी स्टरलाइज करना था, ताकि मरीजों को दिये जानेवाले खाने में किसी तरह का इंफेक्शन न हो जाये.

ऐसा नहीं होने पर एजेंसी पर एक्शन लेने की बात कही गयी थी. पर न तो रोज स्टेरलाइज किया जाता है न ही हाईजेनिक खाना दिया जाता है. फिर भी रिम्स प्रबंधन की तरफ से इस दिशा में कोई कदम नहीं उठाया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – #Dhullu तेरे कारण: केके साइडिंग के मजदूरों ने कहा- विधायक को रंगदारी देने में ही चला जाता है पैसा

मॉड्यूलर किचन तैयार करने की थी बात

रिम्स निदेशक ने विद्यार्थियों से कहा था कि रिम्स हॉस्टल के किचन को मॉड्यूलर बनाया जायेगा. जिनके हाथ में खाना होगा वह अपने स्तर से ही खाने की गुणवत्ता की जांच कर सकेंगे.

मेन्यू के हिसाब से खाना दिया जायेगा. पर मरीजों के लिए बननेवाले किचन को मॉड्यूलर बनाने की बात तक नहीं हुई. अभी तक हॉस्टल के किचन को भी मॉड्यूलर नहीं बनाया जा सका है.

इसे भी पढ़ें – अकाल तख्त प्रमुख ने कहा- RSS देश बांटने में जुटा, लगे पाबंदी, बीजेपी बोली- बयान दुर्भाग्यपूर्ण और तथ्यों से परे

SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like