JharkhandRanchiTODAY'S NW TOP NEWS

रांची : 160 रुपये में बेचे गये पेंशन पुनर्रीक्षण संबधित फॉर्म, अधिकारियों ने नहीं किया वेरिफाई

Ranchi : राज्य के सेवानिवृत्त कर्मचारी जहां अपने पेंशन पुनर्रीक्षण को लेकर चिंतित है. वहीं रांची जिला में इससे संबधित कुछ और ही फर्जीवाड़े की जानकारी हुई है. योजना सह वित्त विभाग की ओर से सेवानिवृत्त कर्मचारियों के पेंशन पुर्नीरक्षण से संबधित फॉर्म निकाला जाना था. जिसे हर जिला के सेवानिवृत्त कर्मचारियों को भरना था.

लेकिन बिना विभागीय निर्देश के ही रांची जिला में पेंशन पुर्नीरक्षण से संबधित फॉर्म की बाजार में ब्रिकी हुई. जिससे पेंशन धारकों के साथ जिला स्तरीय पदाधिकारियों को भी परेशानी का सामना करना पड़ा. नियम के अनुसार, योजना सह वित्त विभाग की ओर से पेंशन पुर्नीरक्षण फॉर्म से संबंधित पत्र जारी होने के बाद, इसकी सूचना अखबारों में भी आती.

मगर अभी तक विभाग की ओर से इस संबध में कोई सूचना जारी नहीं की गयी है. और न ही जिला स्तरीय अधिकारियों को इससे संबधित कोई पत्र प्राप्त हुआ है. इसके बावजूद रांची में फॉर्म मिले. इस फॉर्म की अंतिम तारीख 29 जून थी.

इसे भी पढ़ें – बुनियादी सुविधाओं से वंचित है लातेहार के कटिया की परहिया आदिम जनजाति

अधिकारियों से वेरिफाई करा महालेखाकार कार्यालय में जमा करना था

रांची : 160 रुपये में बेचे गये पेंशन पुनर्रीक्षण संबधित फॉर्म, अधिकारियों ने नहीं किया वेरिफाई
बिक्री किये गये फॉर्म

राज्य के सेवानिवृत्त कर्मचारियों को इस प्रपत्र को भरकर, जिला स्तरीय संबधित पदाधिकारियों से वेरिफाई कराना था. जिसके बाद महालेखाकार कार्यालय में इस फॉर्म को जमा करना था. जिसके बाद संबधित पेंशन धारकों के पेंशन का पुनर्रीक्षण किया जाना है. हालांकि इस संबध में महालेखाकार कार्यालय की ओर से भी अब तक कोई सूचना जारी नहीं की गयी है.

जबकि योजना सह वित्त विभाग के फरवरी में ही जारी एक पत्र में बताया गया था कि महालेखाकार कार्यालय की ओर से पेंशन पुनर्रीक्षण किया जायेगा. इसके लिए पेंशनधारकों के पूर्ण विवरणी से संबधित फॉर्म विभाग की ओर से निकाली जानी है.

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, विभाग में वर्तमान में फॉर्म की प्रक्रिया जारी है. जिसमें एक सप्ताह तक का समय लगेगा. गौरतलब है कि राज्य गठन के बाद से ही पेंशनधारकों का पेंशन पुनर्रीक्षण नहीं किया गया है.

adv

इसे भी पढ़ें – PWD के अभियंता घनश्याम अग्रवाल को टाउन प्लानर बनाने के लिए विभाग ने छह माह में की तीन अनुशंसा

160 रूपये में बिका एक फॉर्म

पेंशनधारकों से संबधित फॉर्म रांची में 160 रूपये में बेचे गए. अगर फॉर्म को योजना सह वित्त विभाग के वेबसाइट से डाउनलोड किया जाए तो इसकी कीमत महज दस रूपये ही होगी.

कुछ सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, फॉर्म सिर्फ रांची जिला में बिके. बाकी किसी भी जिला में इसकी बिक्री नहीं हुई. वहीं कुछ जिला स्तरीय वरीय पदाधिकारियों से जानकारी मिली की मोहन सिंह नाम के किसी व्यक्ति की ओर से इस तरह के कार्य किये जा रहे हैं. जिससे जिला स्तरीय पदाधिकारी फॉर्म को वेरिफाई नहीं कर रहे हैं.

बिना विभागीय आदेश के फॉर्म बिक रहे, वेरिफाई नहीं किया गया

इस संबध में जिला शिक्षा पदाधिकारी ने जानकारी दी कि, पेंशनधारकों के पेंशन पुनर्रीक्षण से संबधित कोई फॉर्म सत्यापन करने का आदेश विभाग या सरकार की ओर से नहीं दी गयी है. कई लोग फॉर्म  सत्यापन करवाने आए भी, लेकिन बिना विभागीय आदेश के किसी भी फॉर्म का वेरिफिकेशन नहीं किया जा सकता. इन्होंने बताया कि ऐसे कोई भी कार्य विभागीय आदेश के बाद ही किया जा सकता है. कुछ लोगों की ओर से इस तरह के फॉर्म रांची जिला में बेचे गये.

इसे भी पढ़ें – धनबादः सड़क है या ईंट-गिट्टी-बालू स्टोर करने की जगह! 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: