न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चर्चित मामलों का उद्भेदन करने में नाकाम रही रांची पुलिस, अपराधियों के हौसले हो रहे बुलंद

अपराधी कहीं भी दिनदहाड़े घटना को अंजाम देकर निकल जाते हैं.

36

SAURAV SINGH

Ranchi : हत्या और दुष्कर्म कई चर्चित मामलों का उद्भेदन करने में पुलिस नाकाम साबित हुई है. ऐसे में पीड़ित पक्ष को जहां न्याय नहीं मिल पाता है वहीं अपराधियों के हौसले बुलंद हो रहे हैं. यही नहीं कांड का उद्भेदन नहीं होने व अपराधियों की गिरफ्तारी नहीं होने से पुलिस का खौफ अपराधियों में कम हो गया है. अपराधी कहीं भी दिनदहाड़े घटना को अंजाम देकर निकल जाते हैं.

इसे भी पढ़ें : पीएम के मन की बात : 31 अक्टूबर को स्टैचू ऑफ लिबर्टी देश को समर्पित करेंगे

 पुलिस कहीं सफल तो कहीं असफल 

कुछ ऐसे मामले हैं जिनमें पुलिस को कहीं सफलता तो कहीं असफलता हाथ लगी. जो बेहतर पुलिसिंग पर सवाल खड़े करती नजर आ रही है. जबकि जिले के पुलिस अधीक्षक समय-समय पर थानेदारों के साथ क्राइम मीटिंग भी करते हैं. इसके बावजूद कई मामले आज भी पूरी तरह उद्भेदित नहीं हो पाये है.

इसे भी पढ़ें : प्रधानमंत्री आवास योजना में अनियमितता : बोकारो डीसी ने किये तरंगा मुखिया के वित्तीय अधिकार समाप्त

कई मामलों को नहीं सुलझा पा रही है पुलिस

राज्य की राजधानी रांची में चर्चित हत्याकांड, गोली कांड, दुष्कर्म और अपहरण के कई मामले दर्ज हुए हैं. जिसको सुलझा पाने में पुलिस वर्षों बाद भी नाकाम दिख रही है. कांड के उद्भेदन के लिए तैनात पुलिस पदाधिकारी घटना में शामिल हत्यारों के सत्यापन और गिरफ्तारी के लिए कार्रवाई किये जाने का दम भरते हैं. लेकिन पुलिस की सक्रियता की स्थिति देख पीड़ितों की आस दम तोड़ती नजर आ रही है. कई पीड़ित परिवार तो अब इस मामले में कुछ कहने के बजाय चुप रहना ही बेहतर समझने लग गये हैं.

इसे भी पढ़ें : जेटली ने पूछा, क्या इंदिरा और राजीव वहां जाते, जहां भारत तेरे टुकड़े होंगे…जैसे नारे लगाये…

इन मामलों का खुलासा करने में नाकाम रही पुलिस

  • बूटी बस्ती में रहनेवाली बीटेक छात्रा की बीते साल 16 दिसंबर 2016 को हत्या कर दी गई थी. बीटेक छात्रा हत्याकांड में रांची पुलिस की असफलता के बाद केस सीआईडी को दिया गया. सीआईडी कुछ भी नहीं कर पाई है.
  • 25 अगस्त को नगड़ी में रोशन मिर्धा नाम के व्यक्ति की गोली मार कर हत्या. इस मामले में पुलिस ने कहा कि जल्द ही मामले का खुलासा कर दिया जाएगा .लेकिन 2 महीने बीत जाने के बाद भी पुलिस हत्याकांड का खुलासा करने में असफल रही है.

इसे भी पढ़ें : कृषि और गन्ना विकास विभाग के अधिकारी डेनियल एक्का ने 10 करोड़ खर्च कर कर दी हेराफेरी

  • 02 मार्च 2018: बरियातू के हरिहर सिंह रोड में शिवा लोहरा की गोली मारकर हत्या कर दी गई. इस मामले में 5 हत्यारों को  पहचान कर लेने का दावा किया लेकिन खुलासा नहीं हो सका ना ही कोई नहीं पकड़ा गया.
  • 05 मार्च 2018 : तुपुदाना क्षेत्र में एक युवक की हत्या, जला कर शव फेंका.कोई खुलासा नहीं हो पाया और ना ही हत्यारे का  सुराग तक नहीं मिला.
  • 15 मार्च 2018: चुटिया थाना क्षेत्र में घर में घुसकर  अरुण नाग की गोली मारकर हत्या कर दी गई. खुलासा पुलिस नहीं कर पाई है .इस मामले में 5 पर  प्राथमिकी दर्ज हुई पर कोई गिरफ्तारी नहीं.
  • 07 सितंबर 2018 : सीएम हाउस के सामने पूर्व एसपीओ बुधु दास की गोली मारकर हत्या पुलिस ने  शूटर की पहचान कर लेने का दावा किया है. मामला का खुलासा करने में अभी तक पुलिस नाकाम रही है और ना ही  किसी  गिरफ्तारी हुई है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: