JharkhandLead NewsRanchi

खुफिया रिपोर्ट के बाद अलर्ट मोड पर रांची पुलिस, किसी भी अनहोनी से निपटने को तैयार, कई इलाके सील

Ranchi: खुफिया विभाग की चेतावनी के बाद रांची पुलिस अलर्ट मोड पर है. राजधानी में फिर से गत 10 जून की घटना की पुनरावृति न हो इसको लेकर खुफिया विभाग की रिपोर्ट के आधार पर संवेदनशील इलाकों में पुलिस की निगरानी बढ़ा दी गई है. रांची डीआईजी अनिश गुप्ता, रांची एसएसपी सुरेंद्र झा लगातार पल-पल की जानकारी ले रहे हैं. सिटी एसपी आर अंशुमन भी अपनी टीम के साथ मुस्तैद हैं. पुलिस की कड़ी सुरक्षा व्यवस्था देखने को मिल रही है. मेन रोड समेत शहर में सुरक्षा के तगड़े इंतजामात किए गए है. पुलिस की तैनाती के साथ बेरिकेटिंग आदि की व्यवस्था की गई थी. हिदपीढ़ी, डोरंडा जैसे संवेदनशील इलाको को सील कर दिया गया है. इलाके में भारी संख्या मे पुलिस बल तैनात किया गया है. सिविल ड्रेस में भी पुलिस की तैनाती की गई. जिससे कि किसी भी प्रकार की संदिग्ध गतिविधि पर नजर रखी जा सके.

ये भी पढ़ें-  Jamshedpur : सैरात के बढ़ाये गये किराये के विरोध में बारीडीह की दुकानें रही बंद

कई संदिग्ध चेहरे पर भी है पुलिस की नजर

ram janam hospital
Catalyst IAS

हिंसा की घटना में शामिल उपद्रवियों की तलाश में पुलिस ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है. पुलिस वीडियोग्राफी के आधार पर उपद्रवियों को चिह्नित करने में लगी है. फुटेज में उपद्रवी दंगा करते दिख रहे हैं. जो वीडियो सामने आए हैं उनमें साफ दिख रहा है कि उपद्रवी पत्थरबाजी कर रहे हैं. शहर में भारी सुरक्षाबल तैनात है. पुलिस सुत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इलाही नगर समेत कई संवेदनशील इलाके में अजनबी चेहरे देखे गये है. पुलिस इस अनजान लोगों पर भी नजर रख रही है. रांची हिंसा में यूपी के सहारनपुर से करीब एक दर्जन लोगों के शामिल होने की जानकारी पुलिस को मिली थी, साथ ही पत्थरबाजी की घटना में रोहिग्या के शामिल होने की भी सूचना मिली थी. खुफिया जानकारी के अनुसार बीते मंगलवार को हिदपीढ़ी थाना में शांति समिति की बैठक में दो उपद्रवी भी शामिल थे.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

राज्यपाल का निर्देश, सरकार का स्पष्टीकरण

बीते सोमवार को राज्यपाल रमेश बैस ने डीजीपी, एडीजी अभियान, राँची डीसी और एसएसपी को राज भवन में तलब किया था. मेन रोड में हिसा घटना पर विस्तृत जानकारी ली. उन्होने इस दौरान कहा कि सभी प्रदर्शनकारियों और पकड़े गए लोगों का विवरण प्राप्त करें, उनके नाम/पते सार्वजनिक करें, शहर में मुख्य स्थानों पर उनकी तस्वीरें प्रदर्शित करके उनके होर्डिंग बनाएं ताकि जनता भी उन्हें पहचान सके और पुलिस की मदद कर सके. इसके बाद पुलिस मामले को गंभीरता से लिया और शहर के मुख्य चौक चौराहे पर 33 आरोपी का दो पोंस्टर लगाना शुरु किया तो जेएमएम ने इसका विरोध किया. इसके बाद बुधवार को गृह विभाग के प्रधान सचिव ने एसएसपी सुरेद्र झा से स्पष्टीकरण मांगा. स्पष्टीकरण दो दिनों के अंदर मांगा है. अपने पत्र में हाईकोर्ट इलाहाबाद द्वारा पी.आई.एल. संख्या-532/2020 मंज दिनाक 09.03.2020 को पारित न्यायादेश का भी हवाला दिया है.

ये भी पढ़ें- Jamshedpur : आदित्यपुर इंडस्ट्रियल एरिया की बंद पड़ी 26 कंपनियां फिर से होगी चालू, लोगों को मिलेगा रोजगार

 

Related Articles

Back to top button