न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अपराध से खौफ में रांची पुलिस, डीजीपी ने पुलिसकर्मियों को मुख्यालय ड्यूटी के बाद एंटी क्राइम चेकिंग में लगने के दिया निर्देश

1,089

Ranchi: रांची में घट रही अपराधिक घटनाओं ने पुलिस विभाग की नींद उड़ा दी है. अपराध की घटनाओं को रोकने के लिए डीजीपी डीके पांडेय ने सोमवार को एक आदेश जारी किया है. जिससे यह पता चलता है कि झारखंड पुलिस मुख्यालय रांची को लेकर किस तरह टेंशन में है. डीजीपी ने अपने आदेश में कहा है कि पुलिस मुख्यालय में प्रतिनियुक्त पुलिस पदाधिकारी और जवान भी शाम में एंटी क्राईम चेकिंग में शामिल हों. वैसे पदाधिकारी व जवानों को इसमें शामिल होना होगा जिन्हें विभाग की तरफ से मोटरसाइकिल उपलब्ध कराया गया है.

इसे भी पढ़ें: नरेंद्र सिंह होरा हत्याकांड को सुलझाने में लगी है रांची पुलिस की विशेष अनुसंधान टीम

पुलिस मुख्यालय के सीनियर अफसर से लेकर जवान तक हतप्रभ

डीजीपी के इस आदेश के जारी होने के बाद पुलिस मुख्यालय के सीनियर अफसर से लेकर जवान तक हैरान हैं. उन्हें समझ में नहीं आ रहा है कि जब रांची जिला को बड़ी संख्या में जवानों  के साथ-साथ तमाम तरह की सुविधायें दी गयी हैं, तो फिर मुख्यालय में पदस्थापित पदाधिकारी व जवान को क्यों शहर में तैनात किया जा रहा है. कुछ अफसर इसे अमानवीय भी बता रहे हैं. उनका कहना है कि दिन भर मुख्यालय में कार्यालय ड्यूटी करने के बाद शाम में जिला में ड्यूटी करना किसी के लिए भी मुश्किल भरा काम है.

इसे भी पढ़ें: नरेंद्र सिंह होरा हत्याकांड : चैंबर सदस्य सीएम से मिले, सीएम ने कहा- जल्द होगी अपराधियों की गिरफ्तारी

पुलिस के सर चढ़कर बोल रहा है अपराध का खौफ

रांची पुलिस के सर के ऊपर अपराध का खौफ चढ़कर बोल रहा है. जिस तरह से अपराधियों के द्वारा पुलिस की सुरक्षा व्यवस्था को अनदेखी करते हुए एक के बाद एक घटना का अंजाम दिया जा रहा है. इससे साफ जाहिर होता है कि अपराधियों के आगे रांची पुलिस बेबस नजर आ रही है. अपराधियों का खौफ तो इस कदर बढ़ गया है कि पुलिस मुख्यालय में दिन भर काम करने वाले पुलिस पदाधिकारियों और पुलिसकर्मियों को राज्य के पुलिस महानिदेशक के द्वारा निर्देश दिया गया है कि दिन भर काम करने के बाद शाम में एंटी क्राइम चेकिंग में लगने का निर्देश दिया गया है.

72 घंटे होने को हैं पुलिस ने गिरफ्तार कर पायी है नरेंद्र सिंह होरा के हत्यारों को

चावल कारोबारी नरेंद्र सिंह हत्याकांड के 72 घंटे होने को हैं, लेकिन हत्यारों की गिरफ्तारी तो दूर उसकी पहचान भी पुलिस नहीं कर सकी है. अब इस मामले की जांच की कमान सीआईडी के एडीजी अजय कुमार ने संभाल ली है. रविवार को उन्होंने मेन रोड जाकर मुआयना किया, जहां कारोबारी को गोली मारने के बाद अपराधी फरार हो गए थे.

इसे भी पढ़ें : 26.75 करोड़ में बनेगा बिरसा मुंडा म्यूजियम, 15 नवबंर 2019 तक पूरा होगा कार्य

palamu_12

सरकार से लेकर पुलिस महकमा तक का हर दावा फेल

रांची में सरकार से लेकर पुलिस महकमा तक का हर दावा फेल नजर आता है. जब अपराध पर लगाम लगाने के मामले में पुलिस फिसड्डी साबित होती है. शुक्रवार की रात सरेआम व्यवसायी नरेन्द्र सिंह होरा की हत्या रोस्पा टावर के पास गोली मार कर दी गयी और अपराधी उनकी स्कूटी लेकर फरार हो गये. घटना के कई घंटों बाद भी मामले में ठोस नतीजा नहीं निकल पाया है. बात हत्याओं की करें या जहरीली शराब से मौत होने की. पुलिस हर मामले में फेल हो रही है. पुलिस रिकार्ड के अनुसार, पिछले आठ माह जनवरी से अगस्त तक रांची में 128 हत्यायें, 115 दुष्कर्म और 1631 चोरियां हुई हैं. जबकि राजधानी रांची में पुलिस महकमे के हर उच्चाधिकारी बैठते हैं और सुरक्षा को लेकर कई प्रबंध भी किये गये हैं. पुलिस को अत्‍याधुनिक सुविधाओं से लैस किया जाता रहा है. इसके बावजूद पुलिस अपराधियों पर शिकंजा नहीं कस पा रही है.

इसे भी पढ़ें : CM का विभाग : 441.22 करोड़ का घोटाला, अफसरों ने गटका अचार और पत्तों का भी पैसा

पिछले 24 घंटे में दो बड़ी लूट की घटना

पिछले 24 घंटे की बात करें तो रांची शहर में में दो बड़ी लूट की घटना का अंजाम अपराधियों के द्वारा दिया गया.

1 -अरगोड़ा थाना क्षेत्र के टूनुर टोली में रविवार को दिन के 1:30 बजे एक बाइक से आये तीन अपराधियों ने मुक्ति गैस एजेंसी के मुंशी से गोदाम में घुसकर लगभग 4 लाख रुपये की लूट पिस्टल के बल पर करके फरार हो गये.

2- दूसरी घटना सोमवार को धुर्वा थाना क्षेत्र के शिव मार्केट स्थित बर्मन ज्वेलर्स के मालिक राजकुमार वर्मा से सुबह के 9:30 बजे एक बाइक से आए दो अपराधियों ने दुकान के पास से ही थैले में रखे लगभग 30 लाख के जेवरात लूटकर फरार हो गये.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: