Crime NewsDeogharJharkhand

Ranchi: आठवीं-दसवीं पढ़े लोग कर रहे बड़े-बड़े साइबर फ्रॉड, दो गिरफ्तार

Ranchi: साइबर अपराध दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है. झारखंड में साइबर फ्रॉड की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं. सबसे खास बात है कि साइबर फ्रॉड करने के तरीके भी बड़ी तेजी से बदले हैं और अब किसी भी उम्र के लोग या कोई खास ढ़ाई किए लोग साइबर फ्रॉड कर रहे हैं.

महज 8वीं और दसवीं पास युवक लोगों को चुना लगा लाखो के साइबर फ्रॉड की घटना को अंजाम दे पुलिस को सकते में डाले हुए थे. मामले की सूचना सीआईडी को मिलने के बाद दोनों अपराधियों को धर दबोचा गया. ये साइबर अपराधी इतने शातिर थे कि मोबाइल हैक कर भी ये लोगों के खाते से पैसा उड़ा लेते थे.

इसे भी पढ़ें:पलामू : टीएसपीसी उग्रवादियों से मिलने जा रहे महिला-पुरूष गिरफ्तार, 15 पर्चा बरामद

Sanjeevani

रांची के सदर थाना क्षेत्र में साइबर अपराधी की वारदात का मामला सीआईडी के हाथ आया जिसके बाद मामले के अनुसंधान के बाद देवघर से 2 अपराधियों शमशाद नूरानी और कदम रसूल को धर दबोचा गया.

अपराधियों के पास से कई मोबाइल और बैकों के दस्तावेज भी बरामद हुए. अपराधी olx फ्रॉड, ओटीपी फ्रॉड के साथ मोबाइल हैकिंग के जरिए भी साइबर फ्रॉड की वारदात को अंजाम देते थे.

सीआईडी में साइबर एसपी एस कार्तिक ने बताया कि इन अपराधियों ने गूगल पर भी कस्टमर केयर का नंबर दिया था जिस वजह से भी लोग इनके झांसे मे आसानी से आ जाते थे.

इसे भी पढ़ें :सारंडा के आदिवासियों की हकमारी, शाह बदर्स को SDO ने चेताया- मजदूरों काे जल्द करें भुगतान, वरना सख्त कार्रवाई

आपको बता दें कि साइबर थाना रांची में सदर थाना क्षेत्र में रहने वाले सुशील उरांव ने प्राथमिकी दर्ज करवाई थी, उनके खाते से साइबर अपराधियों ने एनीडेस्क एप्लीकेशन डाउनलोड करवा कर खाते की डिटेल ली और उनके खाते से दो लाख तीन हजार गायब कर दिए.

मामला दर्ज होने के बाद सीआईडी की टीम जब जांच में जुटी तो नयी जानकारी मिली की पैसे की निकासी देवघर से की गई है ,जिसके बाद सीआईडी की टीम ने टेक्निकल मदद से इन्हें गिरफ्तार किया.

इसे भी पढ़ें:सहायक पुलिसकर्मी पुष्पा कुल्लू की मौत की जिम्मेवार राज्य सरकार: दीपक प्रकाश

Related Articles

Back to top button