JharkhandLead NewsRanchi

रांची के पार्कों में अब मिलेगी फ्री में इंट्री

ठेकेदारों की जगह अब एनजीओ को संचालन व्यवस्था सौंपी जाएगी

Ranchi : राजधानी के पार्कों में बहुत जल्द ही लोगों को फ्री में इंट्री मिलेगी. इसके लिए संचालन व्यवस्था बदलाव किया जाएगा. बहुत जल्द नयी दिल्ली की तर्ज पर नयी व्यवस्था यहां लागू होनेवाली है. अभी तक जहां पार्कों की देखरेख का कार्य टेंडर निकाल कर ठेकेदारों को सौंप दिया जाता था. अब इन पार्कों के संचालन का की जिम्मेदारी स्वयंसेवी संस्थाओं और एनजीओ को सौंपे जाने की तैयारी चल रही है.

इसे भी पढ़ें:बिहार चुनाव : महागठबंधन के सीएम उम्मीदवार तेजस्वी का ट्वीट… नीतीश कुमार बिहार नहीं संभाल सकते

निगम परिषद ने दे दी है मंजूरी

ram janam hospital
Catalyst IAS

इस नयी व्यवस्था की सबसे खास बात यह है कि इसमें पार्कों में लोगों के प्रवेश को पूरी तरह से फ्री करने का निर्णय लिया गया है. मतलब, पार्क में इंट्री करने पर किसी प्रकार का चार्ज लोगों से नहीं लिया जायेगा. पार्क संचालन की इस नयी व्यवस्था के प्रस्ताव को हाल ही में आयोजित निगम परिषद की बैठक में रखा गया था. इसे निगम परिषद ने मंजूरी दी है.

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इसे भी पढ़ें:धनबाद  में भीषण सड़क हादसा, पांच लोगों की मौत

दिल्ली में ऐसी ही व्यवस्था

जानकारी हो कि दिल्ली हजारों पार्क हैं. वहां सिर्फ बड़े-बड़े पार्क में ही प्रवेश करने पर शुल्क लगता है, लेकिन गली-मोहल्ले में जो छोटे पार्क हैं, उनमें इंट्री करने पर किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाता है. दिल्ली नगर निगम ने ऐसे पार्कों का संचालन स्थानीय स्तर पर काम कर रहे एनजीओ, स्वयंसेवी संस्था व सामाजिक संगठनों को सौंप दिया है. पार्क संचालन के एवज में एक निर्धारित राशि हर माह दिल्ली नगर निगम इन संस्थाओं को देती है.बदले में ये संस्थाएं पार्क को पूरी तरह से मेंटेन करके रखती हैं.

इसे भी पढ़ें:बिहार चुनाव : पीएम मोदी की डबल इंजन सरकार को लालू प्रसाद ने ट्रबल इंजन का सर्टिफिकेट दिया

नगर निगम हर माह देगा निर्धारित राशि

कुछ इसी तरह की ही व्यवस्था रांची में भी करने की तैयारी है. इसके तहत जो स्वंयसेवी संस्था व एनजीओ पार्क का रख-रखाव करेंगी उन्हें रांची निगम हर माह एक निर्धारित राशि देगा.

इसे भी पढ़ें:हाय रे डिस्टिलरी तालाब! पार्क ने किया ‘अधमरा’, ये नया सब्जी मार्केट तो जान ही लेकर मानेगा

 

Related Articles

Back to top button