JharkhandLead NewsNEWSRanchi

Ranchi News: अपर बाजार तो हो रहा है जाममुक्त, पूरे शहर में कब करेंगे कार्रवाई

Ranchi: रांची नगर निगम और जिला प्रशासन हाईकोर्ट की फटकार के बाद अपर बाजार की सड़कों को खाली कराने के प्रति रेस हो गया है. गाड़ियों को उठाने के साथ ही ओनर्स पर फाइन लगाने का सिलसिला शुरू कर दिया गया है. जिससे अपर बाजार तो जाम से मुक्त हो जाएगा, लेकिन पूरे शहर को लेकर निगम और प्रशासन कब अभियान चलाएगा. यह शहर का हर व्यक्ति जानना चाहता है. लोग चर्चा कर रहे है कि कहीं इसके लिए भी हाईकोर्ट के आदेश का इंतजार तो नहीं किया जा रहा है. जाहिर है जाम शहर की बड़ी समस्या में है. शहर में कई स्पॉट हैं जहां या तो पार्किंग नहीं है या बेतरतीब पार्किंग की वजह से जाम लगता है.

इसे भी पढ़ेंःसांसद निशिकांत की पत्नी अनामिका गौतम की एक और जमीन का म्यूटेशन रद्द करने का देवघर डीसी ने दिया आदेश

advt

शहर में मॉल्स खुल गए. जहां करोड़ों का कारोबार चल रहा है. बड़े-बड़े हॉस्पिटल में मरीजों का इलाज कर लाखों रुपए की कमाई हो रही है. फिर भी इन जगहों पर पार्किंग के लिए जगह नहीं है. वहीं कुछ जगहों पर तो गिनती की गाड़ियां लगाने की जगह है. इस वजह से आने वाली सभी गाड़ियां रोड पर ही लगा दी जा रही है. जिससे कि हमेशा जाम से लोग जूझ रहे है. कभी-कभी निगम अभियान चलाकर आईवॉश कर देता है. इसके बाद स्थिति पहले जैसी हो जाती है.

 

मेन रोड वूल हाउस कपड़े की बड़ी और पुरानी दुकान है. लेकिन इसकी अपनी कोई पार्किंग नहीं है. इस वजह से खरीदारी को आने वाले वहीं पार्क कर चले जाते है. कुछ दूरी पर ही नगर निगम की पार्किंग है. जिसमें 10-15 गाड़ियों के लगाने की जगह है. इस वजह से जाम लगता है.

इसे भी पढ़ेंःहाई स्कूल शिक्षक नियुक्ति के अभ्यर्थियों ने शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो का आवास घेरा

एसआरएस मॉल डंगरा टोली में स्थित है. इसकी पार्किंग भी बड़ी है. इसके बावजूद गाड़ियां रोड पर ही लग रही है. जिससे कि गाड़ियों के आवागमन में काफी परेशानी होती है. चूंकि गाड़ियों के रोड पर खड़े होने से रोड की चौड़ाई भी कम हो जाती है.

 

पल्स हॉस्पिटल कुछ महीने पहले ही शुरू हुआ. जहा पर सैकड़ों मरीज इलाज के लिए पहुंचते हैं. लेकिन इतने बड़े हॉस्पिटल में गाडियों के पार्किंग की व्यवस्था नहीं की गई है. जिससे कि सभी गाड़ियां रोड साइड में लगती है. जिससे गाड़ियां रोड तक पहुंच जाती है और जाम लगता है.

 

न्यूक्लियस मॉल के सामने गाड़ियों की पार्किंग होती है. रोड के दोनों ओर टू व्हीलर्स की लाइन लगी होती है. जिसे देखने वाला कोई नही है. जबकि उस चौक पर ट्रैफिक और पुलिस के जवान हमेशा तैनात रहते है. फिर भी गाड़ी पार्क करने वालों पर कोई कार्रवाई नहीं होती.

आर्किड हॉस्पिटल में बेसमेंट में पार्किंग है. लेकिन वहां पर केवल अधिकारियों और स्टाफ की गाड़ियां लगती है. इसके बाद हॉस्पिटल की एंबुलेंस और लोगों की गाड़ियां रोड पर ही लगती है. इसे लेकर नगर निगम ने फाइन भी लगाया था. लेकिन न तो प्रबंधन ने गाड़ियों को हटाया और न ही कोई दूसरी व्यवस्था की. जबकि उस जगह को नो पार्किंग जोन घोषित किया गया है.

सेंटेविटा हॉस्पिटल के पीछे के रास्ते को वनवे घोषित किया गया था. वहीं हॉस्पिटल के सामने गाड़ी लगाने पर फाइन भी काटा गया था. इसके बाद भी सामने और पीछे में गाड़ियों की पार्किंग कराई जा रही है. जिससे कि दोनों ही रोड पर जाम की स्थिति बनी रहती है.

 

आलम हॉस्पिटल भी अब सुपरस्पेशियलिटी हो चुका है. काफी संख्या में मरीज इलाज को आते है. लेकिन आजतक अपनी पार्किंग प्रबंधन ने नहीं बनाई. सभी का गाड़ियां रोड के दोनों ओर लगा दी जाती है. पहले से कम चौड़ी सड़क और संकरी हो जाती है.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: