HEALTHJharkhandRanchi

RANCHI NEWS : 100 दिन तक टीबी के एक्टिव केस ढूंढेगा स्वास्थ्य विभाग

Ranchi : डीसी छवि रंजन ने सोमवार को सदर हॉस्पिटल परिसर से कोविड सह टीबी सघन प्रचार और टीबी उन्मूलन 2025 के अंतर्गत एक्टिव केस फाइंडिंग 100 दिन, 100 ज़िले की शुरुआत की. जिसमें रांची के 13 ब्लॉक के 1069 गांव में ट्राइबल आबादी की स्क्रीनिंग के लिए डीसी ने जांच वाहन व बाइक को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया.

ट्राइबल मिनिस्ट्री और हेल्थ मिनिस्ट्री की देखरेख में जिला के आदिवासी बहुल जनजातीय क्षेत्रों में कोरोना और टीबी की कड़ी को तोड़ने में 305 पंचायत सदस्यों, 2644 सहिया तथा पिरामल स्वास्थ्य के 26 कर्मी को लगाया गया है. जो अगले 100 दिनों तक घर-घर जाकर टीबी के एक्टिव केस ढूंढने का काम करेंगे. वहीं अनमाया कार्यक्रम के अंतर्गत उन्हें जोडा जाएगा.

इस मौके पर सिविल सर्जन डॉ विनोद कुमार, डिस्ट्रिक्ट टीबी आफिसर डॉ एस मंडल, डीपीसी राकेश कुमार, पीरामल स्वास्थ्य के विशाल कुमार, देबाशीष सिन्हा, डॉ जगजीत सिंह समेत अन्य पदाधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें:फीस वसूली में प्राइवेट स्कूलों की मनमानी पर लगे लगाम, सरकार, जनप्रतिनिधियों और स्कूल प्रबंधन के बीच हो बात : सांसद संजय सेठ

वैक्सीनेशन को लेकर जागरूकता जरूरी

डीसी ने बताया कि टीबी उन्मूलन के लिए कोविड-19 के वैक्सीनेशन की फर्स्ट डोज और सेकेंड डोज को लेकर जागरूकता लानी होगी. साथ ही कहा कि जनजातीय क्षेत्र में टीबी से होने वाली मौत व दुष्प्रभाव व्यक्ति की कार्यशक्ति से लेकर पारिवारिक आर्थिक स्थिति को प्रभावित करता है.

उन्होंने कहा कि शुरुआती दौर में यह कार्यक्रम 100 दिन चलाया जाएगा. जिसके तहत कम्युनिटी मोबलाइजर, पारा मेडिकल स्टाफ, सहिया व अन्य विभागों के सहयोग से एक सूक्ष्म कार्ययोजना के आधार पर जिले के सभी गांवों, कस्बों, मोहल्लो में घर-घर जाकर टीबी लक्षण वाले संभावित मरीजों की पहचान करेगी.

साथ ही उनका स्पुटम (खखार) का सैंपल लेने के बाद उसे जांच केंद्रों तक पहुंचाया जाएगा. टीबी से संक्रमित मरीजों को मुफ्त दवा देने के अलावा निक्षय योजना के लाभ से जोड़ने का कार्य करेंगे. जिससे कि टीबी हारेगा, देश जीतेगा.

इसे भी पढ़ें:स्मृति मंधाना दूसरी बार चुनी गईं आईसीसी महिला क्रिकेटर ऑफ द इयर

Advt

Related Articles

Back to top button