Ranchi

रांची नगर निगमः स्पेरो सॉफ्टेक से करीब तीन फीसदी कम दर पर श्री पब्लिकेशन कंपनी करेगी काम

Ranchi:  रांची नगर निगम क्षेत्र में होल्डिंग, वाटर यूजर और ट्रेड लाइसेंस टैक्स वसूली के लिए नयी कंपनी श्री पब्लिकेशन का चयन हो चुका है. नयी कंपनी पहले की कंपनी स्पेरो सॉफ्टेक की तुलना में राजस्व वसूली के कामों के लिए करीब 3 प्रतिशत कम कमीशन लेगी. स्पेरो सॉफ्टेक उपरोक्त कर वसूली में करीब 10.5 प्रतिशत कमीशन लेती थी. लेकिन नयी कंपनी इस काम के लिए केवल 7.34 प्रतिशत कमीशन लेगी. निगम में पिछले छह वर्षो में हुई राजस्व वसूली के आंकड़ों को देखे, तो नयी कंपनी के कमीशन रेट के आधार पर निगम को 6.50 करोड़ रूपये की बचत होती.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ेंः18.18 मेगावाट विस्तार क्षमता के बाद भी सूबे में सौर ऊर्जा का काम अधूरा, 2019 में 3.45 मेगावाट विस्तार

मेयर और विभाग के बीच विवाद से चर्चा में है निगम

बता दें कि उपरोक्त टैक्सों की वसूली काम के लिए नयी कंपनी के चयन को लेकर नगर निगम बीते कई दिनों से चर्चा में है. मेयर लगातार कंपनी स्पेरो सॉफ्टेक को ही कार्य विस्तार देने पर अड़ी है. मेयर का कहना है कि पुरानी कंपनी ने निगम की राजस्व व्यवस्था को सुधारा है. दूसरी तरफ नगर विकास विभाग की एजेंसी सूडा ने एक नयी कंपनी का चयन किया है. इससे नाराज मेयर हाईकोर्ट तक चली गयी है. इन सबके बीच निगम अभी अपने स्तर पर ही राजस्व वसूली कर रहा है.

राजस्व वसूली के लिए नयी कंपनी का हुआ है चयन

नगर विकास विभाग ने निगम क्षेत्र में राजस्व वसूली काम के लिए श्री पब्लिकेशन्स का चयन किया है. अगले तीन वर्षों के लिए इसी एजेंसी द्वारा राजस्व वसूली का काम किया जायेगा. पूर्व में राजस्व संग्रहण करनेवाली एजेंसी का कमीशन 10.5 प्रतिशत था, जो अब नयी प्रक्रिया में घट कर 7.34 प्रतिशत हो गया है. विभाग का दावा है कि नयी एजेंसी द्वारा टैक्स संग्रहण करने पर टैक्स में बिना किसी वृद्धि के भी निगम को करोड़ों रुपये की बचत होगी. यह राशि अगले तीन वर्षों में 4.5 करोड़ रुपये तक आकलित की गयी है.

Samford

इसे भी पढ़ेंः CWC बैठकः सोनिया ने की इस्तीफे की पेशकश, पत्र की टाइमिंग पर राहुल नाराज

 

176.11 करोड़ वसूल कर स्पेरो ले चुका है 18.49 करोड़ रुपये कमीशन

 

पूर्व वर्षों में राजस्व वसूली के आंकड़ों को देखे, तो स्पेरो सॉफ्टेक ने अबतक करीब 176.11 करोड़ रूपये की राशि वसूली है. यह राशि वित्तीय वर्ष 2014-15 से 2020-21(Till Q-2) तक के लिए है.

वित्तीय वर्षराजस्व वसूली की राशि (करोड़ में)
2014-158.20
2015-169.82
2016-1715.18
2017-1829.48
2018-1943.05
2019-2050.07
2020-2120.31(Till Q-2)

स्पेरो सॉफ्टेक ने इस काम के लिए 10.5 प्रतिशत कमीशन के हिसाब से करीब 18.49 करोड़ ले चुकी है. उपरोक्त वित्तीय वर्षो में यह राशि क्रमशः 86 लाख, 1.03 करोड़, 1.59 करोड़, 3.09 करोड़, 4.52 करोड़, 5.25 करोड़ और 2.13 करोड़ बनती है. नयी कंपनी श्री पब्लिकेशन जिस कमीशन दर (7.34 प्रतिशत) पर काम कर रही है, उससे इसकी तुलना करें, तो इन वित्तीय वर्षों में यह राशि क्रमशः 60 लाख, 72 लाख, 1.11 करोड़, 2.16 करोड़, 3.15 करोड़, 3.68 करोड़ और 1.49 करोड़ होती है. राशि कुल 12.09 करोड़ होती है. ऐसे में नयी कंपनी के कमीशन दर से निगम को करीब 6.38 करोड़ की बचत होती.

इसे भी पढ़ेंःराज्य में कोयला कारोबारियों को निशाना बना रहे अपराधी और उग्रवादी

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: