Court NewsJharkhandRanchi

रांची: राष्ट्रीय लोक अदालत में 58 हजार से अधिक मामलों का हुआ निपटारा, 102 करोड़ से अधिक राशि की हुई रिकवरी

Ranchi: रांची सिविल कोर्ट में शनिवार को राष्ट्रीय लोक अदालत का उदघाटन, डालसा हॉल, 40 कोर्ट भवन में हुआ. इसके आयोजन के लिए न्यायिक दण्डाधिकारियों के लिए 27 बेंच एवं कार्यपालक दण्डाधिकारियों के लिए 19 बेंच का गठन किया गया था. इस राष्ट्रीय लोक अदालत में कुल 58 हजार से अधिक वादों का निष्पादन किया गया एवं 102 करोड़ से अधिक रूपयों की समझौता राशि की वसूली विभिन्न वादों में किया गया. जिसमें प्रीलिटिगेशन एवं लिटिगेशन के वादों का निष्पादन सम्मिलित है.

इसे भी पढ़ें: तिरंगा यात्रा में शामिल हुए राज्यपाल रमेश बैस, कहा- देश से ही हमारी पहचान

मौके पर न्यायायुक्त रांची अरूण कुमार राय ने कहा कि लोक अदालत एक सरल माध्यम हैं, जिसमें लोग अपने वादों को मध्यस्थता के माध्यम से आपसी समझौता के आधार पर सुलझा सकते हैं.   प्रधान न्यायाधीश, कुटुम्ब न्यायालय रशिकेश कुमार ने कहा कि पिछले बार आयोजित होनेवाले लोक अदालत के अपेक्षा इस बार अधिक वादों का निष्पादन हुआ हैं. रांची जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष  शम्भु प्रसाद अग्रवाल ने  सभी मध्यस्थों एवं अधिवक्ताओं से आग्रह किया कि न्याय प्रशासन के साथ मिलकर सहयोग करें एवं अधिक से अधिक लंबित वादों का निबटारा करें. इस अवसर पर उग्रवादी हिंसा में मृतक स्व. मनोहर महतो के पत्नी अबनी देवी को  50 हजार का चेक मिला. यह चेक  प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय रशिकेश कुमार के हाथों दिया गया. मनोहर महतो, ग्राम-डोका टोली, थाना नगड़ी, जिला रांची के रहने वाले थे. उग्रवादी हिंसा में मनोहर महतो की मृत्यु 5 अगस्त 2002 को हो गयी थी. सरकार द्वारा देय अनुग्रह अनुदान  शनिवार को मृतक के पत्नी अबनी देवी को 50 हजार का चेक सौंपा गया.

Sanjeevani

वही, वाहन दुर्घटना के मामले में  बैंक कर्मचारी संजय अरविंद कुल्लू की माता हिलारियुस कुल्लू को  57,98,334 लाख रूपये का चेक  मिला.मृतक के माता को यह चेक न्यायायुक्त के हाथो दिया गया. हिलारियुस कुल्लू के पुत्र का देहांत खूंटी जाने के क्रम में वाहन दुर्घटना में हो गया था. संजय अरविंद कुल्लू एसबीआई बैंक, तोरपा ब्रांच के कर्मचारी थे. वाहन दुर्घटना 19 दिसंबर 2017  को हुआ था.

इसे भी पढ़ें: PM नरेंद्र मोदी ने झारखंड के LAWN BALL खिलाड़ियों का बढ़ाया उत्साह, कहा- कॉमनवेल्थ गेम्स में आपने रचा इतिहास

Related Articles

Back to top button