न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

छह साल बीतने के बाद भी साईंनाथ यूनिवर्सिटी ने नैक को नहीं सौंपी अपनी रिपोर्ट

साईंनाथ यूनिवर्सिटी का नहीं है नैक ग्रेडिंग

532

Ranchi: साईनाथ यूनिवर्सिटी को झारखंड में स्थापित हुये छह साल हो गये, लेकिन अभी तक यूनिवर्सिटी ने राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्यायन परिषद (नैक) का ग्रेडिंग नहीं लिया है. यूजीसी के नियमों को अनुसार कोई भी यूनिवर्सिर्टी जिसके स्थापना के पांच साल पूरे हो चुके हैं, उन्हें अनिवार्य रूप से नैक की ग्रेडिंग लेनी होती है ताकि विश्वविद्यालय की कार्य प्रणाली का जायजा लिया जा सके.

mi banner add

2012 में हुई थी साईंनाथ यूनिवर्सिटी की स्थापना

साईंनाथ यूनिवसिर्टी का गठन झारखंड में वर्ष 2012 में यूनिवर्सिटी एक्ट के तहत किया गया है. लेकिन छह साल बीतने के बाद भी साईंनाथ यूनिवर्सिटी ने अब तक अपना नैक एक्रिडेशन नहीं कराया है. इसके कारण छात्रों को यूनिवर्सिटी की गुणवत्ता के बारे में सही रूप से नहीं पता चल पाता है. वहीं साईंनाथ के प्रबंधक प्रोफेसर एसपी अग्रवाल ने न्यूज विंग को बताया कि इस दिशा में साईंनाथ यूनिवर्सिटी प्रयासरत है. जल्द ही नैक के लिए यूनिवर्सिटी आवेदन करेगा.

इसे भी पढ़ें- धनबाद सांसद ने मेयर को बताया ‘बेवकूफ’ तो मेयर ने दिलाई याद, प्रोटोकॉल में सांसद से ऊपर है महापौर

Related Posts

बेरमो : खेतको में दामोदर नदी के घाट से बालू का अवैध उठाव जारी

प्रतिदिन पचासो की संख्या में टैक्टरों से बालू का उठाव किया जा रहा है.

क्या है नैक ?

नेशनल एसिसमेंट एंड एक्रिडेशन काउंसिल(नैक) भारत सरकार का संस्थान है, जो मानव संसाधन मंत्रालय(एमएचआरडी) के अंतर्गत आता है. नैक देश के यूनिवसिर्टी एवं कॉलेजों का कई स्तरों पर मूल्यांकन करती है, ताकि शिक्षा की गुणवत्ता बरकरार रहे एवं सिलेबस में एकरूपता हो. जिन यूनिवर्सिटी अथवा कॉलेजों की स्थापना के पांच वर्ष या उससे अधिक हो गया हो, उन्हे अनिवार्य रूप नैक से रजिस्ट्रेशन कराना होता है, ताकि उस संस्थान के छात्रों एवं शिक्षकों को वस्तुस्थिति की जानकारी मिल सके. इसके साथ-साथ पाठ्यक्रम एवं शिक्षा की गुणवत्ता का सही रूप से मुल्यांकन कर ग्रेडिंग दी जाती है. नैक ग्रेडिंग के लिए संस्थानों को विश्वविद्यालय का ब्योरा नैक के पास उपलब्ध करना होता है. इसके बाद नैक जांच कर उस संस्थान को ग्रेडिंग प्रदान करती है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: