Corona_Updates

#Ranchi: रिम्स के जूनियर डॉक्टर नॉर्मल ओपीडी का कर सकते हैं बहिष्कार

Ranchi: राज्य के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में मरीजों को मुसीबत का सामना करना पड़ सकता है. ऐसा इसलिए कि रिम्स के नॉर्मल ओपीडी का बहिष्कार जूनियर डॉक्टर करनेवाले हैं. दरअसल जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन ने रिम्स प्रशासन को पत्र देते हुए कुछ मांगें रखी हैं. एसोसिएशन का कहना है कि अगर पत्र पर विचार नहीं किया गया तो जूनियर डॉक्टर्स रिम्स के नॉर्मल ओपीडी का बहिष्कार करेंगे.

जूनियर डॉक्टर्स का कहना है कि हम कोरोना के खतरे को देखते हुए नॉर्मल ओपीडी में बदलाव करना चाहते हैं. उनके अनुसार आउटडोर ओपीडी को बंद किया जाये. ऐसा करने से अस्पताल में अनावश्यक भीड़ नहीं आयेगी और कोरोना और उससे संबंधित रोगियों का समुचित इलाज हो सकेगा.

इसे भी पढ़ें – #Covid-19: इटली में बदत्तर होते हालात, एक दिन में 627 मौतें, दुनिया भर में ढाई लाख से ज्यादा संक्रमित

Catalyst IAS
SIP abacus

अनावश्यक भीड़ से संक्रमण का खतरा बढ़ेगा

MDLM
Sanjeevani

आउटडोर ओपीडी के खुला रहने से अनावश्यक भीड़ बढ़ेगी और संक्रमण का खतरा भी बढ़ेगा. ऐसा करने से 24 घंटे इमरजेंसी व अन्य वार्ड में सेवाएं दी जा सकेंगी.

डॉक्टरों का यह भी कहना है कि हम 24 घंटे कोरोना के मरीजों के लिए काम करना चाहते हैं. अस्पताल प्रबंधन की ओर से डॉक्टरों की सुरक्षा के लिए कोई उपाय नहीं किया जा रहा है. रिम्स प्रबंधन की ओर से मास्क और सुरक्षा किट नहीं दिये जा रहे हैं. ऐसी स्थिति में काम करना संभव नहीं हो पा रहा है.

रिम्स के जूनियर डॉक्टर्स एसोसिएशन के मुताबिक जिस तरह से कोरोना के संभावित मरीजों की संख्या बढ़ रही है, ऐसे में संक्रमण के खतरे भी बढ़ रहे हैं. अब तक दो दर्जन से अधिक संभावित मरीजों की पड़ताल यहां की गयी है.

इस तरह के खतरे की स्थिति में भी प्रबंधन की ओर से डॉक्टरों की सुरक्षा का ध्यान नहीं दिया जाना चिंताजनक है. डॉक्टरों का कहना है कि ऐसी स्थिति में लंबे समय तक सेवा दे पाना संभव नहीं होगा.

इसे भी पढ़ें – #Corona_effect : रांची के आम जनजीवन पर कोराना का असर, स्टेशन वीरान, घट गयी पेट्रोल की बिक्री और बढ़ गया राशन पर खर्च

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button