न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांची : जवान का राइफल लूटने वाले आरोपी की हुई पहचान, रिमांड पर लेगी पुलिस

645

Ranchi : 21 सितंबर 2018 को गोंदा थाना क्षेत्र स्थित सीएम आवास के पास पीसीआर 10 में तैनात पुलिस की राइफल लूटने का मामला सामने आया था. अब इस मामले में अपराधी की पहचान कर ली गयी है. पिछले एक साल से पुलिस राइफल लूटने वाले अपराधी की तलाश कर रही थी.

जानकारी के मुताबिक, पुलिस की जांच में अपराधी आफताब आलम का नाम सामने आया है, जो जवान विजय महतो के हाथ से राइफल लूटकर भागा था. आफताब आलम रांची का कुख्यात स्नैचर है. उसके गैंग में 12 से अधिक सदस्य हैं, जो रांची में छिनतई की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं.

राइफल लूट के बारे में आफताब आलम के बारे में उसी गिरोह के सदस्य ने पुलिस को इसकी  जानकारी दी है. फिलहाल आफताब चेन स्नैचिंग के मामले में जेल में बंद है और पुलिस उसे रिमांड पर लेकर पूछताछ करेगी.

इसे भी पढ़ें – पलामू : पंचायत ने नाबालिग को चरित्रहीन बता लगाया जुर्माना, आहत पिता ने कर ली आत्महत्या  

 कैसे हुआ खुलासा

रांची पुलिस ने कुछ दिन पहले ही आफताब गिरोह के एक शातिर अपराधी को गिरफ्तार किया था. पूछताछ के दौरान उससे पुलिस को जानकारी मिली कि जवान विजय महतो की राइफल आफताब ने ही लूटी थी. जब जवान चाय पीने के लिए पीसीआर वाहन से उतरा था तो उसी समय आफताब ने राइफल लूट लिया था.

हालांकि पुलिस ने तुरंत आफताब का पीछा शुरू कर दिया था. तो पकड़े जाने के डर से आफताब राइफल रांची के मोरहाबादी मैदान के पास फेंककर फरार हो गया था.

इसे भी पढ़ें – हथियार के साथ वीडियो वायरल होने के मामले में तीन गिरफ्तार, एक आरोपी पुलिस को धक्का देकर फरार

 क्या है मामला

21 सितंबर को पीसीआर-10 (जेएच 01बीवाई-2618) कांके रोड स्थित राम मंदिर के पीछे खड़ी थी. पहली शिफ्ट में एएसआई राज किशोर सिंह, आरक्षी विजय महतो, आरक्षी नजारयुश एक्का और आरक्षी दिनेश पासवान तैनात थे. सुबह 6.30 बजे राम मंदिर के पीछे एक चाय के ठेले पर सभी चाय पी रहे थे.

आरक्षी विजय महतो पास में ही वाहनों की जांच कर रहे थे. गोंदा थाना की ओर से एक बाइक पर दो युवक सिदो कान्हू पार्क की ओर मुड़े. आरक्षी ने उन्हें रोका तो वे बहस करने लगे.

उसी वक्त आरक्षी के कंधे से इंसास राइफल थोड़ी नीचे सरकी तो मौका पाकर युवक ने राइफल लूटकर भागने लगा. लेकिन पुलिस ने पीछा किया तो डर से मोरहाबादी में इंसास राइफल फेंक कर दोनों युवक फरार हो गये थे.

इसे भी पढ़ें – तुपुदाना इंडस्ट्रियल एरिया : सिर्फ दो महीने में 50 कारखाने हुए बंद, चार हजार लोगों की गयी नौकरी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: