न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Ranchi: मध्याह्न भोजन योजना में हो रही राशि की अवैध निकासी, विभाग ने प्राचार्यों को व्यवस्था सुधारने का दिया आदेश

321

Ranchi: राज्य भर के स्कूलों में संचालित हो रही मध्याह्न भोजन योजना के तहत मिलनेवाली राशि की अवैध निकासी का मामला प्रकाश में आया है.

इस अवैध निकासी की जानकारी मिलने के बाद विभाग ने आदेश जारी करते हुए स्कूलों के प्राचार्य को व्यवस्था दुरुस्त करने के आदेश दिये हैं.

झारखंड राज्य मध्याह्न भोजन प्राधिकरण की ओर से राज्य के सभी उपायुक्त और जिला शिक्षा पदाधिकारी को पत्र लिखा गया है.

इसे भी पढ़ें – सभी पार्टियों के घोषणापत्र में क्या-क्या है समान, किन खास मुद्दों को दिया है अलग से स्थान, पढ़िये रिपोर्ट

विभाग ने लिखा पत्र

विभाग ने अपने लिखे पत्र में कहा है कि मध्याह्न भोजन योजना का संचालन विद्यालय प्रबंधन समिति की ओर से किया जाता है. इस प्रबंध समिति में स्कूल के प्राचार्य सचिव होते हैं. लेकिन कई प्राचार्य इस काम से खुद को अलग कर रहे हैं. जबकि योजना संचालन की जिम्मेवारी स्कूल प्रबंधन समिति की है.

इस योजना के संचालन के लिए खर्च होनेवाली राशि का प्रबंधन करने की जिम्मेवारी प्राचार्य की है. जबकि इस कार्य से वे खुद को अलग कर रहे हैं. वे ऐसा करने से बच नहीं सकते हैं.

विभाग की ओर से यह आदेश तब जारी किया गया है, जब मध्याह्न भोजन में गबन का मामला प्रकाश में आया. गौरतलब है कि पाकुड़ जिला के सीता पहाड़ उत्क्रमित मध्य विद्यालय से 823404 रुपये, मध्य विद्यालय जमुड़िया से 23,10,774 रुपये एवं उत्क्रमित मध्य विद्यालय पूसरभिट्ठा से 13,34,000 रुपये की अवैध निकासी हुई थी.

Sport House

5 हजार स्कूलों का सोशल व इकोनॉमिक ऑडिट

विभाग में आयी इस शिकायत के बाद पांच हजार से अधिक स्कूलों का सोशल व इकोनोमिक ऑडिट कराया गया. इस ऑडिट के बाद आवश्यकता से अधिक राशि की निकासी विद्यालय प्रबंधन समिति की ओर से की गयी है. इसके बाद मामले पर संज्ञान लेते हुए विभाग ने आदेश जारी किया है.

विभागीय पत्र में कहा गया है कि मध्याह्न भोजन योजना का संचालन विद्यालय प्रबंधन समिति व सरस्वती वाहिनी समिति के द्वारा किया जाता है. इन्हीं दो समितियों के प्रमुख के हस्ताक्षर के बाद पैसे की निकासी की जाती है.

अधिकांश स्कूलों में बैंक पासबुक व योजना संबंधी कागज समिति संयोजिका के निजी आवास पर रहती है. ऐसे में पैसे की अवैध निकासी की संभावना रहती है.

इसे भी पढ़ें – ट्रैफिक व्यवस्था को लेकर मेयर-डिप्टी मेयर के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, अब सीएस ने दिया निर्देश

खाते के प्रति प्राचार्य जिम्मेदार

ऐसा न हो इसके लिए खाते का ब्योरा, पासबुक आदि के प्रति प्राचार्य जिम्मेवार होंगे. किसी भी स्थिति में बैंक अकाउंट संबंधि पेपर संयोजिका के पास नहीं होगा.

खाते से पैसे निकालने और उसकी ऑडिट की जिम्मेवारी स्कूल प्राचार्य की ही होगी. योजना के लिए पैसे की निकासी से पूर्व खाता में मौजूद पैसे की जानकारी रजिस्टर में प्राचार्य लिखेंगे, जिसमें संयोजिका हस्ताक्षर करेगी.

स्कूलों के द्वारा पांच हजार से अधिक की राशि नकद खर्च नहीं की जा सकती है. पैसे का भुगतान चेक के माध्यम से ही करना होगा.

इसे भी पढ़ें – #Parliament में दी गयी जानकारी,  देश के 42 बैंकों ने  2.12 ट्रिलियन रुपये का लोन राइट ऑफ किया  

Mayfair 2-1-2020
SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like