JharkhandRanchi

#Ranchi: बुढ़मू में कई सफेदपोशों के संरक्षण में चल रहा है अवैध बालू कारोबार

Ranchi: बुढ़मू थाना क्षेत्र में अवैध बालू का कारोबार जारी है. रात के अंधेरे में यह खेल कई सफेदपोशों के संरक्षण में चल रहा है.

बालू माफियाओं द्वारा छापर देवनद दामोदर नदी तट के बालू घाट से रोजाना दो दर्जन से अधिक हाइवा वाहन से अवैध बालू का उठाव कर रांची व आसपास के इलाकों में बेचा जा रहा है.

इस खेल में जहां माफियाओं को रोजाना लाखों की कमाई हो रही है, वहीं झारखंड सरकार को राजस्व की हानि हो रही है. परंतु इसपर रोक लगने के बजाय कई सफेदपोशों की मदद से यह अवैध कारोबार जारी है.

इसे भी पढ़ें – #Lockdown : हिंदपीढ़ी व वहां के बाशिंदों को लेकर नये सिरे से सोचना होगा प्रशासन को

सैकड़ो टन बालू किया गया है डंप


बुढ़मू थाना क्षेत्र के छापर देवनद दामोदर नदी तट के वन विभाग की जमीन पर बालू माफियाओं द्वारा अवैध रूप से सैकड़ो टन बालू डंप किया गया है.

बल्कि ऐसा नजारा दामोदर नदी के चुरू गाढा से लेकर छापर 96 कॉलोनी व काली मंदिर मुख्य भाग तक देखने को मिलेगा जहां बालू तस्करों द्वारा अवैध रूप से बालू का भंडारण किया गया है.

लॉक डाउन होते हुए ही बालू का अवैध भंडारण व परिवहन जारी है.

नदी का अस्तित्व बचाने को लेकर आगे आये ग्रामीण

प्रशासन से ग्रामीणों ने मांग की है कि बालू का अवैध कारोबार बंद करायें. ग्रामीणों ने चेताया है कि अगर प्रशासन ने बंद नहीं कराया तो वे खुद ही कारोबार बंद करा देंगे.

दामोदर छापर के अवैध बालूघाट से अवैध बालू तस्करी को लेकर ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री के अलावे डीसी, एसडीओ, डीएमओ राँची व बुढ़मू सीओ को हस्ताक्षर युक्त आवेदन देकर बालू की तस्करी पर कार्रवाई की मांग की है.

इसे भी पढ़ें – अंडमान से 160 मजदूर हवाई और 80 जलमार्ग से झारखंड आ रहे वापस

नहीं हुई है बालू घाट की नीलामी

झारखंड में बालू घाटों की नीलामी नही हुई है. इसके बावजूद बालू घाटों से लगातार बालू का अवैध उठाव जारी है. जिसपर खनन विभाग भी मौन धारण किये हुए है.

वहीँ वन विभाग भी इसका समर्थन करता नजर आ रहा है. वन विभाग के रास्ते छापर बालू घाट तक जाते हैं. इसके बावजूद वन विभाग इसपर कार्रवाई करने की बजाय गहरी नींद में सोया नजर आ रहा है.

स्टॉक चालान दिखा कर सारे बालू का उठाव नदी से किया जा रहा

बालू का यह काला खेल स्टॉक चालान दिखा कर किया जा रहा है. अवैध बालू का उठाव छापर नदी घाट से  हाइवा, टर्बो, डंपर, ट्रैक्टर जैसे वाहनों से होता है. बालू के इस खेल में दर्जनों माफिया सक्रिय हैं.

इसे भी पढ़ें – #Lockdown के बावजूद राज्यभर में पिछले वर्ष से 31 फीसदी अधिक हुई धान की खरीद

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: