JharkhandLead NewsRanchi

रांची : लाइट हाउस के लिए और कितना इंतजार, 1251 आवेदकों के कागजात सही

Ranchi : राजधानी के अनि धुर्वा में लाइट हाउस प्रोजेक्ट के तहत 1008 फ्लैट का निर्माण कार्य चल रहा है. इसके लिए आवेदन की प्रक्रिया लगभग पूरी हो चुकी है. इसके बावजूद रांची नगर निगम फ्लैट के आवंटन के लिए लॉटरी नहीं करा रहा, जिससे कि लाभुक परेशान हैं. वहीं उन्हें इस बात की चिंता सताने लगी है कि कहीं आवेदन का दिया पैसा डूब न जाए. इतना ही नहीं उनके सपनों का आशियाना भी इस चक्कर में सपना ही रह जाएगा.

अब तो लाभुक नगर निगम के चक्कर लगा-लगाकर थक चुके हैं. वहीं एक ही सवाल पूछ रहे है कि लाइट हाउस के लिए और कितना इंतजार करना होगा ? वहीं इस मामले में पूछने पर नगर आयुक्त ने कोई जवाब नहीं दिया.

इसे भी पढ़ें:झारखंड की बेटियों ने वर्ल्ड योग कप 2022 में लहराया परचम, देश को दिलाए 4 पदक

ram janam hospital
Catalyst IAS

1251 आवेदकों के कागजात सही

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

लाइट हाउस में फ्लैट के लिए पहले खरीदार नहीं मिल रहे थे. निगम ने इसके लिए तारीख बढ़ाना शुरू कर दिया. इसके बाद एक समय आया कि 1521 लोगों के आवेदन आ गए, स्क्रूटनी के बाद निगम ने 28 मई 2022 को आवेदकों की नई लिस्ट जारी कर दी गई, जिसमें 1251 लोगों के कागजात सही पाए गए हैं.

वहीं 270 आवेदकों के पेपर अधूरे थे. इसके बाद जल्द ही लॉटरी प्रक्रिया पूरी करने की बात कही गई थी, लेकिन एक और महीना बीत जाने के बाद भी निगम की ओर से कोई पहल नहीं की जा रही है.

इसे भी पढ़ें:पालोनजी म‍िस्‍त्री का न‍िधन, शापूरजी पालोनजी ग्रुप के चेयरमैन के पुत्र साइरस म‍िस्‍त्री रह चुके हैं टाटा ग्रुप के चेयरमैन

डिमांड ड्राफ्ट से आए 76 लाख

फ्लैट के लिए प्रत्येक लाभुक को 6.79 लाख रुपए नगर निगम को देने है. इस राशि से नगर निगम लाभुक को 315 स्क्वायरफीट का फ्लैट देगा, जिसमें एक बेडरूम, एक हॉल, एक किचन, एक टॉयलेट, एक बाथरूम और एक बालकनी शामिल है. इसके लिए लाभुकों ने आवेदन के साथ 5 हजार रुपए का डीडी भी जमा कराया.

ऐसे में 1521 लाभुकों ने 5000 के हिसाब से 76,05,000 लाख रुपए निगम को मिले हैं, लेकिन 8 महीने का समय बीत चुका है.

एक साल में करना था पूरा निर्माण

प्रधानमंत्री ने राजधानी रांची समेत छह जगहों पर लाइट हाउस प्रोजेक्ट का शिलान्यास 1 जनवरी 2021 को किया था. इसके बाद से ही लोगों से आवेदन मांगे गए थे. वहीं एक साल में प्रोजेक्ट को पूरा करने का टारगेट रखा गया था, लेकिन आजतक सभी फ्लैट भी पूरी तरह से कंप्लीट नहीं हो पाए है.

इसे भी पढ़ें:एक साल में 27% घटी पक्की नौकरियां, पिछले पांच सालों में ठेका पर रखे जानेवाले युवकों की संख्या हुई दोगुनीः कांग्रेस

Related Articles

Back to top button