JharkhandRanchi

रांची : पूर्व मुख्य सचिव सजल चक्रवर्ती को इलाज के लिए मिली चार सप्ताह की अस्थायी जमानत

विज्ञापन

Ranchi : झारखंड हाईकोर्ट ने चारा घोटाले के एक मामले में जेल में बंद राज्य के पूर्व मुख्य सचिव सजल चक्रवर्ती को बेहतर इलाज के लिए चार सप्ताह की अस्थायी जमानत दे दी. हाईकोर्ट के न्यायाधीश अपरेश कुमार सिंह ने पूर्व मुख्य चक्रवर्ती को इलाज के लिए चार सप्ताह की अस्थायी जमानत प्रदान की. अदालत ने उन्हें एम्स में ही इलाज कराने का निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें- “सिंह मेंशन को टेंशन” देने में पहली बार उछला ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ का नाम

कोर्ट ने सजल को एम्स में इलाज का दिया निर्देश

सुनवाई के दौरान न्यायालय ने चक्रवर्ती की स्वास्थ्य से संबंधित मेडिकल रिपोर्ट का अवलोकन किया. रिपोर्ट में उनके बेहतर इलाज की अनुशंसा की गई थी. जिसके बाद कोर्ट ने उन्हें एम्स में इलाज कराने का निर्देश दिया. कोर्ट ने कहा कि वो पहले एम्स के चिकित्सक से मिलने का समय लेकर उसका विवरण निचली अदालत में दाखिल करें. उसके बाद उन्हें न्यायिक हिरासत से रिहा करने का निर्देश दिया जाएगा.

advt

इसे भी पढ़ें- ‘सरकार की कारगुजारियां उजागार करने वाले को देशद्रोही का तमगा देना बंद करें रघुवर सरकार’

अवैध निकासी मामले में सुनायी गयी सजा

गौरतलब है कि सीबीआई कोर्ट में चक्रवर्ती को चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी के मामले सजा सुनाई गई है. उन्हें अवसाद, रक्तचाप और हृदय से सम्बन्धित बीमारी है. जिस मामले को लेकर सजल पर आरोप लगा है वह 1992-95 के बीच चाईबासा कोषागार से अवैध आवंटन पत्र के जरिए 37 करोड़ की निकासी का है. उस समय सजल चक्रवर्ती चाईबासा के डीसी थे. कोषागार का प्रभार भी उन्हीं के पास था. जिसकी वजह से उनपर यह आरोप है कि कोषागार से अवैध निकासी को उनके द्वारा नजरअंदाज किया गया.

इसे भी पढ़ें- ग्राम न्यायालयों की स्थापना राज्य सरकार की जिम्मेदारी, केवल 9 राज्यों में 210 ग्राम न्यायालय ही कार्यरत

इसे भी पढ़ें- रांची में महामारी से अब तक तीन लोगों की मौत, जांच में मिले चिकनगुनिया के 27 व डेंगू के 2 मरीज

adv

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button