JharkhandLead NewsRanchi

Ranchi: पॉल्यूशन कंट्रोल के लिए नगर निगम अलग-अलग उठाएगा सूखा-गीला कचरा

Ranchi: रांची नगर निगम क्षेत्र में अब घरों से मिक्स कचरा नगर निगम नहीं उठाएगा. इसके लिए नगर निगम ने सेपरेटर लगी गाड़ियों से कूड़ा उठाना शुरू कर दिया है. ऐसे में अगर आप कचरा अलग-अलग नहीं रखेंगे तो इससे आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. वहीं कचरा कई दिनों तक आपके घर में ही पड़ा रहेगा. इसलिए कचरा दो अलग-अलग डस्टबिन में रखने की आदत बना ले. बताते चलें कि इसके लिए नगर निगम लोगों को जागरूक करने का भी काम कर रहा है. वहीं इसके डिस्पोजल की भी तैयारी शुरू कर दी गई है जिससे कि पॉल्यूशन में कमी आएगी.

इसे भी पढ़ें: डीएसई लातेहार पर अवैध वसूली का आरोप, आरडीडीई को मेल पर की शिकायत

डिस्पोजल के लिए घर से ही तैयारी

सूखा और गीला कचरा डिस्पोजल के लिए भी निगम ने काम तेज कर दिया है. इसलिए अब कचरा घरों से सेपरेट उठाया जाएगा. जिससे कि गीला कचरा डिस्पोजल के लिए भेज दिया जाएगा. वहीं सूखा कचरा की कैटेगरी में बांटते हुए उसे स्क्रैप में बेच दिया जाएगा. इससे भी रांची नगर निगम को कुछ राजस्व मिलेगा. बताते चलें कि नई गाड़ियों में गीला और सूखा कचरा के लिए अलग-लग चैंबर बने है.

पॉल्यूशन कंट्रोल पर निगम का फोकस

राजधानी में पॉल्यूशन का लेवल बढ़ता जा रहा है. वहीं नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने पहले से ही रांची नगर निगम को कंट्रोल करने की सलाह दी है. जिससे कि आने वाले दिनों में स्थिति भयावह नहीं होगी. ऐसे में रांची नगर निगम ने पॉल्यूशन कंट्रोल करने की योजना बनाई है. वहीं अधिकारियों की पहल के बाद इसकी शुरुआत भी कर दी गई है. जी हां, रांची नगर निगम ने डोर टू डोर कचरा उठाने वाली 40 गाड़ियां खरीदी है, जो सीएनजी से चलेगी. इससे रांची नगर निगम को फ्यूल पर खर्च से राहत मिलेगी. वहीं इससे पॉल्यूशन में कमी आएगी. बताते चलें कि रांची नगर निगम की अब गाड़ियों को सीएनजी से चलाने की योजना है.

चार एंटी स्मोक गन हवा को करेगा साफ

नगर निगम ने एंटी स्मोक गन का आर्डर कर दिया है. ये मशीने इसी महीने नगर निगम के बेड़े में शामिल हो जाएंगी. जिससे कि राजधानी की हवा को प्रदूषण से मुक्त बनाया जाएगा. इसके अलावा वाटर स्प्रिंकलर भी खरीदी जा रही है. जो हवा में फैले धूल को रोकने में मदद करेगी. स्मार्ट सिटी कार्पोरेशन और स्टेट पाल्यूशन कंट्रोल बोर्ड भी इस काम में नगर निगम की मदद करेगा. जिससे कि ग्रीन सिटी बनाने का काम तेज होगा.

 

Related Articles

Back to top button