JharkhandLead NewsRanchi

रांची : हटिया डैम से पानी ओवरफ्लो होने के बाद भी फाटक खोलने के मूड में नहीं है पेयजल विभाग, गेट के ऊपर से पानी का रिसाव शुरू

Ranchi : राज्यभर में लगातार बारिश जारी है. 26 सितंबर तक जोरदार बारिश होने की संभावना जतायी गयी है. येलो अलर्ट भी जारी किया गया है. कई सालों बाद ऐसी स्थिति आयी है कि बारिश के कारण हटिया डैम, रांची लबालब भर गया है. पानी खतरे के निशान पर पहुंच चुका है. इस डैम में ओवर स्पीलवे शुरू हो गया है. गेट के ऊपर से पानी का रिसाव होना भी शुरू हो गया है. स्पीलवे नंबर 2 और 3 में गेट के ऊपर से पानी रिसने लगा है. गेट नंबर 3 के बगल में लीकेज भी शुरू है. इससे लगातार पानी निकल भी रहा है. पर पेयजल विभाग अभी डैम का फाटक खोलने की तैयारी में नहीं है. वह अगले कुछ दिनों में बारिश की स्थिति को देखते हुए ही अंतिम फैसला लेगा.

इसे भी पढ़ें :  जीतराम मुंडा हत्याकांड : पुलिस तीन लोगों को हिरासत में ले कर रही पूछताछ, मनोज मुंडा फरार

12 सालों से खराब है स्पील-वे

हटिया डैम के स्पीलवे का डोर 2009-2010 से खराब है. अब डैम का जलस्तर खतरे के निशान को पार हुआ है तो विभाग तैयारियों में लगा है. पिछले दो दिनों से इसमें इंजीनियरों की विशेष टीम लगी हुई है. गुरुवार को भी विभाग की ओर से इसे ठीक करने को कर्मियों को लगाया गया था. स्पील-वे के ठीक रहने पर ही डैम का गेट खोला जा सकेगा. डैम की क्षमता 38 फीट तक है. हालांकि विभागीय इंजीनियर भी मान रहे हैं कि यह 39 फीट से ऊपर हो चुका है. बावजूद इसके गेट खोले जाने पर अभी निर्णय नहीं लिया जा रहा.

इसे भी पढ़ें :  रिम्स से फरार कैदी मुजफ्फरपुर से गिरफ्तार

क्या कहते हैं विभागीय पदाधिकारी ?

हटिया डैम की वर्तमान स्थिति का जायजा लेने बुधवार को इंजीनियर (पेयजल एवं स्वच्छता) प्रमुख श्वेताभ कुमार समेत कई अन्य विभागीय अधिकारी वहां गये थे. इसके बाद श्वेताभ ने कहा था कि अभी चिंता की कोई विशेष बात नहीं है. लगातार दो इंटेक पंप से पानी निकाला जा रहा है. डैम ड्रिंकिंग वाटर रिजर्वायर है. यह बेहद कीमती है. इसे बचा कर रखना है. ऐसे में अभी फाटक खोले जाने को लेकर कोई फैसला हड़बड़ी में नहीं लिया जायेगा. पूरी टेक्निकल टीम इस पर नजर बनाये हुए है. आगामी दिनों में बारिश और डैम के जलस्तर की स्थिति को देखते हुए ही इस पर कोई निर्णय लिया जायेगा.

पानी की राशनिंग से राहत

अरसे बाद हटिया डैम का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर हुआ है. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि अगली गर्मियों में इससे पानी की राशनिंग नहीं होगी. पिछले कई सालों से गर्मी के महीने में लाखों की आबादी को पानी के राशनिंग के कारण जलसंकट से जूझना पड़ रहा है. पर अगली दफा हटिया, धुर्वा और अन्य इलाकों के लोगों को नियमित तौर पर पानी सप्लाई हो सकेगा. श्वेताभ कुमार के मुताबिक हटिया डैम के पानी से लंबे समय तक लोगों की प्यास बुझेगी.

इसे भी पढ़ें : मेयर आशा लकड़ा ने सीएम को लिखा पत्र, महाधिवक्ता के मंतव्य से बढ़ सकता है भ्रष्टाचार

Advt

Related Articles

Back to top button