JharkhandRanchi

रांची DC का निर्देश: सभी निजी अस्पताल बढ़ाएं एसिंप्टोमेटिक और माइल्ड सिंप्टम मरीजों के लिए बेड

विज्ञापन
Advertisement

-किसी भी मरीज को इलाज के लिए नहीं कर सकते हैं मना

Ranchi: रांची डीसी छवि रंजन की अध्यक्षता में प्राइवेट हॉस्पिटल संचालकों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गयी. बैठक में सभी निजी संचालकों से झारखंड सरकार के दिशा निर्देशों को ध्यान में रखते हुए एसिम्प्टोमेटिक मरीजों के लिए बेड की संख्या बढ़ाने पर जोर दिया गया. साथ ही सभी निजी अस्पताल संचालकों को कड़ाई के साथ यह कहा गया है कि वो किसी भी कीमत पर मरीजों को इलाज के लिए मना नहीं करेंगे.

सभी से सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों के तहत एसिम्प्टोमेटिक, माइल्ड सिम्पटम वाले मरीजों के लिए कोविड केयर सेंटर तैयार करने को कहा गया. साथ ही साथ ऐसे अस्पताल जिन्होंने अपने अस्पतालों में पहले से ही इलाज के लिए बेड तय किये हुए हैं, उन्हें बेड की संख्या बढ़ाने को कहा गया. ताकि हर एक व्यक्ति को समुचित इलाज उपलब्ध करवायी जा सके.

advt

डीसी छवि ने कहा कि, “कोविड-19 के जितने भी मामले रांची जिला में सामने आ रहे हैं, उनमें ज्यादातर मामले एसिम्प्टोमेटिक, माइल्ड सिम्पटम वाले मरीजों की है. मरीजों की संख्या बढ़ी है और एसिम्प्टोमेटिक मरीजों के लिए आइसीयू कोविड डेडिकेटेड अस्पताल में दाखिले की जरूरत नहीं है. ऐसे में प्राइवेट कोविड केयर सेंटर की मदद से लोगों को सुविधा उपलब्ध करवायी जा सकती है.”

इसे भी पढ़ें – RIMS में प्लाज्मा डोनेशन की शुरुआत तो हुई पर मात्र 3 यूनिट ही प्लाज्मा हो सका है डोनेट, मशीन की कमी भी बन रही वजह

किसी भी कीमत पर इलाज के लिए मना न करें: डीसी

रांची डीसी छवि ने सभी निजी अस्पतालों को सख़्त लहजे में कहा कि, “कोविड मरीजों के अलावा आपके अस्पताल में रोजाना अलग-अलग समस्याओं के साथ लोग इलाज के लिए पहुंचते हैं. ऐसे में किसी भी मरीज का इलाज संदेह के आधार पर मना नहीं करें. अगर संदेह की स्थिति हो सिम्पटम दिखाई दें तो उनकी जांच करवाएं.

इसके अतिरिक्त अभी भलाई इसी में है कि हर एक मरीज का इलाज कोविड-19 से बचने के लिए जारी की गयी ICMR एवं राज्य सरकार की गाइडलाइन का अनुपालन करते हुए किया जाए. अगर इस तरह की शिकायत मिलती है कि किसी अस्पताल ने इलाज करने से मना किया है तो यह हमारे लिए एक शर्मनाक स्थिति है और ऐसे में हमें कड़े कदम उठाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा. इस विपरीत परिस्थिति में हमें साथ मिलकर लोगों की सेवा करनी होगी.”

कोविड संक्रमित मरीज की पुष्टि हो तो जिला प्रशासन को बताए बिना डिस्चार्ज नहीं

बैठक में सभी निजी अस्पतालों से यह कहा गया है कि अगर किसी मरीज का सरकारी या निजी लैब से जांच रिपोर्ट पॉजिटिव मिलता है. और आपके पास इलाज की सुविधा नहीं हो तो डिस्चार्ज करने से पहले इसकी जानकारी जिला प्रशासन को मिलनी चाहिए. जिला प्रशासन को बिना जानकारी दिए अगर किसी मरीज को डिस्चार्ज किया जाता है तो ऐसे मामलों में कार्रवाई की जाएगी.

इसे भी पढ़ें –अश्लील फिल्म बनाकर पोर्न वेबसाइट को 10 लाख में बेची, वेब सीरीज में काम का दिया था झांसा

advt
Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: