न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रेंगती रही रांची,आराम फरमाती रही ट्रैफिक पुलिस

सहायक पुलिस के जिम्मे है यातायात की कमान

eidbanner
153

chandan

Ranchi : राजधानी रांची की सुरक्षा व्यवस्था यूंही चौपट नहीं है, सुरक्षा व्यवस्था जिनके हाथों में है वे ही आराम फरमाते नजर आते हैं. राजधानी का सबसे व्यस्तम चौक मेन रोड का सुजाता चौक माना जाता है. जहां सुबह से ही ट्रैफिक का दवाब बढने लगता है. जैसे-जैसे दिन चढ़ता है ट्रैफिक बढ़ता ही जाता है. कई बार घंटों लोगों को इस ट्रैफिक में जाम की वजह से फंसना भी पड़ता है. लेकिन लोगों को इस जाम से निजात दिलाने की जिम्मेवारी जिनके उपर है वे ही अपनी जिम्‍मेदारी को नहीं निभाते हैं. बुधवार को दिन के दो बजे जब मेन रोड में वाहनों की लंबी कतारें लगी थीं, उस वक्त सुजाता चौक के सभी ट्रैफिक पुलिसकर्मी आराम फरमा रहे थे.वहीं ट्रैफिक संभालने की जिम्मेवारी सहायक कर्मियों को सौंप दी गयी थी. सहायक से जब जानने की कोशिश की गयी तो उन्होंने बताया कि प्रतिदिन का यही हाल है. लगभग 6 महीने से मैं ही सिग्नल दे रहां हूं.

इसे भी पढ़ें- फाइनेंशियल क्राइसेस से गुजर रहा झारखंड, खजाने में पैसे की किल्लत ! 300 अफसरों-कर्मचारियों का…

तीन दिन बाद रांची आने वाले हैं पीएम

Related Posts

लातेहारः SDO सह LRDC जयप्रकाश झा समेत पांच रेवेन्यू अफसरों पर धोखाधड़ी का केस दर्ज, जमीन का फर्जी दस्तावेज तैयार कर हड़प ली दिव्यांग की राशि

भुसाड़ ग्राम निवासी जंगाली भगत ने टोरी-महुआमिलान नई वीजी रेलवे लाईन निर्माण में स्वीकृत भूमि अधिग्रहण की राशि में हेराफेरी करने का लगाया आरोप

एक और जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रांची आगमन को लेकर पूरी पुलिस महकमे में गहमागमी बढ़ी हुई है, वहीं दूसरी तरफ सुरक्षा का एक नजारा यह भी है जहां ट्रैफिक पुलिस को इन सब से कोई लेना देना नहीं. प्रधानमंत्री 23 सितंबर को रांची में होंगे, लेकिन यहां की सुरक्षा व्यवस्था भगवान भरोसे ही है. अभी दो दिन में ही दो घटनाएं घट चुकी है जिसमें अपराधियों ने बैखौफ होकर गोली चलाई और पुलिस की गिरफ्त में आने से पहले ही भाग गये. सबसे चौंकाने वाली घटना तो सीएम आवास के पास घटी, सीएम आवास जहां चारो ओर पुलिस ही दिखते है. ऐसी जगह पर किसी को गोली मारकर भाग जाना अपने आप में दुर्भायपूर्ण है. इन घटनाओं की वजह कहीं न कही ट्रैफिक पुलिस द्वारा अपनी जिम्मेवरी के अच्छी तरीके से नहीं निभाना है.

इसे भी पढ़ें- मैनहर्ट मामला: विजिलेंस ने मांगी 5 बार अनुमति, हाईकोर्ट का भी था निर्देश, FIR पर चुप रहीं राजबाला

वीआइपी को आते देख आ जाते हैं हरकत में

ट्रैफिक पुलिस ऐसे तो अपनी जिम्मेदारी में कोताही बरतते हैं लेकिन जैसे ही इन्हें पता चलता है कि सीएम, राज्यपाल, डीजीपी या अन्य कोई वीआइपी आ रहा है टोपी,बेल्ट कसकर ये खड़े हो जाते हैं. इन्हें देख कर यूं लगता है जैसे अपनी जिम्मेदारी को बखुबी निभा रहे हैं, लेकिन वीआइपी के जाते ही फिर अपने रुप में आ जाते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: