Main SliderRanchi

रांची के कोचिंग सेंटर लूट कथा-02 : जानिये फीस के मामले में किस तरह लूट रहे हैं रांची के कोचिंग संस्थान

-ऑनलाइन कोचिंग के मुकाबले 09 गुणा ज्यादा फीस वसूल रहे हैं रांची के कोचिंग संस्थान.

-ऑनलाइन क्लासेस में एक साल की फीस है 36 हजार, रांची के कोचिंग संस्थान ले रहे 1.40 लाख.

advt

Rahul Guru

Ranchi: रांची के कोचिंग संस्थान अभिभावकों को सीधा लूट रहे हैं. अभिभावक ठगे जा रहे हैं. कोचिंग संस्थान फीस तो ऑफलाइन क्लास की ले रहे हैं. पर, पढ़ा रहे हैं ऑनलाइन. वह भी ऑफलाइन का आधा. कोचिंग संस्थान ऑनलाइन क्लास कराने की बात करते हैं. और कई तरह के ऑफर देते हैं.

इसे भी पढ़ेंः#CoronaUpdate: देश में संक्रमितों का आंकड़ा एक लाख 45 हजार के पार, 4100 से अधिक की मौत

ऑफर बनाने में कोचिंग संस्थान तिकड़म लगाते हैं. अभिभावकों को घुमा-फिरा कर समझाते हैं. जिस कारण वे ठगी के शिकार बन जाते हैं. ऑनलाइन क्लास कराने के लिये रांची के कोचिंग संस्थान जो फीस ले रहे हैं, वह ऑनलाइन क्लास कराने वाले देश के चुनिंदा व बेहतरीन संस्थानों से 9 गुणा ज्यादा है.

ऐसे समझिए लूट का गणित

सबसे पहले उन संस्थानों का नाम जान लें, जो रांची के प्रमुख कोचिंग संस्थान माने जाते हैं. हर तीसरे-चौथे दिन अखबारों में एक-एक पन्ने का उनका विज्ञापन होता है. शहर के हॉर्डिंग्स पर भी बड़े-बड़े कट आउट देखने को मिल जायेंगे. इनमें फिटजी, गोल इंस्टीट्यूट, बायोम इंस्टीट्यूट, न्यूटन ट्यूटोरियल, चैंप्स स्क्वेयर, ब्रदर्स एकेडमी आदि शामिल है.

कोरोना संकट के बाद ये सभी संस्थान ऑनलाइन क्लासेस ऑफर कर रहे है. ऑनलाइन क्लासेस के लिए ये संस्थान जो फीस ले रहे हैं, वह ऑफलाइन क्लास की ही किस्त है. मतलब यह कि फीस तो ले रहे हैं ऑफलाइन क्लास की, लेकिन कोरोना की मजबूरी बताकर पढ़ा रहे हैं ऑनलाइन.

रांची के अधिकांश कोचिंग संस्थान छात्रों से औसतन 7000 रुपये ले रहे हैं. इस खबर में जिन कोचिंग संस्थानों का नाम उल्लेख है, उन सभी से बात की गई. सभी का कहना है कि जब तक स्थिति सामान्य नहीं हो जाती तब तक इसी फीस में पढ़ाते रहेंगे. जब स्थिति सामान्य हो जायेगी, तब इस फीस को ऑफलाइन क्लासेस की फीस में एडजेस्ट कर दिया जायेगा.

इसे भी पढ़ेंःरांची के कोचिंग सेंटर लूट कथा-01: पढ़ा रहे हैं ऑनलाईन, फीस वसूल रहे ऑफलाईन क्लास के

लेकिन वे इस सवाल का जवाब नहीं दे पाये कि पूरा साल ऑफलाइन क्लासेस चलाना संभव नहीं हुआ, तो क्या कोचिंग संस्थान इसी 7000 रुपये में क्लास देते रहेंगे? इस सवाल पर किसी भी कोचिंग संस्थान ने कोई स्पष्ट जवाब नहीं दिया.

कोचिंग संस्थान यहीं पर ठगी कर रहे हैं. दरअसल ऑनलाइन क्लासेस के नाम पर जो फीस ले रहे हैं, वे ऑनलाइन की नहीं बल्कि ऑफलाइन की फीस है. इसीलिए वे स्थिति सामान्य होने पर इस फीस को एडजेस्ट करने की बात कह रहे हैं.

बायोम कोचिंग के निदेशक पंकज सिंह के मुताबिक, अगर लॉकडाउन लंबा चला तो जो फीस यानी औसतन 7000 अभी लिया जा रहा है, उसकी दूसरी किस्त अभिभावकों को देनी होगी. मतलब अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि वह ऑनलाइन क्लासेस की कितनी फीस लेंगे और ऑफलाइन की कितनी. इस तरह अभिभावकों को अंधेरे में रखा जा रहा है.

इसे भी पढ़ेंःमजदूरों का दर्द: 2 की जगह 9 दिन में पहुंच रही श्रमिक ट्रेनें, भूख और प्यास ने एक दिन में ले ली 7 जान

अब समझिए कैसे ले रहे 09 गुणा अधिक फीस

रांची के कोचिंग दो तरह के कोर्स चलाते हैं. पहला है एक वर्षीय कोर्स, जिसमें 12वीं पास करने वाले बच्चे एडमिशन लेते हैं. दूसरा है दो वर्षीय कोर्स जिसमें 10वीं पास करने वाले स्टूडेंट्स नामांकन लेते हैं. इन दोनों तरह के कोर्स की फीस अलग-अलग होती है.

बायजू क्लासेस, वेदांतू क्लासेस, अन एकेडमी, सुलेखा, ज्ञानदाता जैसे कोचिंग संस्थान ऑनलाइन क्लासेस चलाते हैं. ये संस्थान देश भर में प्रसिद्ध हैं. ये भी एक वर्षीय और दो वर्षीय कोर्स कराते हैं. दोनों तरह के कोर्स की फीस अलग-अलग होती है.

अब उदाहरण से समझें. अन एकेडमी, एक ऑनलाइन कोचिंग संस्थान है. यह इंजीनियरिंग परीक्षा की तैयारी के लिए एक वर्षीय और दो वर्षीय कोर्स की फीस 36000 रुपये लेता है. जबकि रांची का एक कोचिंग संस्थान है ब्रदर्स एकेडमी.

यह अपने दो वर्षीय प्रोग्राम के लिए लगभग 3.25 लाख रुपये लेता है. यानी अन एकेडमी के मुकाबले ब्रदस एकेडमी की फीस 9 गुणा ज्यादा है. चूंकि अब ब्रदर्स एकेडमी भी ऑनलाइन क्लास ही चला रहा है, तो ऑफलाइन फीस लेना समझ से पड़े है.

ऐसी है रांची के कोचिंग संस्थानों की फीस

गोल इंस्टीट्यूट

मेडिकल 1 वर्ष की फीस : 99000 (इंस्टॉमेंट में देने पर), 89000 (एकमुश्त देने पर),

मेडिकल 2 वर्ष की फीस : 1.98 हजार (स्टॉलमेंट में देने पर), 1.83 लाख (एकमुश्त देने पर)

इंजीनियरिंग 1 वर्ष की फीस : 75000 (स्टॉलमेंट में देने पर), 65000 (एक मुश्त देने पर)

इंजीनियरिंग 2 वर्ष की फीस : 1.41 हजार (स्टॉलमेंट में देने पर), 1.26 लाख (एकमुश्त देने पर)

न्यूटन ट्यूटोरियल प्रा. लिमिटेड

इंजीनियरिंग 1 वर्ष की फीस : 50000

इंजीनियरिंग 2 वर्ष की फीस : 100000

ब्रदर्स एकेडमी इंस्टीट्यूट

इंजीनियरिंग 1 वर्ष की फीस : 1.38 लाख

इंजीनियरिंग 2 वर्ष की फीस : 3.25 लाख

बायोम इंस्टीट्यूट

मेडिकल 1 वर्ष की फीस : 88000

मेडिकल 2 वर्ष की फीस : 1.65 लाख

चैंप्स स्क्वेयर इंस्टीट्यूट

इंजीनियरिंग 1 वर्ष की फीस : 1.36 लाख

इंजीनियरिंग 2 वर्ष की फीस : 2.63 लाख

फिटजी रांची सेंटर

इंजीनियरिंग 1 वर्ष की फीस : 1.05 लाख प्लस जीएसटी

इंजीनियरिंग 2 वर्ष की फीस : 3.60 लाख

ऑनलाइन कोचिंग की फीस

अन एकेडमी: एक महीने से 24 महीने तक का क्लास ऑफर करता है. यहां एक महीने के क्लास की फीस 6000 रुपये, तीन महीने के क्लास की फीस 15000 रुपये, छह महीने के क्लास की फीस 24000 रुपये, 12 महीने के क्लास की फीस 30000 से 36000 रुपये है. यह फीस मेडिकल और इंजीनियरिंग दोनों ही कोर्स के लिए है.

बायजू क्लासेस: मेडिकल-इंजीनियरिंग परीक्षाओं की तैयारी की कोर्स फीस 65000 हजार रुपये से 90000 रुपये के बीच है.

वेदांतू क्लासेस: एक साल के इंजीनयरिंग और मेडिकल परीक्षा की तैयारी 64799 रुपये में करा रही है.

इसे भी पढ़ेंःदिल्ली-गाजियाबाद बॉर्डर सील होने से गाड़ियों की लगी लंबी कतार, लोगों को हो रही परेशानी

Nayika

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: