न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नॉर्थ-ईस्ट के लोगों के लिए संजीवनी साबित होगा रांची का कैंसर हॉस्पिटल : रतन टाटा

कांके स्थित रिनपास परिसर में रांची कैंसर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर का हुआ शिलान्यास, सीएम ने कहा- दो साल में बनकर तैयार हो जायेगा हॉस्पिटल

48

Ranchi : रांची का कैंसर हॉस्पिटल लोगों के लिए संजीवनी साबित होगा. यहां के लोगों को कैंसर का इलाज कराने अब बाहर जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी. राज्य के मुख्यमंत्री रघुवर दास का प्रयास रंग लाया. मुख्यमंत्री ने मोमेंटम झारखंड के दौरान कैंसर अस्पताल प्रारंभ करने की बात कही थी. डेढ़ साल बाद दूरदर्शी मुख्यमंत्री का प्रयास सफल हुआ. यह अस्पताल नॉर्थ-ईस्ट के लोगों के लिए संजीवनी साबित होगा. रांची आकर इस कार्य को संपन्न कर मैं खुश हूं. उक्त बातें टाटा ग्रुप के चेयरमैन पद्मविभूषण रतन टाटा ने कांके स्थित रिनपास परिसर में शनिवार को कैंसर अस्पताल एवं रिसर्च सेंटर के शिलान्यास के मौके पर कहीं. उन्होंने कहा कि हर वर्ष लाखों लोग इस बीमारी से मर रहे हैं. हमारी कोशिश है कि आनेवाले वर्षों में कैंसर से मरनेवाले लोगों की संख्या में कमी की जाये. इस निमित कार्य और अनुसंधान हो रहे हैं. गौरतलब है कि रिनपास परिसर में टाटा ग्रुप ऑफ इंडस्ट्रीज और झारखंड सरकार के बीच समझौते के तहत कैंसर अस्पताल एवं रिसर्च सेंटर का शिलान्यास गया है. अस्पताल के लिए सरकार ने टाटा ट्रस्ट को रिनपास परिसर में 23.5 एकड़ जमीन एक रुपये की टोकन मनी पर लीज पर दी है. अस्पताल का निर्माण टाटा ग्रुप द्वारा सरकार के साथ मिलकर किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- रिम्स के जिस कैंसर विंग पर सरकार 82 करोड़ से अधिक कर चुकी है खर्च, वहां हैं सिर्फ दो डॉक्टर

खेलकूद और ग्रामीण विकास में भी सहयोग करे टाटा ट्रस्ट : रघुवर दास

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इस मौके पर टाटा ट्रस्ट से अनुरोध किया गया राज्य में पंचायतों का विकास करने में मदद करें. टाटा ट्रस्ट 50 प्रतिशत मदद करे और 50 प्रतिशत योगदान सरकार देगी. उन्होंने कहा कि राज्य में 4400 पंचायतें हैं. फेजवाइज प्रत्येक फेज में 1000 पंचायतों का विकास किया जाये. इसके अलावा खेलकूद और कोल्हान और चाईबासा में स्ट्रीट लाइट लगाने में भी योगदान देने का आग्रह किया.

जब सहिया ईमानदारी से कार्य कर सकती है, तो डॉक्टर क्यों नहीं

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि सहिया जब ईमानदारीपूर्वक अपना कर्तव्य निभा सकती है, तो डॉक्टर क्यों नहीं. आज सहियाओं की ही देन है कि राज्य में शिशु और मातृ मृत्यु दर में कमी आयी है. लेकिन, दौलत कमानेवाले डॉक्टर अपनी ड्यूटी ईमानदारीपूर्वक नहीं निभा रहे हैं. मुख्यमंत्री ने मंच से डॉक्टरों को कहा कि डॉक्टर जनसेवा के लिए होते हैं. भगवान ने आपको लोगों की सेवा के लिए बनाया है. लोगों की जिंदगी बहुमूल्य है. उनकी सेवा कीजिए. क्या कीजियेगा इतनी दौलत कमाकर? उन्होंने कहा कि रिम्स और सदर अस्पताल में गरीब मरीजों का इलाज करने में डॉक्टर दिलचस्पी नहीं दिखाते, लेकिन निजी अस्पतालों में वे बड़े  चाव से मरीजों का इलाज करते हैं. यह चिंता का विषय है.

इसे भी पढ़ें- पलामू : सदर अस्पताल की लचर व्यवस्था के खिलाफ कांग्रेस का धरना

palamu_12

मुंबई की तर्ज पर रांची में बनेगा विश्वस्तरीय कैंसर हॉस्पिटल

टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन रतन टाटा और झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने रिनपास परिसर की 23.5 एकड़ भूमि पर बननेवाले कैंसर हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेंटर की शनिवार को नींव रखी. मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य में एक लाख लोग कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से ग्रसित हैं. इसके इलाज के लिए उन्हें दूसरे राज्यों में जाना पड़ता है, जिसमें पैसे खर्च होने के साथ-साथ परेशानी भी बढ़ जाती है. अब झारखंड में ही कैंसर हॉस्पिटल का निर्माण हो जाने से लोगों की समस्या में कमी आयेगी. रघुवर दास ने बताया कि इस हॉस्पिटल में विश्वस्तरीय सुविधा मुहैया करायी जायेगी. अत्याधुनिक मशीनें लगायी जायेंगी. रघुवर दास ने कहा, “मैं भी टाटा का वंशज हूं और टाटा स्टील का मजदूर भी रहा हूं. मोमेंटम झारखंड के दौरान रतन टाटा के समक्ष यह प्रस्ताव रखा था कि इस राज्य में भी एक कैंसर हॉस्पिटल का निर्माण किया जाये, जिसे उन्होंने सहर्ष स्वीकार कर लिया. आनेवाले दो वर्षों में हॉस्पिटल का निर्माण हो जायेगा और लोग इलाज करा सकेंगे. इस कैंसर हॉस्पिटल में शुरुआत में 50 बेड की व्यवस्था रहेगी, जिसे 300 बेड तक बढ़ाया जायेगा. इसके साथ ही अस्पताल में झारखंडवासियों के लिए विशेष सुविधा भी प्रदान की जायेगी. सबसे बड़ी बात है कि 50% बेड झारखंडवासियों के लिए आरक्षित होगा.” मौके पर स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी, स्वास्थ्य सचिव नितिन मदन कुलकर्णी, मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी, टाटा ट्रस्ट के आर वेंकटरमण समेत अन्य अधिकारी, पदाधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें- मोमेंटम झारखंड का हवाला देकर प्राइवेट यूनिवर्सिटी नहीं बना रही अपना कैंपस

अस्पताल में होंगे 14 ऑपरेशन थिएटर

इस अस्पताल में छोटे-बड़े 14 ऑपरेशन थिएटर, 28 बेड का आईसीयू, डायलिसिस, डे-केयर और ब्लड बैंक की सुविधा होगी. बीपीएल परिवारों के वैसे मरीज, जो केंद्र या राज्य सरकार की बीमा योजना या लोक स्वास्थ्य योजना से कवर होते हैं या कवर होंगे, उन्हें अतिरिक्त सहायता दी जायेगी. अस्पताल में स्वास्थ्य योजना आयुष्मान भारत के लाभुकों का भी निःशुल्क इलाज होगा. इसके अलावा अन्य मरीजों को केंद्र सरकार की स्वास्थ्य योजना दर पर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करायी जायेगी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: