JharkhandRanchi

रांची : रेलवे सुरक्षा बल महिला सुरक्षा के अलावा कोरोना में भी निभा रहा है कर्तव्य

Ranchi : रेलवे सुरक्षा बल रांची मंडल द्वारा 37वां रेलवे सुरक्षा बल स्थापना दिवस मनाया गया. इस दौरान परेड का आयोजन किया गया. जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में मंडल रेल प्रबंधक प्रदीप गुप्ता ने परेड की सलामी ली. मंडल सुरक्षा आयुक्त प्रशांत यादव ने स्थापना दिवस की हार्दिक बधाई देते हुये, रेलवे सुरक्षा बल द्वारा वर्ष भर में किए गए सम्पूर्ण कार्य का लेखा-जोखा प्रस्तुत किया. मुख्य अतिथि ने सभी जवानों को हार्दिक बधाई देते हुए इस दिन के महत्व को बताया और कहा कि रेलवे सुरक्षा बल अधिनियम 1957 में संशोधन कर इसे संघ की सशस्त्र बल घोषित कर दिनांक 20.09.1985 से लागू किया गया. साथ ही कहा कि आरपीएफ बाल और महिला सुरक्षा के अलावा कोरोना में भी कर्तव्यों को पूरी ईमानदारी एवं निष्ठा से निर्वहन कर रहा है. रेलवे सुरक्षा बल के स्वर्णिम इतिहास का वर्णन करते हुए इसके द्वारा सभी चुनौतियों पर खरा उतरते हुए आज तक का सफर बताया. सर्वों की अध्यक्ष, एडीआरएम ऑपरेशन, डीसीएससी, सी डीपीओ, सी डीसीएम, सी डीइ एन समेत अन्य मौजूद थे.

 

उन्होंने कहा कि रेलवे सुरक्षा बल रांची रेलवे संपत्ति की सुरक्षा, रेलवे परिसर को अपराध मुक्त रखने, रेलवे यात्रियों की सुरक्षा, विशेष रूप से बाल और महिला सुरक्षा एवं कोरोना में भी कर्तव्यों को पूरी ईमानदारी एवं निष्ठा से निर्वहन कर रहा है. रेलवे सुरक्षा बल रांची द्वारा बाल एवं महिला यात्रियों की सुरक्षा हेतु विशेष पहल की गई है. “मेरी सहेली” एवं “नन्हे फरिश्ते” टीम का गठन कर विशेष अभियान चलाया जा रहा है. मेरी सहेली में आरपीएफ महिला कर्मियों द्वारा मूल स्टेशन पर महिला यात्रियों विशेष रूप से अकेले यात्रा करने वालों के साथ बातचीत कर यात्रा के दौरान सावधानियों के बारे में बताया जाता है. किसी प्रकार की परेशानी होने पर उन्हें सुरक्षा हेल्पलाइन 139 पर फोन करने की सलाह दी जाती है.

advt

मेरी सहेली टीम की महिला आरपीएफ कर्मी ऑटो रिक्शा बस सेवा की उपलब्धता के संबंध में महिला यात्रियों की मदद करती हैं.

नन्हे फरिश्ते आरपीएफ महिला टीम के सदस्य उन मानव तस्करों पर कड़ी नजर रखते हैं जो जबरन मजदूरी, बंधुआ मजदूरी,यौन शोषण,व्यावसायिक शोषण और मानव अंगों की निकासी में शामिल हैं.

 

इसे भी पढ़ें : रिम्स में नियुक्त ट्यूटर को हटाने के खिलाफ दायर याचिका की सुनवाई टली

 

वर्ष 2021 में अगस्त माह तक रेलवे सुरक्षा बल की उपलब्धियां

 

9 अपराधियों को रेलवे संपत्ति अवैध कब्जा अधिनियम के तहत गिरफ्तार किए गए हैं एवं 60269/- रुपए मूल्य की चोरी की गई रेलवे संपत्ति बरामद की गई है.

 

623 व्यक्तियों को रेलवे अधिनियम के तहत गिरफ्तार कर अभियोजित किया गया है एवं 244,570 रुपए जुर्माना वसूला गया.

 

10 अपराधी जो यात्रियों के सामान चुराने में संलिप्त थे उनको पकड़ कर राजकीय रेलवे पुलिस को सुपुर्द किया गया.

 

2974626 मूल्य की निषिद्ध वस्तुएं जैसे कि भांग,गांजा,देसी शराब इत्यादि को जब्त कर संबंधित विभाग को सुपुर्द कर दिया गया.

 

टिकट चेकिंग के दौरान आरपीएफ के सहयोग से रु/4952/- अनाधिकृत यात्रियों को पहचान कर 2251285 रुपए जुर्माना वसूला गया.

 

103 यात्रियों को धूम्रपान करते हुए पकड़ा गया एवं ₹20600 जुर्माना वसूला गया.

 

15 अनाधिकृत रेलवे टिकट दलालों को गिरफ्तार कर ₹- 4,41,733.00  का अनाधिकृत रेलवे टिकट जप्त किया गया.

 

प्रतिदिन औसतन 25 महत्वपूर्ण ट्रेनों की मार्गरक्षण की जा रही है जिसके परिणाम स्वरूप अपराध में कमी हुई.

 

7 मानव तस्कर को पकड़कर Anti Human Trafficking Unit (AHTU)/Local Police को विधिवत सुपुर्द किया गया.

 

182 भटके/बिछड़े हुए बालक व बालिकाओं को उनके परिजन अथवा चाइल्ड हेल्पलाइन को सुपुर्द किया गया.

 

5 यात्रियों को रेलवे सुरक्षा बल के सदस्यों ने तत्परता दिखाते हुए, गाड़ी मे चढ़ते समय गिरने से बचाया.

 

1 नवजात शिशु जिसको प्लास्टिक बैग में अनाथ छोड़ा गया था उसे विधि पूर्वक चाइल्ड हेल्पलाइन को सुपुर्द किया गया.

 

2 व्यक्ति एवं 2 बच्चे, रेलवे परिसर में आत्म हत्या की कोशिश कर रहे थे लेकिन रेलवे सुरक्षा बल के सदस्यों ने तत्परता दिखाते हुए, आत्म हत्या की कोशिश को बिफल कर उनके परिजनों को सुपुर्द कर दिया.

 

रेल मदद (139) सातों दिन चौबीसों घंटा मण्डल सुरक्षा नियंत्रण कक्ष में कार्यरत है एवं वर्ष 2021 माह अगस्त तक कुल-182  शिकायतें प्राप्त हुई एवं सभी का निवारण पूरी तत्परता के साथ तुरंत कर दी गई.

 

वर्ष 2021 माह अगस्त तक ट्विटर (Twitter) पर कुल-39 शिकायत प्राप्त हुई और सभी शिकायतों का सकारात्मक निवारण कर Re-Twitt किया गया.

 

मेरी सहेली टीम की उपलब्धि

41 यात्रियों के छूटे हुए समान को उन्हें सुपुर्द किया गया

 

13 यात्रियों को स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने में सहयोग किया गया

 

नन्हे फरिश्ते के सराहनीय कार्य

258 बालक एवं बालिकाओं को या तो चाइल्ड हेल्प लाइन या उनके परिजनों को सौंप दिया गया

 

07 मानव तस्करों को गिरफ्तार कर 34 अवयस्क बालक एवं बालिकाओं को बचाया गया तथा मानव तस्करों को Anti Human Trafficking Unit (AHTU)/Local Police को सौंप दिया गया

 

वैश्विक महामारी कोविड-19 में रेलवे सुरक्षा बल रांची ने उत्कृष्ट कार्य करते हुए जरूरतमंद लोगों के बीच भोजन सामग्री एवं मास्क का वितरण किया एवं कोविड-19 प्रोटोकॉल को लागू करने में अहम भूमिका निभाई.

 

इसे भी पढ़ें : पलामू : महिला के साथ आपत्तिजनक स्थिति में एएसआई को ग्रामीणों ने पकड़ा, एसपी से कार्रवाई की मांग

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: