न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रांचीः पत्रकार संग जवान ने की मारपीट, एसएसपी ने कार्रवाई का दिया भरोसा

रविवार रात पत्रकार को पेट्रोलिंग पार्टी के जवान ने मारा

398

Ranchi: ऐसा कई बार हुआ है कि जब पत्रकारों ने अपने जान की परवाह किए बिना ही पुलिस की गलत हरकतों से लोगों को जागरुक करने का काम किया है. यह हमारी ड्यूटी भी है. लेकिन रांची पुलिस को शायद यह अच्छा नहीं लगता. इसलिए पुलिस अब पत्रकारों से बदला लेने लगी है. पिछले दिनों थाना क्षेत्र के विवाद में आठ घंटे तक शव को थानों की पुलिस ने उठने नहीं दिया. मीडिया ने जब यह खबर प्रकाशित की, तब जाकर एसएसपी को कार्रवाई करनी पड़ी. पत्रकार रात में अकेले घर लौटते हैं. रास्ते में कोई मिलता है, तो सड़क किनारे ही उससे बातें भी हो जाती है.  रविवार रात पिस्का मोड़ पेट्रोल पंप के पास पत्रकार भवेश पांडेय को एसा करना महंगा पड़ा. दैनिक अखबार रांची एक्सप्रेस के रिपोर्टर भवेश पांडे साथ पुलिस पेट्रोलिंग करने वाले एक जवान ने मारपीट की.

इसे भी पढ़ेंः हार्डकोर नक्सली गिरफ्तार, 4 बंकर ध्वस्त, भारी मात्रा में कारतूस और विस्फोटक बरामद

बिना कुछ सुने जवान ने शुरु की हाथापाई

न्यूज विंग से बातचीत में पीड़ित रिपोर्टर ने बताया कि घटना रविवार रात 10 : 30 बजे पंडरा थाना अंतर्गत घटी है. पेट्रोल पंप के पास संबंधित रिपोर्टर भावेश पांडे अपने किसी मित्र का इतंजार कर रहे थे. कुछ समय बाद उसका दोस्त वहां पहुंचा. वे दोनों आपस में बात कर ही रहे थे, कि पेट्रोलिंग करने वाले एक जवान वहां पहुंचा. उस जवान ने रिपोर्टर से यह सवाल किया कि वे वहां क्या कर रहे है. जबतक वे कुछ जवाब देते, उससे पहले ही उस जवान ने उनके साथ हाथपाई शुरु कर दी.

एसएसपी ने दिया आश्वासन, होगी कार्रवाई

पूरे मामले की जानकारी जब रांची एसएसपी अनिश गुप्ता से ली गयी, तो उनका कहना कि पीड़ित रिपोर्टर भावेश पांडे से उनकी बात फोन पर हुई है. अगर पुलिस के जवान ने संबंधित पत्रकार से किसी तरह का कोई गलत व्यवहार किया है, तो उसपर सोमवार शाम तक कोई कार्रवाई की जाएगी. उन्होंने कहा कि मामले की निष्पक्षता से जांच करने का निर्देश सिटी एसपी को दे दिया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: