JharkhandRanchi

2400 मेगावाट पावर प्लांट 2019 की जगह अब 2022 मार्च में होगी शुरू, दूसरे चरण के लिए भूमि तय नहीं

विज्ञापन

Ranchi :  चार हजार मेगावाट उत्पादन क्षमता वाली पावर प्लांट बनाने की योजना राज्य सरकार ने साल 2015 में बनायी. योजना तहत पहले चरण में 2400 मेगावाट का पावर प्लांट पहले चरण में बननी थी. दूसरे चरण में 1600 मेगावाट पावर प्लांट बनाया जाना था.

पहले चरण का उत्पादन साल 2019 में शुरू होना था, लेकिन अब पहले चरण का कार्य साल 2022 में पूरा किया जायेगा. पतरातू विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड की ओर से पावर प्लांट लगाये जाने का कार्य होना था. जिसे भेल के साथ मिलकर पतरातू विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड पूरी कर रहा है.

इसे भी पढ़ेंः #NagalandPeaceAccord: आखिरी दौर में शांति समझौते की बातचीत, उत्तर-पूर्वी राज्य में कश्मीर वाले हालात

advt

साल 2015 में झारखंड विद्युत विरतण निगम लिमिटेड जेबीवीएनएल की ओर से एनटीपीसी के साथ समझौता किया गया था. पतरातु विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड के अधिकारियों से जानकारी मिली कि 2018 के आखिरी महीनों में पावर प्लांट लगने का कार्य शुरू किया गया. जिससे उत्पादन में देर होगी.

लेकिन इसके लिए लक्ष्य साल 2022 का रखा गया है. बता दें कि पतरातू विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड, राज्य सरकार और एनटीपीसी का संयुक्त उद्यम है.

इसे भी पढ़ेंः #Jamshedpur : ब्राउन शुगर की तस्करी का हब बना आदित्यपुर, करोड़ों का कारोबार

800 मेगावाट के तीन प्लांट बनने हैं

योजना अनुसार 800 मेगावाट के तीन पावर प्लांट लगाये जाने है. इसके लिए पतरातु में भूमि चिन्हित की गयी. साल 2018 से पहले चरण का काम शुरू है. पूरी योजना में जेबीवीएनएल 24 प्रतिशत स्टेक होल्डर है.

adv

पतरातु विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड के अधिकारियों ने बताया कि योजना पूरी होने में कुछ देर तो हुई है. लेकिन लक्ष्य रखा गया है कि 16 से 22 मार्च, 2022 तक पावर प्लांट से उत्पादन शुरू कर दिया जायेगा. लेकिन इस दौरान लगभग एक मेगावाट उत्पादन होगा. पूरी येाजना 18,000 करोड़ की है.

1600 मेगावाट के लिए भूमि तक चिह्नित नहीं

भले ही समझौते में दूसरे चरण का 1600 मेगावाट पावर प्लांट के लिए समय सीमा नहीं तय की हो. लेकिन पतरातु विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड की ओर से इस येाजना के लिए फिलहाल कोई नीति नहीं बनायी गयी है.

पतरातु विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड के एजीएम एचआर सह पीआरओ पीके विश्वास ने बताया, दूसरे चरण की कोई तैयारी अभी तक नहीं है. फोकस पहले चरण में है. 2022 में पहला चरण पूरी होने के बाद ही दूसरे चरण की तैयारी की जायेगी.

वहीं सूत्रों से जानकारी मिली की निगम ने इसके लिए जमीन तक चिन्हित नहीं की है.

इसे भी पढ़ेंः #JPSC: चुनावी मौसम में आयोग निकाल रहा ऐसी वेकेंसी, जिसे पहले ही निकाल कर रद्द कर चुका है

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button