Crime NewsRanchi

रांची: लॉ यूनिवर्सिटी की छात्रा से रेप के मामले में 11 आरोपी दोषी करार, 2 मार्च को होगा सजा का एलान

विज्ञापन

Ranchi : राजधानी के कांके थाना क्षेत्र स्थित लॉ यूनिवर्सिटी की छात्रा से हुए सामूहिक दुष्कर्म मामले में फैसला आ गया है. कोर्ट ने इस मामले में 11 आरोपी – कुलदीप उरांव, सुनील उरांव, संदीप तिर्की, अजय मुंडा, राजन उरांव, नवीन उरांव, बसंत कच्छप, रवि उरांव, रोहित उरांव, सुनील मुंडा, ऋषि उरांव को दोषी करार दिया है.

जबकि मामले का 12 वां आरोपी नाबालिग है. नाबालिग आरोपी पर सुनवाई जुवेनाइल कोर्ट में चलेगा. मामले में दोषी करार दिये गये सभी आरोपियों को 2 मार्च को सजा सुनाई जाएगी. गैंगरेप की यह घटना 26 नवंबर 2019 की है. पीड़िता ने कांके थाने में घटना के अगले दिन 27 नवंबर को मामला दर्ज कराया था.

advt

इसे भी पढ़ें – बायोमेट्रिक अटेंडेंस नहीं बनानेवाले 3296 सरकारी शिक्षकों वेतन रुकेगा

21 गवाहों की गवाही कराई गई थी

गौरतलब है कि 24 फरवरी को लोक अभियोजक ने आरोपियों पर दोष साबित करने के लिए प्रधान न्यायायुक्त नवनीत कुमार की अदालत में कुल 21 गवाहों की गवाही करायी थी. जबकि आरोपियों की ओर से बचाव में एक भी गवाह पेश नहीं हुआ. सुनवाई के दौरान बिरसा केंद्रीय कारा में बंद सभी 11 आरोपियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेश किया गया था.

इसे भी पढ़ें – 7% घरों में ही है पाइप जलापूर्ति सुविधा, जल जीवन योजना से 2024 तक सभी को नल से जल की मिलेगी सुविधाः मिथिलेश ठाकुर

adv

क्या है मामला

पीड़िता ने प्राथमिकी में बताया था कि 26 नवंबर की देर शाम वो संग्रामपुर बस स्टॉपेज पर अपने मित्र के साथ बैठी हुई थी. तभी वहां बाइक सवार दो और कार में बैठे सात युवक पहुंचे. बाइक सवार युवकों ने पहले उसके साथ मारपीट की, फिर जबरन उठाकर बाइक से ले गये.

एक नर्सिंग होम के पास उनकी बाइक की तेल खत्म हो गयी, तो पीछे से आ रही उक्त कार में डालकर एक ईंट भट्ठे की ओर ले गये. वहां सभी ने उसके साथ बारी-बारी से दुष्कर्म किया. कुछ देर बाद छात्रा के दोस्त की स्कूटी से तीन और युवक वहां पहुंचे थे.

मामला दर्ज होने के बाद 27 नवंबर को पुलिस ने कुल 16 युवकों को पकड़ा था. लेकिन घटना में शामिल आरोपियों ने खुद ही कबूल लिया कि घटना में 12 लोग ही शामिल थे. मामले की एफएसएल की जांच रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि हुई थी कि 12 आरोपियों में से 8 ने छात्रा के साथ दुष्कर्म किया था. पुलिस ने सभी 12 आरोपियों के ब्लड सैंपल पीड़िता के वस्त्र पर मिले वीर्य से मिलान के लिए एफएसएल को भेजा था.

इनमें आठ आरोपियों के ब्लड सैंपल पॉजिटिव मिले थे.पीड़िता ने पुलिस को बताया था कि एक आरोपी ने उसके साथ दो बार दुष्कर्म किया था.आरोपियों ने जिस तरह उसे पकड़ रखा था, अगर वह थोड़ा भी विरोध करती तो वे उसकी हत्या कर सकते थे.

सौ दिन के अंदर पीडिता को मिलेगा न्याय

हाईकोर्ट के निर्देश पर केस की डे-टू-डे सुनवाई हुई. 24 दिन के अंदर चार्जशीट दाखिल कर दी गयी. हाईकोर्ट खुद मामले की मॉनिटरिंग कर रहा था. इसी का परिणाम है कि सौ दिनों के अंदर पीडि़ता को न्याय मिलेगा.

इसे भी पढ़ें –#Delhi_Violence : भाजपा ने कहा, जिनके हाथ सिखों के खून से रंगे हैं, वह हिंसा पर राजनीति कर रहे हैं,  शाह के इस्तीफे की मांग हास्यापद

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close