Ramgarh

रामगढ़ः तीन लोगों की हत्या के मामले में एससी आयोग ने लिया संज्ञान, पीड़ित परिवार से लेंगे जानकारी

विज्ञापन

Ramgarh: जिले के बरकाकाना में 17 अगस्त की रात रेलकर्मी अशोक राम और उनकी पत्नी व बेटी की हुई हत्या के मामले पर एससी आयोग ने संज्ञान लिया है. मिली जानकारी के अनुसार एससी आयोग के सदस्य डॉ. योगेंद्र पासवान सोमवार को घटनास्थल का दौरा करेंगे.

वे पीडि़त परिवार से मुलाकात कर अबतक हुई कार्रवाई का भी ब्यौरा लेंगे. इसके अलावा वे रामगढ़ के उपायुक्त समेत रेलवे और आरपीएफ के वरीय अधिकारियों से घटना के बाद हुई कार्रवाई की जानकारी लेंगे.

इसे भी पढ़ेंःपलामू: टीपीसी के दो उग्रवादी गिरफ्तार, देसी पिस्टल व प्रतिबंधित पर्चा बरामद

advt

आरपीएफ जवान ने की थी ताबड़तोड़ फायरिंग

तीन लोगों की हत्या का आरोप आरपीएफ का जवान पवन कुमार पर है. गौरतलब है कि अशोक राम के यहां से आरोपी जवान दूध ले जाता था और पैसा नहीं दे रहा था. इसलिए उसने दूध बंद कर दिया था.

जवान पवन कुमार 17 अगस्त की शाम फिर दूध मांगने गया तो घर के लोगों ने उसे बताया कि दूध खत्म हो गया है. वहीं दूध नहीं मिलने पर जवान गुस्से में आ गया और दोनों के बीच बहस हुई.

इसके बाद आरपीएफ जवान पवन कुमार ने गुस्से में आकर पूरे परिवार पर ताबड़तोड़ फायरिंग शुरू कर दी. आरपीएफ के जवान के द्वारा किये गये गोलीबारी में रेलकर्मी अशोक राम व उनकी पत्नी लीला देवी और अशोक राम की बेटी मीना देवी की मौत हो गयी. जबकि दो घायलों का इलाज चल रहा है.

बैरक में पिस्टल छोड़कर फरार हुआ आरोपी जवान

17 अगस्त की रात नशे में धुत आरपीएफ जवान ने दूध मांगने के बहाने रेलकर्मी अशोक राम के घर में घुसकर रेलकर्मी समेत परिवार के पांच लोगों को गोली मारकर फरार हो गया.

adv

इसे भी पढ़ेंःविदेशी निवेशकों का टूटा भरोसा- जुलाई से दोगुणा अगस्त में निकालें पैसे

बताया जा रहा है कि रेलकर्मी अशोक राम सहित परिवार के पांच लोगों को गोली मारने के बाद जवान आरपीएफ के बैरक में गया था. वह बैरक में ही हत्या में इस्तेमाल की गयी सरकारी पिस्टल छोड़कर भाग गया था, जिसे बाद में पुलिस ने बरामद कर लिया.

विरोध में लोगों ने किया था रेलवे ट्रैक और रोड जाम

बरकाकाना रेलवे कॉलोनी में 17 अगस्त को हुई इस हत्याकांड के विरोध में रविवार को आक्रोशित ग्रामीणों ने रामगढ़-भुरकुंडा मुख्य मार्ग को जाम कर दिया था. सुबह से स्टेशन रोड सहित चौक के आसपास के सभी दुकानें भी बंद थी.

हत्यारे की गिरफ्तारी व आश्रितों को नौकरी की मांग को लेकर बरकाकाना रेलवे स्टेशन में ट्रैक जाम कर दिया था. साथ ही भुरकुंडा-रामगढ़ मार्ग को भी सुबह से जाम कर दिया गया था, जिससे बरकाकाना रेल रूट से सभी ट्रेनों का आवागमन कई घंटों तक बाधित था.

इसे भी पढ़ेंःराज्यपाल का कार्यकाल खत्म होने के बाद कल्याण सिंह बाबरी मस्जिद केस में कर सकते हैं मुकदमे का सामना

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button