न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राम विलास पासवान ने मीसा, मनोज झा पर अभद्र भाषा के इस्तेमाल का लगाया आरोप

सवर्ण आरक्षण को लेकर राजद पर बरसे केंद्रीय मंत्री

1,158

New Delhi: लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष रामविलास पासवान ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि सामान्य श्रेणी के गरीबों के लिए आरक्षण से जुड़े विधेयक पर राज्यसभा में बहस के दौरान राजद सांसद मीसा भारती और मनोज झा ने उनके खिलाफ ‘अभद्र और असंसदीय’ भाषा का इस्तेमाल किया.

hosp3

पासवान ने एक ट्वीट में कहा, ‘मेरे विधेयक का समर्थन करने के बाद नौ जनवरी को राज्यसभा में बहस के दौरान राजद सांसद मीसा भारती और मनोज झा ने मेरे खिलाफ अभद्र और असंसदीय भाषा का इस्तेमाल किया.’ हालांकि, इस मुद्दे पर लालू प्रसाद की अगुवाई वाले राष्ट्रीय जनता दल के दो सांसदों के ओर से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है. मीसा भारती लालू प्रसाद की बेटी है.

विरोधियों पर निशाना

पासवान ने कांग्रेस पर भी निशाना साधा और कहा कि कांग्रेस एक तरफ सामान्य वर्ग के गरीब लोगों के लिए 10 प्रतिशत आरक्षण का समर्थन करती है. और दूसरी ओर आर्थिक आधार पर आरक्षण के घोर विरोधी राष्ट्रीय जनता दल का बिहार में समर्थन करती है.
उन्होंने राजद पर भी हमला करते हुये कहा कि वह एक समय में दो नावों की सवारी कर रहा है. वह बिहार में कांग्रेस के साथ है और उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा के साथ. उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में जनता को तय करना है कि केंद्र में मजबूत सरकार चाहिए या मजबूर सरकार.

संविधान नहीं पढ़ते RJDनेता- पासवान

सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण को असंवैधानिक बताए जाने पर केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने आरजेडी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि आरजेडी के लोग संविधान नहीं पढ़ते हैं. मामले पर उन्होंने कहा कि नरसिंह राव की सरकार ने ऊंची जाति के लोगों को लुभाने के लिए नोटिफिकेशन जारी किया था, लेकिन संविधान में इसके लिए कोई धारा नहीं होने की वजह से इसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया. लेकिन मोदी सरकार ने संविधान में संशोधन कर नई धारा जोड़ी है तो आर्थिक आधार पर सामान्य जाति के गरीबों के लिए आरक्षण असंवैधानिक कैसे रहा?

इसे भी पढ़ेंः रांची नगर निगम ने आयोजित की शहरी समृद्धि उत्सव सह लाभुक सम्मेलन, विपक्ष ने कहा- भाजपा के लिए वोट की राजनीति कर रहा निगम

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: