न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अयोध्या में राम मंदिर जल्द बने, काशी और मथुरा पर भी मुस्लिम संगठन दावा छोड़ें : स्वामी

स्वतंत्रता भवन भवन में लगातार गूंज रहेअयोध्या तो झांकी है, काशी-मथुरा बाकी है,  के नारे के बीच स्वामी ने कहा कि मुस्लिम शासकों ने हिंदुस्तान में 40 हजार मंदिर तोड़े थे. देश के सहिष्णु हिंदू सिर्फ अयोध्या, काशी, मथुरा मांग रहे हैं,

48

Varanasi :  अयोध्या में राम मंदिर जल्द बनना चाहिए. काशी और मथुरा पर मुस्लिम संगठनों को दावा छोड़ देना चाहिए. यह बात भाजपा के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सदस्य सुब्रमण्यम स्वामी ने कही है. बता दें कि सुब्रमण्यम स्वामी विहिप के पूर्व अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंघल की पुण्यतिथि पर बीएचयू के स्वतंत्रता भवन में शनिवार को श्री रामजन्मभूमि मंदिर : स्थिति एवं संभावनाएं विषय पर आयोजित संगोष्ठी में बेाल रहे थे. स्वामी को वहां मुख्य अतिथि के रूप में बुलाया गया था. इस क्रम में उन्होंने कहा कि काशी और मथुरा में तो पुरातात्विक साक्ष्यों की जरूरत भी नहीं है.  हिन्दू समाज की आस्था को देखते हुए संबंधित मुस्लिम संगठनों को आपसी सहमति से इसका समाधान निकालना चाहिए. स्वामी के अनुसार राम मंदिर दूसरों के लिए संपत्ति के अधिकार की लड़ाई है जबकि हिन्दुओं के लिए यह आस्था का विषय है.  कहा कि राम मंदिर निर्माण के लिए अदालत में संविधान के अनुच्छेद 25 के तहत मौलिक अधिकार के रूप में याचिका दाखिल की गयी है लेकिन कांग्रेस उसकी सुनवाई में अड़ंगा लगा रही है.

इसे भी पढ़ें : माकपा के निशाने पर टीएमसी, कहा- पश्चिम बंगाल में सीबीआई की जांच में रुकावट नहीं डाल सकती ममता

अयोध्या में खुदाई के दौरान मंदिर होने के वैज्ञानिक सबूत मिल चुके हैंं

राममंदिर के निर्माण को राष्ट्र की अस्मिता की पहचान के साथ राष्ट्रीय पुनरुत्थान का विषय बताते हुए उन्‍होंने कहा कि आस्था के विषय पर कोर्ट कोई हस्तक्षेप नहीं कर सकता है.  अयोध्या में खुदाई के दौरान मंदिर होने के वैज्ञानिक सबूत मिल चुके हैं, उस जगह पर मंदिर था और यह कोर्ट भी स्वीकार कर चुका है. स्‍वामी ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस के वकील इस मसले पर जल्द फैसला न आये, इसके लिए 5 जजों की बेंच के फैसले को 7 जजों की बेंच के हवाले करने की सिफारिश करके इसमें पांच माह का विलंब कर दिया. स्वतंत्रता भवन में लगातार गूंज रहेअयोध्या तो झांकी है, काशी-मथुरा बाकी है,  के नारे के बीच स्वामी ने कहा कि मुस्लिम शासकों ने हिंदुस्तान में 40 हजार मंदिर तोड़े थे. देश के सहिष्णु हिंदू सिर्फ अयोध्या, काशी, मथुरा मांग रहे हैं, जिसके साक्षात प्रमाण मौजूद हैं कि किस प्रकार उसको तोड़कर मस्जिद का निर्माण कराया गया। मुस्लिम समाज अयोध्या, काशी और मथुरा हिंदुओं को सौंप दें, यह बेहतर होगा.

इसे भी पढ़ें : छत्तीसगढ़: जोगी ने धार्मिक ग्रंथों की कसम खायी, सूली पर चढ़ जायेंगे, भाजपा के साथ नहीं जायेंगे

करोड़ों हिन्दुओं की आस्था राम मंदिर से जुड़ी है

अरुंधती  वशिष्ठ अनुसंधान पीठ की ओर से आयोजित संगोष्ठी में पीठ के अध्यक्ष सुब्रमण्यम स्वामी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस से जब राहुल गांधी की डिग्री मांगी जाती है तो वह टाल जाते हैं.  सोनिया गांधी ने भी संसद में अपनी डिग्री को लेकर गलत दस्तावेज जमा कराये थे.  स्पष्टीकरण मांगे जाने पर उन्होंने इसे टाइपिंग की गलती कहा था. संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए विहिप के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय ने कहा कि करोड़ों हिन्दुओं की आस्था राम मंदिर से जुड़ी है. राम मंदिर देश की अस्मिता का सवाल है.  संगोष्ठी में पीठ के राष्ट्रीय महामंत्री चंद्रप्रकाश, डॉ. ओपी सिंह, जेपी लाल, बीएचयू की चीफ प्राक्टर बीएचयू रोयाना सिंह, विहिप के प्रांत धर्मप्रसार प्रमुख दिवाकर त्रिपाठी आदि मौजूद थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: